ना वे रथवान रहे.(एक गीति संवाद) - प्रेम शर्मा

ना वे रथवान रहे,                         ना वे                         बूढ़े प्रहरी, कहती टूटी दीवट,                         सुन री ...
Read More

तू न जिया न मरा ! - प्रेम शर्मा

तू न जिया न मरा,                        ज्यों कांटे                        पर मछली, प्राणों में दर्द पिरा. *                      ...
Read More

सुन भाई हर्गुनिया, निर्गुनिया फाग - प्रेम शर्मा

जल ही जल नहीं रहा,                      आग नहीं                      आग. सूरत बदले चेहरे,                      सीरत बदला          ...
Read More

पुलिया पर बैठा बूढ़ा - प्रेम शर्मा

पुलिया पर बैठा एक बूढ़ा काँधे पर मटमैला थैला, थैले में कुछ अटरम-सटरम आलू-प्याज हरी तरकारी कुछ कदली फल पानी की एक बोतल भी है म...
Read More

गन्धवाह-सा बौराया मन - प्रेम शर्मा

गन्धवाह-सा बौराया मन आहत स्वर उभरे। * विस्मृत्तियों  का गर्भ  चीरकर जन्मा सुधियों का मृगछौना ,                   ज्यों कुहरे से ...
Read More
osr5366