कहानी : बस एक कदम - ज़किया ज़ुबैरी

Zakia Zubairi, london, uk, story, writer, indian ज़किया ज़ुबैरी, कहानी, कहानीकार, लन्दन, भारतीयसहज सरल स्वभाव की विदुषी ज़किया जी को बचपन से ही सृजनात्मक लेखन एवं चित्रकारी में रुचि रही है। आप हिंदी, अंग्रेज़ी एवं उर्दू तीनों भाषाओं में समान अधिकार रखती हैं। ज़क़िया जी की रचनाएं पत्रिकाओं एवं समाचार पत्रों में प्रकाशित होती रहती हैं। आपकी भाषा में गंगा जमुनी तहज़ीब की सुगंध है। ज़किया जी ने कम किंतु स्तरीय लिखा है। ज़किया जी उन लेखिकाओं में से हैं जो स्वयं को प्रमोट न कर दूसरे लेखकों को मंच प्रदान करने में संतुष्टि महसूस करती हैं। आप एशियन कम्यूनिटी आर्ट्स नाम की संस्था की अध्यक्षा हैं। आपने नृत्य, संगीत, गीत एवं लेखन क्षेत्र में बहुत से नये नर्तकों, गायकों, एवं लेखकों को लंदन में मंच प्रदान करवाया है।

“नहीं मैं नहीं आऊंगी।” शैली को अपनी आवाज़ में भरे आत्मविश्वास पर स्वयं ही यक़ीन नहीं हो पा रहा था।... और वह ख़ामोश हो गई।

टेलिफ़ोन के दूसरे छोर से आवाज़ छन छन कर बाहर आ रही थी, “हलो, हलो, फ़ोन बंद मत कीजिये... प्लीज़! ”

“नहीं, मैं फ़ोन बन्द नहीं कर रही... मगर... मैं आऊंगी नहीं – इस दफ़ा आवाज़ में उतनी सख़्ती नहीं थी।

“मगर आप तो... आपने तो वादा किया था... एक बार आने में कोई नुक़सान थोड़े ही हो जाएगा आपका।” ....  

शैली की सोच उसे परेशान करने लगी है। आख़िर कब तक ऐसे ही ज़िन्दगी जीती रहेगी। यह जीवन बार बार तो मिलता नहीं। अगला जन्म कहां लेगी, कैसी होगी वो ज़िन्दगी।

अगर घनश्याम को कहीं मालूम हो जाए कि वह पुनर्जन्म के बारे में सोच रही है तो उसकी सोच पर भी पहरे बैठा देगा। दुनियां में आज पहरेदारों को सबसे अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। तमाम पहरेदारों को चकमा देकर आजके जवान बच्चे बच्चियां अपने आपको बमों से उड़ा रहे हैं। क्यों ऐसे पाप करते हैं ये युवा?

पाप से ही तो डरती है शैली। अगर ऐसा न होता तो वह जीवन में कितने फूल समेट चुकी होती। सुबह चिड़ियों की तरह चहचहाती; उड़ती फिरती; ऊंचे गगन में उड़ान भरती, थक कर उसकी गोद में आ गिरती; जी भर कर प्यार करती। शैली को तो उसके पसीने की महक भी ख़ुशबू लगती।

फ़ोन की घन्टी फिर बजी। उसने ऐसे लपक कर उठाया जैसे उसी फ़ोन की तरफ़ कान लगे थे। “शैली.. शैली... ! ” वह बस उसका नाम लिये जा रहा था। शैली ने मद्धम आवाज़ में कहा, “हां! ...” और फिर ख़ामोश हो गई। अपने जज़बात को क़ाबू में करती रही।

“शैली, प्लीज़ हां कह दो। मैं आकर ले जाऊंगा।”

“देखो... आने की कोई समस्या नहीं, पर... मैं ऐसा कर नहीं सकती।”

विधु की आवाज़ में प्रेम था, अक़ीदत थी, चाहत थी पर वह यह सब समझने की स्थिति में नहीं थी। डरती थी; घबराती थी। घनश्याम से, दुनियां वालों से और अपने आप से। आज उसने एक बार फिर विधु को मना कर दिया। मगर सोच भी रही है कि वह ऐसा क्यों कर रही है? आख़िर विधु की बात मान लेने में हर्ज़ ही क्या है! वह बेचारा कब तक इन्तज़ार करेगा?

इन्तज़ार तो घनश्याम का करना पड़ता है। सुबह से जो इन्तेज़ार शुरू होता है उसका कहीं कोई अन्त नहीं होता। उसका पूरा जीवन ही इन्तज़ार कि कड़ियों से जुड़ा है। पहले चाय बना कर फिर  नाश्ता लगा कर मेज़ पर इन्तज़ार करती है कि घनश्याम जी नीचे उतरें तो वह भी अपना पहला चाय का घूंट पी ले।

सुबह होते ही उसे बाथरूम ख़ाली होने की भी प्रतीक्षा करनी होती है। यहां लंदन में हर कमरे के साथ अटैच-बाथरूम तो है नहीं। घर में एक ही बाथरूम है जिसमें घनश्याम घुस जाते हैं और बाकी सब को अपनी बारी का इन्तज़ार करना होता है। और फिर सिगरेट के धुएं भरे बाथरूम में जा कर धुआं पीना होता है।

सुबह के इस इन्तज़ार की तो आदत पड़ चुकी थी। काटने को दौड़ता था शाम का इन्तज़ार जो रात को ग्यारह बजे से पहले कभी ख़त्म नहीं हो पाता था। ...मगर आजकल कुछ नया महसूस करने लगी है। रात की दुल्हन तारों भरा काला घूंघट उठाती सुबह की रौशनी उसके चेहरे से अठखेलियां करती तो वह सिहर जाती। उसे विधु की उंगलियों का स्पर्श महसूस होता।

जब बच्चे छोटे थे घनश्याम ख़ुद तो रात को देर से आता था किन्तु आदेश यह था कि बच्चे जागते रहें और उससे मिलने के बाद ही सोएं। बच्चे भूखे बैठे रहते। उनको भी बचपन ही से इन्तज़ार की आदत डाली जा रही थी। इसीलिये बड़े होते ही चिड़िया के बच्चों की तरह पंख निकलते ही उड़ गये।

बेटा तो अंग्रेज़ लड़की से ब्याह रचा के आप ही विदा हो गया। अगर कभी मां बेचैन होकर मिलना चाहती तो गोरी सुनहरे बालों और हरी आंखों वाली पत्नी कहती, “उनसे कहो कि लंच लेकर वे लोग यहीं आ जाएं तो हम साथ ही खा लेंगे। शैली को यह भी स्वीकार था कि चलो इसी बहाने बहू बेटे दोनों से मुलाक़ात हो जाएगी। घनश्याम नाक भौं चढ़ाता कि छुट्टी के दिन वह घर में ही रहना चाहता है; आराम करना चाहता है, “तुम यह क्या फ़ुज़ूल का प्रोग्राम बना लेती हो?”

“बच्चों को मिलने जाना फ़ुज़ूल का काम होता है क्या? ”

“शैली, तुम बहस बहुत करती हो।... तुम ख़ुद तो सारे हफ़्ते घर में बैठी आराम करती हो, मैं सारे हफ़्ते मज़दूरी करता हूं। क्या एक दिन आराम करने का भी हक़ नहीं मुझे?”

शैली इस बात को बार बार सोचती है और अपने आप में ही मुस्कुरा लेती है। मरसिडीज़ में बैठ कर मज़दूरी करने वाले की मानसिकता समझने का प्रयास करती है।

अपने कोमल लम्बे लम्बे नाख़ूनों वाले हाथों को अक्सर हसरत से देखा करती थी शैली। एक बार एक संगतराश ने उसकी ख़ूबसूरत उंगलियों को देख कर कहा था, “अपने हाथों का बीमा करवा लीजिये आप। वैसे अगर कुछ समय के लिये अपने हाथ मुझे दे दें तो मैं इन हाथों को पत्थरों में तराश दूं।” ऐसी बातों पर झेंप जाया करती थी। आज वही हाथ पानी में धुल धुल कर खुरदरे और सख़्त हो गये थे।... वेसलीन हैण्ड क्रीम भी हारने लगी थी। ... भारत में तो वह सीधी सादी पॉमोलिव की हरे रंग की वैसलीन लगाया करती थी या फिर मलाई में ग्लिसरीन मिला कर।

यहां के दूध पर तो मलाई ही नहीं आती। दूध को उबाला ही नहीं जाता। उबाल आता ज़रूर है मगर उसकी तक़दीर में।  फिर भी वह लक्ष्मण रेखा को तोड़ नहीं पाती। क्या सीता ने लक्ष्मण रेखा को जान बूझ कर तोड़ा होगा? क्या उसके हाथ की रेखाओं को भी राम ने घनश्याम की ही तरह मिटा दिया था?

रौशनी की एक हल्की सी लक़ीर ज़रूर दिखाई दी है.... विधु! मगर उसकी उपस्थिति ने भी ख़ौफ़ और दहश्त अधिक पैदा किये हैं। लंदन आने के बाद अभी शैली ने ड्राइविंग लायसेंस भी नहीं लिया था और घनश्याम ने आदेश सुना दिया था, “अब आपको ड्राइव करना होगा! बच्चों को स्कूल ले जाना होगा।”

“मगर मेरे पास तो लायसेंस ही नहीं है।” शैली की घबराहट माथे से बहने लगी थी।

“इंटरनेशनल लायसेंस का मतलब समझती हैं आप? एक हज़ार रुपये दिये थे एजेंट को। तब जा कर कहीं बना था।” घनश्याम की कड़कड़ाहट गरजी।

“मगर... कार कहां है? ”

“जाइये, नीचे जा कर देखिए।”

“आप यहीं बता दीजिये न।”

“अरे कहा न, नीचे जा कर देखिये।”

दिन भर की थकी शैली ख़ुश थी कि आज घनश्याम दफ़्तर से कुछ जल्दी वापिस आ गया था। किन्तु पति के पास प्यार के दो मीठे शब्द भला कहां थे। आदेश... बस आदेश! शैली नीचे चल पड़ी। .... घर के दरवाज़े के बाहर एक सेकण्ड हैण्ड फ़ोर्ड एस्कॉर्ट खड़ी थी – सुनहरी रंग की कार! शैली को घनश्याम का सरप्राइज़ बिल्कुल पसन्द नहीं आया। कार देख कर ख़ुशी तो क्या होनी थी बस दिल बैठने सा लगा। भारत में एक बड़ी सी कार थी मर्सिडीज़ और एक ड्राइवर भी था। यहां यह खचड़ा सी कार उसे ख़ुद चलानी होगी।

ठीक है कि यहां लंदन में सब लोग अपना काम स्वयं ही करते हैं। मगर ऐसी कार ! उधर घनश्याम लगभग भौंचक सा खड़ा था। उसे आशा थी कि शैली इस सरप्राइज़ को देख कर तारीफ़ करेगी ; ख़ुश होगी। शैली के सहज जवाब ने उसे हैरान ही कर दिया, “मैनें आपसे कार की फ़रमाइश कब की थी ? ”

“अरे हर चीज़ की फ़रमाइश नहीं की जाती, मिसेज़ मेहरा!...  इस मुल्क़ में टीवी, फ़्रिज, कार, रेडियो वगैरह सब ज़रूरत की चीज़ें हैं। यहां इन्हें लग्ज़री नहीं मानते। कार के बिना क्या मेरे बच्चों को पैदल घसीटेंगी आप? घर का सौदा सुल्फ़ क्या पैदल जा कर लाएंगी ? और फिर मुझे सुबह शाम ट्यूब स्टेशन लाए ले जाएगा कौन? ” घनश्याम जब जब ग़ुस्सा होता तो शैली को मिसेज़ मेहरा कह कर बुलाता और तुम से आप पर उतर आता।

कौन का सवाल ख़ूब था। इस कार ने शैली के जीवन में गर्माहट लाने के स्थान पर सर्दी की कड़कड़ाहट उसकी हड्डियों में भर दी थी। हां वो जनवरी की एक रात थी। शैली ट्यूब-स्टेशन के बाहर खड़ी अपने घन की प्रतीक्षा कर रही थी। बर्फ़ीली रात के साढ़े ग्यारह बजे का सन्नाटा और सफ़ेदी मिल कर कुछ ऐसा माहौल बना रहे थे कि शैली को लग रहा था जैसे कि चारों ओर सफ़ेद भूत चल रहे हैं। बर्फ़ीली रुई के फाहे उसकी कार की विण्डस्क्रीन से टकराते। वह घबरा कर वाइपर चला देती। वाइपर फ़ौजी जवान की तरह लेफ़्ट राइट करने लगते; बस ऑर्डर मिलने की देर होती।

वाइपरों को देख कर शैली एक गहरी सोच में डूब जाती है। आदेश मिलते ही जो वाइपर लेफ़्ट-राइट करने लगते हैं और बिना सांस लिये अर्ध-चक्कर में फंस जाते हैं; जब उनका रबर घिस जाता है तो उन्हें निकाल कर फैंक दिया जाता है। शैली का जीवन भला इससे अलग कहां है। उसकी सुबह भी अधूरी सी होती और शाम के ऊपर से होती हुई रात – जैसे कि बिन बुलाया मेहमान। वाइपर सा अर्धचक्र !

साढ़े ग्यारह बजे वाली सफ़ेद रात में डर ज़रा अधिक ही समाया होता है। ऐसे में आहिस्ता आहिस्ता गाड़ी स्टेशन में दाख़िल हुई। गाड़ी की खिड़कियों में से रौशनी बाहर झांकती दिखाई देती और हर रौशनी के बीच से एक गोला सा नज़र आता क्योंकि यात्रियों के कंधे ट्रेन की दीवार की ओट में होते। हां ! कुछ लम्बे तड़ंगे इन्सानों के गोल सिर ऊपर को होते तो वे बेसर के भूत से बन जाते। शैली सड़क पर कार के भीतर से ही उन रौशनी के गोलों में से घनश्याम का सिर ढूंढने की चेष्ठा करती रही। प्रतीक्षा बस प्रतीक्षा ही बनी रही।

वक्त की सुइयां आगे बढ़ती जा रही थीं। सफ़ेद रात के साये और भयानक बनते जा रहे थे। एक चिंता यह कि घनश्याम आए क्यों नहीं। और दूसरी चिंता कि बच्चे अकेले डर रहे होंगे। घनश्याम ने अपनी मर्सीडीज़ में तो टेलिफ़ोन भी लगवाया हुआ है। भला इस सेकण्ड हैण्ड कार में कौन फ़ोन फ़िट करवाएगा। ... आज तो शैली ने सर्दी और बर्फ़ के मारे कार बन्द भी नहीं की। बस पेट्रोल फुंकता रहा।

चिन्ता में भी शैली की सोच रुक नहीं पा रही है। कार में बैठे हुए भी उसे लगता है कि वह डरी-डरी दीवार का सहारा लिये खड़ी है। उसके भाग्य में यही बदा था। घनश्याम स्वयं भी तो एक मोटी ताज़ी दीवार ही है। रात को घर आकर बच्चों को जागते देख एक विजयी सी मुस्कान बिखेरता है। चुप बैठा खाना खा लेता है। किसी बच्चे से कोई बात नहीं। बस टीवी के सामने बैठा बैठा अपने गले से बेसुरे राग निकालने लगता है। उन बेसुरी तानों से घबरा कर बच्चे एक एक करके अपने कमरों की तरफ़ खिसक लेते हैं।

अब शैली करे तो क्या ? वैसे उसे विश्वास है कि उसकी नौ साल वाली बड़ी बिटिया बच्चों का ख्याल रख रही होगी। हालात को देखते हुए वह बच्चों की मां नम्बर दो बन गई है। अपने छोटे भाई व बहन को समझाती और अम्मां को परेशान करने और शरारत करने से रोकती। ... लगता जैसे बच्चे भी बचपन ही में बड़े हो गये थे। शैली तय नहीं कर पाती थी कि इस अप्रकृतिक प्रक्रिया पर हंसे या रोये।... मगर उसका अपना रोना या हंसना भी कहां उसके अपने वश में थे – उनका नियन्त्रण भी तो घनश्याम के हाथ में था।

शैली बेजान दीवार का सहारा लेते हुए संभल संभल कर फिसलती हुई, मज़बूती से ज़मीन पर पैर जमाती हुई दरवाज़े तक पहुंची और बर्फ़ से ठण्डे हाथों से चाबी को की-होल तल ले जाने का प्रयास करने लगी। निशाना चूक चूक जाता। चाबी दरवाज़े से बार बार टकराई तो कौन ? कौन ? करते घनश्याम ने दरवाज़ा खोला।... घनश्याम के ठण्डे व्यवहार के मुक़ाबले चारों ओर फैली बर्फ़ की ठण्डक में गर्माहट महसूस होने लगी, “अरे आप घर पहुंच गये !.. कैसे ? ”

“यह क्या बेहूदा सवाल है ?... क्या घर नहीं आता ? ”

“मगर आपने तो मुझे आख़री स्टेशन पर आने को कहा था। ”

“अरे भई, तो इसमें कौन सा पहाड़ टूट पड़ा अगर मैं जल्दी घर पहुंच गया ? ”

“... मैं तो वहां डेढ़ घण्टा खड़ी रही। आपकी प्रतीक्षा करती रही ! ”

“ऐसी क्या मुसीबत आ गई। गरम कार में ही तो बैठी थीं न ? ”

बरफ़ानी रात में भी शैली के कान जलने लगे। उसके ग़ुस्से की गरमी भी उसके भीतर की बर्फ़ को पिघला न सकी।... बदन के कांपने में सर्दी, डर और ग़ुस्सा.. तीनों शामिल थे। जल्दी से गैस के चारों बर्नर जला दिये। खाने की तैयारी में जुट गई। रात के साढ़े बारह बजे गरम खाना डाइनिंग टेबल पर लगाया। लगभग दौड़ते हुए बच्चों को बुलाने गई। तीनों एक ही पलंग पर आड़े तिरछे एक दूसरे पर हाथ रखे हुए गहरी नींद में सो रहे थे। एक दूसरे के ऊपर हाथ रख कर तसल्ली देते हुए बच्चे कि “डरो नहीं हम जो हैं।” शैली खड़ी उन्हें देखती रही और धीरे धीरे उन पर रज़ाई ओढ़ाने लगी।

“अरे भाई क्या अब मेज़ भी मुझी को साफ़ करनी पड़ेगी? बच्चों को लेकर आओ और किचन क्लीयर करो! ” नीचे से घनश्याम की ऊंची आवाज़ ने उसे दहला दिया।

शैली केवल सोच सकती थी बोलने की अनुमति उसे बिल्कुल नहीं थी। घनश्याम की महफ़िल में होंठ सिले रखने का आदेश था। शैली ने डरते डरते ही सोचने का दुःसाहस कर लिया – क्या बात कही है घनश्याम जी ने! क्या मेज़ भी मैं ही साफ़ करूं? यानि खाना खाने की तक़लीफ़ तो मैनें उठा ली अब क्या मेज़ भी .. !

“मेरे बच्चे भूखे ही सो गये। ... बस इसीलिये.... ” शैली की रुंआसी आवाज़ वाक्य पूरा नहीं कर पाईं।

“क्या बच्चे अपने मायके से लाईं थीं आप? ... ये मेरे कुछ नहीं लगते?... कम से कम बेटियां तो पक्के तौर पर मेरी हैं।... बेटे के बारे में... अब क्या कहूं? ”

“क्या कह रहे हैं?.... इतनी गिरी बात.. ! ”

“एक बात आप अच्छी तरह समझ लीजिये.... तुम्हारा बेटा...बदतमीज़...  मुझे फूटी आंख नहीं भाता। उसमें मुझे अपने जैसी कोई बात नहीं दिखाई देती।... एकदम... ‘ईविल’ लगता है।

“‘ईविल’! अपनी ही औलाद को आप ऐसा कैसे कह सकते हैं।”

“यार अब तुम हर वक़्त बहस मत किया करो। सारे दिन का थका हारा वापिस आता हूं... और यहां भी चैन नहीं। .. सुनो... चाय ला देना टी.वी. वाले कमरे में।“

जबतक शैली चाय बना कर ले जा पाती, घनश्याम ऊंची आवाज़ में टीवी देखता उसके साथ अपने ख़र्राटों का मुक़ाबला शुरू कर देता। शैली बस इसी उहापोह में रह जाती कि क्या उसे चाय लाने में देरी हो गई। एक निगाह उस मांस के खड़खड़ाते लोथड़े पर डालती है... रहम आ जाता है... कितना थक गया है.. चलो जूते उतार देती हूं....

“ऊं..हूं..क्या करती हो, भई! सोने दो।”

वापिस किचन। सफ़ाई शुरू कर देती है। जब बिजली बंद करके निकलने लगती है तो याद आता है कि उसने स्वयं तो खाना खाया ही नहीं। घनश्याम के साथ खाने के चक्कर में वह स्वयं तो भूखी ही रह गई।

भूखी तो वह अधिकतर रह जाती है। ... उसकी तो कोई भूख शांत नहीं हो पाती। ... सोचती है... आख़िर घनश्याम इतना तृप्त और संतुष्ट कैसे रह लेता है?... दोनों की उमर में अंतर भी तो कितना है। अगर कुछ एक साल और बड़ा होता तो उसका पिता हो सकता था।...सोचते ही कांप सी गई ... ऐसा ख़्याल भी उसके दिल में कैसे आया?... अपने ही पति को अपना पिता.... !

किचन का दरवाज़ा आहिस्ता से बन्द किया, कहीं घनश्याम जाग न जाए... अकेली हर सीढ़ी पर दबा दबा कर पैर रखती हुई ऊपर पहुंच कर हसरत भरी निगाह से उस कमरे की तरफ़ देखती है जिसे घनश्याम और शैली का बेडरूम कहा जाता है। बच्चों के कमरे में पहुंच जाती है। ख़ाली पलंग उसका इंतज़ार कर रहा है... मुंह चिढ़ा रहा है... आख़िर वह है क्या?  कुछ ऐसे ही सवाल उसे परेशान किये रहते हैं.. और उसकी थकान उसकी आंखों को अंततः बन्द होने को मजबूर कर देती है।

बच्चे भी बहुत बार यह सवाल कर बैठते हैं, “अम्मा, आप अपने कमरे में क्यों नहीं सोती हैं? ”

“मुझे अकेला कमरा अच्छा नहीं लगता बेटा।”

“तो पापा से कहिये न कि वे ऊपर आ कर सोया करें।”

“वो.. नहीं आते बेटा।”

“क्यों? ” बेटा पूछ लेता है।

“मुझे नहीं मालूम बेटा... ! ” झूठ बोले या सच? तय नहीं कर सकती।

आज तक समझ नहीं पाई है कि आख़िर उसमें कमी क्या है।... चौबीस घन्टे बान्दी की तरह काम करती है... और यह इन्सान कहता है कि बेटा न जाने कहां से ले आई हो!... उसे ‘ईविल’ कहता है! शैतान तो ख़ुद है। काश!.. वह ऐसा कुछ कर पाती... अभी भी क्या कमी है उसमें? अभी भी लोग मुड़ कर देखते हैं... आंखों ही आंखों में अपनी बात कह जाते हैं... उनके आसपास के लोग इस बात से परिचित हैं कि उसकी रातें सिसकती, बिलखती अकेली हैं।

घनश्याम को घमण्ड है कि वह पैसा कमाता है। ठीक है कि दफ़्तर जाता है काम करता है। मगर दफ़्तर में उसके नीचे काम करने वाली दो दो सेक्रेटेरी हैं – एक काली है और दूसरी गोरी स्कॉटिश। दफ़्तर का सारा काम वह अकेला तो नहीं ही करता। फिर इतना थकने का नाटक क्यों करता है। उसके लिये तो घर पर कोई नौकरानी नहीं है। वह तो अकेली ही बच्चों को बड़ा कर रही है। सारा महत्व घनश्याम ख़ुद क्यों ले लेता है। कौन अधिक महत्वपूर्ण है? वह जो पैसा कमा कर लाता है या वह जो उसकी दूसरी पीढ़ी को संस्कार दे रही है; उसके घर को संभाल संवार रही है? आज शैली ने सोचने के लिये पूरी तरह से कमर कस ली है। क्या वह घर की नौकरानी भर है, बस?.... अचानक घबरा जाती है। नहीं... उसे ऐसा नहीं सोचना चाहिये। अगर उसकी सोच की भनक घनश्याम को मिल गई तो?... उसके शरीर ने झुरझुरी ली.. !

बस सिर को एक हल्का सा झटका उसके सभी विचारों को बाहर फेंकने में सक्षम हो जाता है। एक बार फिर घर की दौड़ भाग में लग गई। किन्तु आज उसके विचार उसे चैन नहीं लेने दे रहे – बस आन्दोलित किये जा रहे हैं। उसे  एक कटघरे में खड़ा कर रहे थे – जवाब मांग रहे थे। .. “तुम घनश्याम से इतनी डरती क्यों हो? ” इस सवाल का जवाब नहीं खोज पा रही थी।

फिर सोचती है, “शायद मैं आलसी हूं।... हां मैं हूं आलसी! ऐशो आराम की आदी हो गई हूं। मां बाप ने जैसे एक मखमल के डिब्बे में संभाल कर रखा। यहां भी कालीनों पर चलने की आदत पड़ गई है। यहां इस देश में तो बाथरूम में भी कालीन बिछा रहता है। ... क्या सच में घनश्याम ने उसके लिये कुछ ऐसा किया है जिसके लिये वह उसकी जीवन भर अहसानमन्द रहे? यह सब तो ब्रिटेन में सभी के घरों में है। फिर भी इसे लेकर घनश्याम ताने मारता रहता है। पहले तो बंदिनी बना कर ले आया... अब तीर और ताने... !

मर्दों के बारे में सोच कर ही वितृष्णा सी होने लगती। उसे हर मर्द स्वार्थी, आत्म-केन्द्रित, तंग नज़र और बेग़ैरत लगने लगा है। बेचारी इससे आगे गालियां सोच ही नहीं पाती।

लगता है कि शायद स्वयं ही कमज़ोर है वो। वर्ना क्यों पागलों की तरह लगी हुई है काम करने में?.. किन्तु काम तो बच्चों का करती है... तो फिर.... ?

उसने तो सारा जीवन ही घनश्याम की इच्छाओं पर होम कर दिया। बिना बाहों का ब्लाउज़ नहीं पहना; पूरे शरीर को इस तरह ढक कर रखा जैसे कि बुर्का पहन रखा हो। घुटनों तक लम्बे उसके बाल.. लोग दूर से देख कर भी निहारा करते थे। किन्तु घनश्याम का कहना था कि देहाती लगते हैं। बस कन्धे तक कटवा दिये। .... उस दिन मां की बहुत याद आई थी। बचपन में उसके बालों में नारियल का तेल लगाया करती थी। और रात को एक चोटी कस कर बांध कर सोने देती थीं कि बाल रात को ही बढ़ते हैं। सुबह उठ कर दो चोटियां बंध जाती थीं। दोनों कन्धों से लटकतीं, रंग बिरंगे रिबन वाली चोटियां लिये इतराती घूमती शैली।

उसके बालों की तारीफ़ घनश्याम के सभी दोस्त करते थे। शायद इसीलिये घनश्याम को लम्बे बाल गंवारपन की निशानी लगते थे। आज जब पीछे मुड़ कर सोचती है तो समझ आता है कि घनश्याम के दोस्त उससे सीधे सीधे फ़्लर्ट भी करते थे। सभी को मालूम था कि घनश्याम रात को देर देर तक अपने दफ़्तर में अपनी सेक्रेटरी के साथ रहता है और घर में जवान बीवी आंसू बहाती रहती है।

आज शैली को बार बार मायका याद आ रहा है। बालों के बाद याद आया वो दर्ज़ी – जो घर में ही नाप लेकर कपड़े सिला करता था। मासूम शैली उस दर्ज़ी को बहुत ध्यान से कपड़ा काटते और पैरों से चलने वाली सिलाई मशीन से सिलते देखती थी। सवाल पूछती।  उतने ही ध्यान से मास्टर जी के जवाब सुनती। बस इसी तरह देखते देखते ही वह कपड़े सीने भी सीख गई। मगर यहां लंदन शहर में भला कौन कपड़े सिलता है? हर कोई सिले सिलाए कपड़े डिपार्टमेण्ट स्टोर से ख़रीद लेता है। बच्चे, घनश्याम, शैली स्वयं सभी सिले सिलाए कपड़े ख़रीद लेते हैं। भारत वापिस जाती है तो ब्लाउज़ वहीं से सिलवा लाती है।

शैली को खाना बनाने, परोसने और खिलाने में विशेष आनंद की अनुभूति होती है। शायद इसीलिये उसे शनिवार और रविवार का इन्तज़ार भी रहता था। मेज़ पर उसका छोटा सा परिवार जब भोजन के लिये बैठता वह सबके लिये गरमा गरम फूले हुए फुलके बना कर परोसती। भारतीय संस्कारों में पली बढ़ी लड़की... संस्कारों को समझती.. मगर घनश्याम को घर की लक्ष्मी के अर्थ नहीं मालूम थे। उसकी लक्ष्मी हमेशा उसके पर्स में और जेब में दबी रहती। शैली को आज तक नहीं मालूम कि उसके पति की पगार कितनी थी; बोनस कितना मिलता था; और किन किन बैंकों में किस किस करंसी में उसके अकाउण्ट हैं।

दरअसल आज उसे महसूस हो रहा है कि वह घर की मालकिन नहीं बल्कि एक ख़रीदी हुई बान्दी की ज़िन्दगी जीती रही है। बच्चों को घुड़सवारी, प्यानो, कराटे, होमवर्क सब करवाती रही है। घनश्याम के कपड़े निकाल कर मैचिंग टाई, मोज़े, कफ़-लिंक, रुमाल निकालना। और फिर जूते पॉलिश करना।

बचपन में उसके अपने जूते, भाइयों के जूते रामलाल बाबा पॉलिश किया करते थे। वे फ़ौज से रिटायर हवलदार थे। चौकीदारी करते थे। घरके सभी लोगों के जूते फ़ौजी स्तर पर चमकते थे। रामलाल बाबा द्वारा पॉलिश किये चमकते जूतों में शैली अपना मुंह देख देख कर हंसा करती। और बाबा को गर्व होता कि फ़ौज छोड़ने के बाद भी वे जूते फ़ौजी ढंग से ही पॉलिश करते थे। शैली घनश्याम के जूते पॉलिश करने के बाद उनमें अपना चेहरा देखने का यत्न करती। मगर आज चेहरा धुंधला दिखाई देता है!

फ़ौज में तो विधु भी था। क्या वह भी अपने जूते ऐसे ही पॉलिश करता होगा। विधु का ख़्याल भर ही जूते पॉलिश करने जैसी नौकराना गतिविध में भी रोमांस का पुट भर देता है। ऐसा क्यों हो रहा है? ... वह तो विधु को बहुत बार कह भी चुकी है कि उसके मन में वैसा कुछ भी नहीं है जो विधु सोच रहा है। क्या वह झूठ  कहती है कि वह एक पतिव्रता पत्नी और ज़िम्मेदार मां है? विधु के बारे में सोचने भर से वह क्यों खिल उठती है। घनश्याम तक पूछने से बाज़ नहीं आते, “आप आजकल मंद मंद मुस्कुराती क्यों रहती हैं? ” ... क्या उसकी सोच में परिवर्तन आ रहा है? ... क्या वह झूठ बोलने लगी है?... सोचती कुछ है और करती कुछ है!”

दो दिन से विधु ने फ़ोन भी नहीं किया। कहीं घनश्याम ने कुछ कह तो नहीं दिया?... फ़ोन पर बदतमीज़ी करना जैसे घनश्याम का जन्मसिद्ध अधिकार है।... टेलिफ़ोन घनश्याम के नाम में है... घर का मालिक भी वही है... यह उसके मूड पर निर्भर है कि शैली की बात उसके किसी जानने वाले से करवाए या नहीं।

विधु कितना अलग किस्म का इन्सान है? कितनी तारीफ़ करता है इस मुल्क़ की, “शैली जी मुझे किसी ने इस देश में आने के लिये ज़बरदस्ती तो की नहीं। अपनी मर्ज़ी से आया, कमाया खाया, और अपने घर वालों को पैसे भेजे। हमारे लोग यहां की सोशल सिक्योरिटी का पूरा फ़ायदा उठाते हैं; अपने बच्चों को मुफ़्त की पढ़ाई करवाते हैं; एन.एच.एस. में मुफ़्त का इलाज करवाते हैं मगर अपना मुल्क़ उसे बताते हैं जिसे छोड़ आए हैं।” घनश्याम भी तो यही करता है। बस हिन्दुस्तानी या फिर पाकिस्तानी चैनल देखता रहता है। क्रिकेट से लेकर मौसम तक ब्रिटेन की बुराइयां करता रहता है। एक तरफ़ घनश्याम - नकारात्मकता की पराकाष्ठा और दूसरी ओर विधु – सकारात्मकता की ठण्डी ब्यार।

किसी का किसी से मुक़ाबला करना बुरी आदत है। फिर विधु और घनश्याम में तो किसी भी प्रकार का मुक़ाबला नहीं किया जा सकता।... घबरा गई है शैली... आज यह बार बार विधु क्यों चला आ रहा है उसकी सोच के दायरे में।

फ़ोन की घन्टी बजी है। शैली दौड़ कर फ़ोन उठा लेती है। “हलो... हलो.. हलो... ! ” सुनाई देते हुए भी उसे आवाज़ सुनाई नहीं दे रही। वह घबरा रही है... । विधु का नाम सोचा और फ़ोन की घन्टी बज उठी। भला ऐसा कैसे हो गया। उसकी उधेड़बुन से बेख़बर फ़ोन टूं ऊं..ऊं..करने लगा। और अंततः बन्द हो गया। .... क्या उसे फ़ोन कर लेना चाहिये?....

अगर अब फ़ोन आया तो वह सयंम से बात करेगी... आराम से हेलो करेगी... हालचाल पूछेगी.. फिर हर उस बात का जवाब देगी जो वह पूछेगा... विधु तो शैली की हर बात बहुत ध्यान से सुनता है। क्ई बार तो वह इतनी ख़ामोशी से बातें सुनता है कि शैली को लगता है जैसे वह सुन ही नहीं रहा... किन्तु महीनों बाद वह शैली की बात शब्दशः दोहरा देता है।

“अरे तुमने मेरी पूरी बात सुन ली थी।” शैली आश्चर्य से पूछती।

“आपकी बात मेरे लिये देव वाणी से कम नहीं होती... यह भला कैसे हो सकता है कि कोई देववाणी को न सुने? ” शैली सोचने लगती है कि क्या वह कभी भी ऐसी बातें कर सकती है? उसने तो जीवन में जब भी मुंह खोला, यही सुनाई दिया, “तुम चुप रहो जी, तुम्हें क्या मालूम! ” और वह घबरा कर चुप हो जाती और जल्दी जल्दी अपने चारों ओर देखती कि जब उसे मूढ़ घोषित किया जा रहा था तो किसी ने सुन तो नहीं लिया!

शैली के मोबाइल फ़ोन की घन्टी फिर से चहचहाने लगी... उसने अपने मोबाइल की टोन चिड़ियों की चहचहाट और झरने के शीतल और पुर-सुकून संगीत के साथ बना रखी थी। उस संगीत को सुनते हुए उसे महसूस होने लगा कि यह आवाज़ उसे उस झरने के पास ले जा रही है जो पहाड़ी से निकल कर धर्ती की ओर बढ़ रहा है... प्रेम उसके अंग अंग में है। ऊपर से शोर मचाता हुआ चलता है नीचे आते आते ज़्यादा उज्जवल और सुरीला हो जाता है। फिर धरती की गोद में समा जाता है। दोनों एक हो जाते हैं... पास पड़े पत्थर  इस मिलन पर मुस्कुराते हैं क्योंकि जाते जाते झरना उन पत्थरों को भी छूता, सहलाता, नहलाता पवित्र करता हुआ प्रेमिका की आग़ोश में खो जाता है।... खो जाने को जी तो चाहता है उसका भी ... मगर कैसे?

फ़ोन शायद अपनी चुप्पी से परेशान हो कर एक बार फिर चहचहाने लगा... उसने लपक कर उठा लिया... फ़ोन को कान से चिपका लिया ताकि आवाज़ किसी और तक पहुंच न पाएं... फ़ोन को पकड़े पकड़े टहलने लगी... सांस रुकी सी जा रही थी... ध्यान से सुन रही थी शायद जो कुछ भी कहा जा रहा था... बिल्कुल खो गई केवल इतना बोल पाई.. “मगर विधु... ! ”

फ़िर ख़ामोश टहलने लगी...चेहरे पर एक ख़ास चमक थी... आंखों में ज़िन्दगी जी रही थी... शैली बस हूं.. हां... अच्छा... अच्छा... कहे जा रही थी, “नहीं, विधु...ज़िद न करो... ! ” फ़ोन रख दिया।

सोफ़े पर बैठ गई शैली। मन में हलचल... जाए या नहीं...जाए.. नहीं नहीं... क्या यह ठीक होगा? उसे बस एक कदम ही तो आगे बढ़ाना है, और एक नई दुनियां उसकी प्रतीक्षा कर रही है।

एक झटके से उसने अपना हैण्ड-बैग उठाया... दरवाज़े की तरफ़ बढ़ी और बाहर निकल गई। दरवाज़ा बन्द होने की आवाज़ आई और गुम हो गई।



Zakiya Zubairi, 115 The Reddings, Mill Hill, London NW7 4JP (U.K.) Tel: 00-44-7957353390
Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366