शुक्रवार, जनवरी 04, 2013

कहानी- कभी हम भी तुम भी थे आशना - मणिका मोहिनी

शुक्रवार, जनवरी 04, 2013
यादें ज़रूर जिंदा रहती हैं पर चेहरे पहचान में नहीं आते क्योंकि उन पर उम्र की लकीरें चढ़ जाती हैं और वो पहचाने न जाने की हद तक बदल जाते ...

गूगलानुसार शब्दांकन