गुरुवार, जनवरी 31, 2013

वक्त रहते - जनसत्ता, चौपाल - भरत तिवारी

गुरुवार, जनवरी 31, 2013
कच्चा लालच, बदगुमानी, ओछी राजनीति और जुड़े को तोड़ना, ये हमारे वे दुश्मन हैं जो पीठ पीछे वार नहीं करते। आज एक तरफ मनुवादी अपने गलत को सह...

मंगलवार, जनवरी 29, 2013

अशोक गुप्ता: कहानी - चाँद पर बुढिया

मंगलवार, जनवरी 29, 2013
चाँद की सतह पर जिस इंसान ने सबसे पहले कदम रखा था, वह नील आर्मस्ट्रौंग अभी कुछ दिन पहले अपनी उमर पूरी कर के स्वर्ग लोक पहुंचा. इसके पहले...

बात और बतंगड़ - सम्पादकीय जनसत्ता

मंगलवार, जनवरी 29, 2013
    समाज विज्ञानी आशीष नंदी की एक टिप्पणी को लेकर जिस तरह का बावेला मचा, वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। यह विवाद दर्शाता है कि हमारे समाज म...

रविवार, जनवरी 27, 2013

बादल की घुड़की और बारिश की नादानियाँ - डॉ. सुनीता

रविवार, जनवरी 27, 2013
1- टूटता पुल सफर के साथी ने संघर्ष में साथ छोड़ दिया बेरहम दर्द के बिस्तर पर लेटे-लेटे एक नादां मुहब्बत ने दम तोड़ दिया यह ग...

मंगलवार, जनवरी 22, 2013

"युद्ध नहीं" - ओम थानवी

मंगलवार, जनवरी 22, 2013
जनसत्ता के संपादक ओम थानवी जी बीते दिनों पाकिस्तान गए थे ।  पाकिस्तान में वो ठीक उसी समय थे, जब भारतीय सैनिकों के सर काटे जाने की घटना हुई...

सोमवार, जनवरी 21, 2013

तेजेन्द्र शर्मा की कहानी "टेलिफ़ोन लाईन"

सोमवार, जनवरी 21, 2013
“पांच मिनट का इन्तज़ार तुमको इतना लम्बा लगा? यहां तो एक ज़िन्दगी ही निकल गई! ”     टेलिफ़ोन की घन्टी फिर बज रही है।     अवतार सिंह टे...

गूगलानुसार शब्दांकन