शुक्रवार, मार्च 08, 2013

कविताये नज़में - गीतिका 'वेदिका'

शुक्रवार, मार्च 08, 2013
बेहिसाब बारिश आजाओ न कभी यूँ ही शत बार प्राण पुकारते मेरा द्वार छोड़ के कि तेरे दिल कि सदा फिर याद आई खुद को खूं में तर बतर कर दू...

गूगलानुसार शब्दांकन