साहित्य मज़ाक नहीं

    सच बोलना अच्छी बात है – हम सब ये जानते हैं.     अधिकतर हम ये मान कर चलते हैं कि हमसे जो बात...
Read More

संजीव की रचनाओं में है आम आदमी की पीड़ा : विभूति नारायण राय

हिंदी विवि में ‘राइटर-इन रेजीडेंस’ संजीव को दी गई विदाई  वर्धा, 13 मार्च, 2013      महात्‍मा ...
Read More
osr5366