शनिवार, सितंबर 07, 2013

पारदर्शी था किरणों का तल तक पहुँचना - रीता राम की कवितायेँ

शनिवार, सितंबर 07, 2013
पारदर्शी था किरणों का तल तक पहुँचना - रीता राम की कवितायेँ वादियाँ एक निमंत्रण   पहाड़ों से घिरी झील प्रकृति का निमंत्रण बसा शहर...

गूगलानुसार शब्दांकन