मनोज कचंगल की कुछ कविताएँ

एक विचित्र चित्र  शब्दों को सँजोता संवेदनशील मन की लड़ियों में रेखाएँ काढ़ता तूलिका साधता रंगों को करता संयोजित बना देता अनायास ही ...
Read More

मनोज कचंगल की कला : कुमार अनुपम

विदग्ध रंगमय आकाश में एक सलेटी चन्द्रमा मनोज कचंगल की कला में उपस्थित जिस तत्त्व ने मुझे शुरू से आकर्षित किया, वह है - विनम्र सादगी। ...
Read More
osr5366