मदारी का मायाजाल - प्रेम भारद्वाज

यह कैसी विडंबना कैसा झूठ है दरअसल अपने यहां जनतंत्र एक ऐसा तमाशा है जिसकी जान मदारी की भाषा है [ धूमिल ] मदारी का मायाज...
Read More
osr5366