शुक्रवार, नवंबर 01, 2013

राजेन्द्र यादव का साहित्यिक परिवेश से अचानक चले जाना-एक युग के अंत जैसा है

शुक्रवार, नवंबर 01, 2013
एक युग का अंत  ''डॉ राजेन्द्र यादव का साहित्यिक परिवेश से अचानक चले जाना-एक युग के अंत जैसा है, इस अभाव की पूर्ति नहीं जा सकती&...

"डियर फ़ादर" राहुल को रवीश की चिट्टी | "Dear Father" Ravish Kumar's Letter to Rahul Gandhi

शुक्रवार, नवंबर 01, 2013
डियर फ़ादर आदरणीय राहुल जी, भोत गल्त बात है । इतनी गल्त बात है कि लंबी चिट्टी का मूड नहीं बन रहा । नागपुर से लौटते वक्त कल हवाई जहा...

राजेन्द्र यादव के आने-जाने पर साहित्यिक समय का निर्बाध दौड़ता चक्र ठिठका : अनुज शर्मा | Anuj Sharma on #RajendraYadav

शुक्रवार, नवंबर 01, 2013
किसी के जाने से समय रुकता नहीं, साहित्य भी समय सा ही गतिमान, समय सा निष्ठुर कहाँ किसी के आने जाने से विचलित हुआ है, किंतु राजेन्द्र यादव का...

राजेन्द्र यादव को याद करती अनुपमा तिवाड़ी | Anupama Tiwari on #RajendraYadav

शुक्रवार, नवंबर 01, 2013
लगभग 7-8 साल पहले प्रेस क्लब जयपुर में उन्हें सुना, उनकी बातें जेहन में आज भी है, उतर गईं थीं दिल तक । राजेन्द्र यादव जी ने कहा था - ...

गूगलानुसार शब्दांकन