निकट: जनवरी-जून 2014 | Nikat :January-June 2014


कृष्ण बिहारी के सम्‍पादन में संयुक्त अरब इमारात से प्रकाशित हिन्दी की पहली साहित्यिक पत्रिका 'निकट' का जनवरी-जून 2014 अंक अब आप ऑनलाइन पढ़ सकते हैं।
इस अंक में
समय से बात : कृष्ण बिहारी Krishna Bihari 2
इस अंजुमन में आपको आना है बार-बार : राकेश बिहारी Rakesh Bihari 6
आपकी बात-आपके पत्र 10
कहानियाँ
शेखर जोशी Shekhar Joshi  - खत्म हो गए राजे 16
रवीन्द्र कालिया Ravindra Kalia  - सिर्फ एक दिन 19
सतीश जमाली Satish Jamali - हातो 25
ममता कालिया Mamta Kalia - छुटकारा 31
अर्चना वर्मा Archana Verma - डोर का पिछला सिरा 34
शिवमूर्ति Shivmurthy-  ज़ुल्मी कौने कसुरवा ना... 42
उदय प्रकाश Uday Prakash - बिजली का बल्ब और मौत का फासला 47
शैलेन्द्र सागर Shailendra Sagar - मेरी आर्थिक मौत 51
सूरज प्रकाश Surya Prakash - अल्बर्ट 55
रामधारी सिंह दिवाकर Ramdhari Singh Diwakar - नए गाँव में 57
अब्दुल्ल बिस्मिल्लाह Abdull Bismillah - ज़र्दा 61
मंजूर एहतेशाम Manzoor Ehtesham - रमज़ान में मौत 65
शंकर Shankar - दुर्घटना 70
भालचंद्र जोशी Bhalchandra Joshi - मोक्ष 74
उषा किरण खान Usha Kiran Khan - ‘आँखें स्निग्ध तरल औ बहुरंगी मन’ 78
रूप सिंह चंदेल Roop Singh Chandel -  रसोइया 80
तेजेंद्र शर्मा Tejendra Sharma - प्रतिबिम्ब 84
हरि भटनागर Hari Bhatnagar - लड़के 87
देवेन्द्र Devendra - शहर कोतवाल की कविता 91
अमरीक सिंह दीप Amrik Singh Deep  - कहाँ जायेगा सिद्धार्थ 96
प्रियदर्शन Priyadarshan - छोटापन 100
अवधेश प्रीत Awdhesh Preet - मुलुक 103
मनोज रूपड़ा Manoj Rupdha - दफ़न 107
पूनम सिंह Poonam Singh - नेपथ्य से नेपथ्य तक 116
राकेश कुमार मिश्रा Rakesh Kumar Mishra - डेड बॉडी 122
शेखर मल्लिक Shekhar Mallick - गुलमोहर का पेड़ 125
विमलेश त्रिपाठी Vimlesh Tripathi - अधूरे अंत की शुरुआत 127
मनोज पाण्डेय Manoj Pandey - बेहया 136
तरुण भटनागर Tarun Bhatnagar - गुलमेंहदी की झाड़ियाँ 139
उमा शंकर चौधरी Uma Shankar Chowdhury - छुटकी 147
गज़ल - कविता
भरत तिवारी Bharat Tiwari , विनीत मिश्रा Vineet Mishra
दख़ल
प्रज्ञा पाण्डेय Pragya Pandey  - यह संक्रमण का समय है 160
स्मरण
रोशन प्रेमयोगी Roshan Premyogi - कौन बनेगा राजेंद्र यादव 162

Share on Google +
    Faceboook Comment
    Blogger Comment

1 comments :

  1. सुन्दर प्रयास, आराम से बैठकर पढ़ेंगे।

    ReplyDelete

osr5366