शुक्रवार, मई 30, 2014

ये कहाँ जा रहे हो साहित्य ? Literature ! Where are you going?

शुक्रवार, मई 30, 2014
राकेश बिहारी की ईमेल अभी-अभी मिली, पढ़ कर सकते में हूँ... तय नहीं कर पा रहा कि क्या कहूँ; बहरहाल मुझसे जो हो पाया किया... आगे आप-सब ही कहें...

हिंदीभाषी समाज अपने लेखकों को भूलता जा रहा है - अशोक मिश्र Hindi-speaking society is forgetting their writers - Ashok Mishra

शुक्रवार, मई 30, 2014
पुस्तक मेला के निहितार्थ अशोक मिश्र (संपादक बहुवचन) पुस्तक मेले में अशोक मिश्र एक और नजारा यह देखने को मिला कि मेला आयोजक संस्था ...

मंगलवार, मई 27, 2014

कवि-खोजी मनमौजी सिलसिला - अशोक चक्रधर | Chakradhar-Chaman

मंगलवार, मई 27, 2014
चौं रे चम्पू  कवि-खोजी मनमौजी सिलसिला अशोक चक्रधर — चौं रे चम्पू! है कहां? दिखौ ई नायं भौत दिनन ते! कहां भटकि रह्यौ ऐ रे लल्ल...

कहानी - आल इज नॉट वेल - हसन जमाल | Hindi Kahani 'All is not well' by Hasan Jamal

मंगलवार, मई 27, 2014
आल इज नॉट वेल हसन जमाल  हसन जमाल संपादक ‘शेष’ पता: पन्ना निवास, लोहारपुरा, जोधपुर-342002 (राजस्‍थान) मो० : 098 29 31 4018 ........

सोमवार, मई 26, 2014

उनके (जगदम्बा प्रसाद दीक्षित) पासंग हिन्दी साहित्य में न कोई था, न है, न होगा - मृदुला गर्ग | Mridula Garg remembering Jagdamba Prasad Dixit

सोमवार, मई 26, 2014
जगदम्बा प्रसाद दीक्षित जन्म 1934 बालाघाट (महाराष्ट्र) - मृत्य 20 मई  बर्लिन  प्रज्ञा और करुणा के अद्भुत मिश्रण के जादूगर को मेरी ...

इलाहबाद में साहित्यिक हलचल | Literary activity in Allahabad

सोमवार, मई 26, 2014
इलाहबाद में साहित्यिक हलचल ख़ुशी होती है इलाहबाद में शुरू हुई इन साहित्यिक गतिविधियों को देख। अंजुमन प्रकाशन ने 25 तारीख को छः पुस्तक...

शनिवार, मई 24, 2014

अद्भुत ऊर्जावान देश - अशोक चक्रधर | Ashok Chakradhar on Narendra Modi

शनिवार, मई 24, 2014
अद्भुत ऊर्जावान देश  — अशोक चक्रधर चौं रे चम्पू! - अशोक चक्रधर — चौं रे चम्पू! बड़ौ बिदवान बनै है, जे बता चुनावन ते का सिद्ध भयौ? ...

शुक्रवार, मई 23, 2014

प्राण शर्मा (संस्मरण) - गुरु की तलाश : Pran Sharma "Memoirs" Search of Guru

शुक्रवार, मई 23, 2014
कुछ अपनी, कुछ औरों की गुरु की तलाश - प्राण शर्मा मेरे दोस्तों के उपेक्षा भरे व्यवहार के बावजूद भी कविता के प्रति मेरा झुकाव बरक़रार र...

गुरुवार, मई 22, 2014

मंगलवार, मई 20, 2014

शब्द भर जीवन उर्फ दास्तान-ए-नगमानिगार - प्रेम भारद्वाज | Shabd bhar jivan... Kahani - Prem Bhardwaj

मंगलवार, मई 20, 2014
शब्द भर जीवन उर्फ दास्तान-ए-नगमानिगार प्रेम भारद्वाज ‘नाटक का अभिनेता उसे ही सच मानता है जो हो रहा है। लेकिन जीवन में जो हो रहा है उसे...

गूगलानुसार शब्दांकन