सोमवार, जून 02, 2014

मृदुला गर्ग की नयी कहानी "बेन्च पर बूढ़े" Mridula Garg, Hindi Kahani, 'Bench par Budhe'

सोमवार, जून 02, 2014
ईमानदार लोगों के साथ यही दिक़्क़त है, सच का बुरा मान जाते हैं।  कम ईमानदार लोगों की यही सिफ़्त है, ज़िन्दादिल होते हैं, मज़ाक का बुरा नहीं...

गूगलानुसार शब्दांकन

loading...