कहानी: मिट्टी के लोग - एस आर हरनोट | Hindi Kahani 'Mitti Ke Log' by S.R. Harnot


मिट्टी के लोग

एस आर हरनोट

आज रामेशरी चाची बहुत परेशान है। उसका मन कहीं जाने को नहीं करता। जाए तो जाए भी कहां। जाने-करने को बचा भी क्या है ? पहले गौशाला पशुओं और भेड़-बकरियों से भरी रहती थीं। जबसे उसके पति बालदू के पास कोई काम नहीं रहा, रामेशरी को एक-एक करके सभी को बेचना पड़ा। आज मुंह मांगी कीमत भी कौन देता है। जिस गाए की कीमत कभी हजार-दो हजार होती थी उसे पांच सौ में देना पड़ा। वैसा ही भेड़-बकरियों के साथ हुआ। एक जमाना था जब रामेशरी चाची बकरियों की बकराथा (बाल) निकाल कर उनके खारचे(गर्म दरियां) बना कर बेचा करती थी। भेड़ों की ऊन निकाल कर खुद पट्टु-शालों के लिए कातती भी थी और बेच भी दिया करती थी। दाम भी बहुत अच्छे मिल जाते थे। पर आज तो मशीनों से बनी चीजों का जमाना है, भेड़-बकरियों की ऊन और बालों की कद्र अब कहां रही। खाली गौशाला में सांकल टंगी रहती है। बाहर-भीतर गड़े खूंटे जैसे उसका मजाक उड़ाते हैं। गौ शाला की भीतों में जगह-जगह पाथे उपले जैसे उस पर हंसते नहीं थकते। आते-जाते कोई गांव का व्यक्ति जब आवाज लगाता है तो उसका कलेजा फट जाता है, मानो सभी उससे पूछ रहे हो कि रामेशरी चाची अब तो मजे ही मजे। ’न गाए न बाच्छी, नींद आए हाछी।’ न काम न काज। धूप सेंको और आनन्द करो। पर चाची का दिल जानता है कि वह कितने मजे में है ?
Hindi Kahani By SR Harnot


  दो-चार खेत थे वे भी अच्छी तरह बाहे-जोते नहीं जाते। बैल भी नहीं है। गांव के सरीकों की नजरें बराबर उन पर है, पर अपने बूते रामेशरी चाची ने उन्हें बचाए रखा है। नजर खेतों पर हो भी क्यों न ऐसे खेत गांव में किसी के पास नहीं है। बालदू तो कई बार उन्हें बेचने का मन बना चुका है पर आखरी आस चाची ने मिटने नहीं दी है। सोचती है कि यही खेत काम आएंगे। बैल न भी हो तो हाथ से खोद कर ही सही, चार दाने तो भीतर आते रहेंगे।

  परिवार छोटा सा है। तीन बच्चे हैं। एक लड़की और दो लड़के। दोनों लड़के स्कूल जाते हैं। बड़ा पांचवीं में है। छोटा तीसरी में। बिटिया अमरो पांच पढ़ कर जवानी की दहलीज पर बैठी है। रिश्ते आते हैं तो सभी पूछते हैं कि बिटिया कितनी पढ़ी है ? कोई ट्रैनिंग बगैरह करवाई है या नहीं। चाची क्या जवाब दे। पांच की पढ़ाई की भी कोई गिनती है इस जमाने में। सभी पन्द्रह-बीस पढ़ी-लिखी मांगते हैं। उस पर भी सरकारी नौकरी हो तो सोने पर सुहागा, नहीं तो तीन-चार लाख का दहेज बगैरह। एक जगह रिश्ता पक्का होने की आस लगी भी थी पर अपने घर के बर्तन खाली देख अभी तक हां नहीं की है। जवान बेटी पर गांव के लुच्चों-लफंगों की नजरें चाची के कलेजे को छननी करती रहती है। सोचती है, क्या जमाना आ गया। गांव-बेड़ में भी अब न कोई साक रहा न शर्म। अपनी-अपनी डफली, अपना-अपना राग। 

  गरीबी की आंधी ने रामेशरी चाची को जवानी में ही बुढ़ा दिया है। पर चेहरे पर नूर अभी भी बचा है। भीतर हिम्मत खूब है। चाची जानती है औरतों से ही घर-बार होता है। इसलिए भीतर की परेशानियां सरीकों के बीच कभी मुंह पर नहीं आने देती। बेटी अमरो को भी वैसे ही संस्कार दिए हैं। खेती-बाड़ी से लेकर घर-बाहर का शायद ही ऐसा कोई काम होगा जो बेटी नहीं जानती। पराए घर जाएगी तो काम-काज की तो पक्की होनी ही चाहिए। कम पढ़ी-लिखी है तो क्या हुआ, चाची ने दूसरे भी कई हुनर उसे सिखाए हैं। अच्छे संस्कार दिए हैं। गांव का ऐसा कौन सा घर होगा जहां चाची की बिटिया के खजूर, गेहूं की बालियों और पक्की मक्की की डालियों के पत्तों के पटड़े और मंजरियां न बिछी हों। कौन सा ऐसा बच्चा होगा जो उसके हाथ के बुने स्वेटरों को न पहनता होगा। क्रोशिए से बने कई मेजपोश और झालरों वाली चादरें कई घरों के ड्राइंगरूमों की शोभा बढ़ा रहे हैं। गजब की कला है अमरो के हाथ में। पत्तों से बनी बहुत सी कलाकृतियां तहसील तक के स्कूलों और दफतरों की दीवारों में लगी है। जो चीज बनाती है लगता है किसी मशीन से बनी होगी। बातें भी उसकी वैसी ही सयानी है। इतनी अक्कल और हुनर तो बीए पढ़े-लिखों में भी नहीं होता। कभी वह घर में ऐसी बातें कर बैठती है कि मां-बाप दोनों हैरान-परेशान।

  रामेशरी चाची के पति बालदू के हाल भी अच्छे नहीं हैं। वह जैसे भीतर ही भीतर टूट गया हो। एक जमाना था जब गांव-परगने में उसकी साख थी। इज्जत परतीत थी। सभी मिस्त्री कह कर सम्मान देते थे। दूर-दूर तक उसकी मिस्त्रीगिरी मशहूर थी। जहां किसी का घर बनता, बालदू मिस्त्री पहले वहां होता। उसी गांव के चार-पांच मजदूर भी उसके साथ होते। उनकी टीम को मिट्टी के घर बनाने की माहरत हासिल थी। गांव-परगने में शायद ही कोई ऐसा घर था जिसमें उन्होंने मिट्टी न कूटी हो। क्या ’मट्टकंधे’ बनाते। क्या कुटाई करते....भीत पर भीत ऐसे चिनते मानों हाथ नहीं कोई घर बनाने की मशीन हों। किसी के दो मंजिले मकान बनते तो किसी का एक मंजिला। सबसे बड़ा मकान इक्कीस-इक्कतीस हाथ होता। उससे छोटा इक्कीस-तेरह। और जिसका सामथ्र्य कम होता उसका एक मंजिला नौ-तेरह हाथ ही बनता। लेकिन नीवं से लेकर भीतों की कुटाई और छत डालने तक का काम बालदू की टीम बखूबी करती। उनकी टीम में दो लकड़ी के मिस्त्री भी होते। घर की ’छाने’ छवाने के लिए भी बालदू दक्ष था। छान चाहे घास की हो, या खपरैल की या फिर स्लेटों की, उसकी छवाई देखते ही बनती थी। मिट्टी के मट्टकंधों के दो-दो मंजिला मकान शायद ही तब उससे बेहतर कोई बना पाता होगा। आज बालदू बेकार है। उसके हाथ में बेशक वही हुनर है। दक्षता है। महारत है। पर काम नहीं है। चंद सालों में क्या कुछ नहीं हो गया। सब कुछ बदल गया है। जिसके दो जून रोटी के लाले हैं वे भी अब कच्चे मकानों को गिरा कर पत्थर सिमैंन्ट के घर चिन रहे हैं। कोई एक ही कमरा बना रहा है। बालदू जब उन मकानों की शक्लें देखता है तो उसका कलेजा मुंह को आ जाता है। पक्के मकानों के लैंटर जैसे उसे खाने को दौड़ते हैं। न कोई सूरत और न सीरत।  

  जब कोई मिट्टी का घर गिराता है तो बालदू को लगता है जैसे उसी के अंग काट-काट कर गिराए जा रहे हैं। उसके शरीर से उसकी आत्मा निकली जा रही है। लगे भी क्यों न, आखिर उसने तपती दोपहरिया में उनकी मिट्टी कूटी है। ईमानदारी से पसीना बहाया है। कई घरों को गिराते हुए तो मजदूरों के पसीने छूट जाते। कई-कई दिन लगते, जैसे वे मिट्टी के घर न होकर लोहे के बने हो। उस वक्त बार-बार मिस्त्री याद आ जाता। बालदू की खूब बातें होतीं। उसके हुनर की तारीफें होतीं। कोई कहता, क्या भीत कूटता था बालदू। तो कोई बोलता मिट्टी का मिस्त्री बालदू जैसा दूसरा कोई नहीं था। घर बनाते भी तारीफ और अब उनको गिराते भी प्रशंसा, पर बालदू की किस्मत देखिए, हाथों को अब कोई काम नहीं। वह चाहता तो दूसरों की तरह सिमैंन्ट का मिस्त्री बन जाता, पर उसे यह काम कभी नहीं भाया। फिर गांव में जो मिस्त्री थे भी उन्होंने कोई दूसरा काम-धन्धा पकड़ लिया। बहुत से तो शहर जा कर मेहनत मजूरी करने लग गए।

  बालदू की जो इज्जत मिस्त्री होने से बनी थी उसने उसे घर से दूर सड़क पर काम जरूर दिला दिया। मिस्त्री का नहीं, बेलदारी का। बढ़ती मंहगाई के उसका घर जैसे-कैसे चलता रहा। साठ-सहत्तर रूपए ध्याड़ी से बनता भी क्या। आटा, दाल-चावल के भाव तो आसमान छूने लगे थे। दूसरी रोजमर्रा की जरूरतों की चीजें भी सस्ती कहां रही। उस पर बच्चों की पढ़ाई का खर्चा। गरीबी में आटा उस समय गीला हो गया जब उस सड़क के काम पर भी कई किस्म की मशीनें पहुंच गईं। धीरे-धीरे मजदूरों के लिए मशीने चुनौती बन कर खड़ी हो गई। सरकार ने सारे का सारा काम अब ठेके पर दे दिया था। ये सारे ठेके चौधरी हरिसिंह के बेटे ने ले लिए थे। उसने गांव की सारी लेबरें हटा दीं और जो काम बीस-तीस मजदूर करते थे, उन्हें अब लम्बी-लम्बी गर्दनों वाली मशीनंे करने लगी थीं। उन्हें चलाने के लिए महज एक-दो आदमी होते। वे खुदाई भी करतीं। मिट्टी पत्थर को इकट्ठा करके खुद भरती और पहाड़ी से नीचे फैंक दिया करती। जहां मजदूरों की जरूरत थी वहां के लिए वह शहर से ही बिहारियों और गोरखों की लेबरें लाने लगा था। इस तरह सड़क पर जो घ्याड़ी का काम था वह भी हाथ से जाता रहा और बालदू की तरह कई घरों में रोटी के लाले पड़ गए। बालदू पर इन चीजों की मार कुछ ज्यादा ही पड़ी थी। बच्चों की फीस के लिए भी पैसे नहीं जुटते थे। फीस तो दूर, दो जून रोटी भी मुश्किल से जुटायी जा रही थी। उस पर जवान बेटी के ब्याह की चिंता भी उसे भीतर ही भीतर खाए जा रही थी।

  चौधरी हरिसिंह न तो ज्यादा पढ़ा लिखा था और न ही बाप-दादाओं की कोई बड़ी सम्पत्ति ही उसे विरासत में मिली थी। लेकिन गांव में सबसे ज्यादा जमीन का वही मालिक था। छोटा परिवार होने के नाते जो साल-फसल आती उसे वह बेच दिया करता। उसी के बल-बूते उसने एक छोटी सी दुकान शुरू की और देखते ही देखते अपनी दुकानदारी और लालागिरी से पूरे गांव-परगने में धाक जमा ली। गरीबों को वह सौदा उधार देने के साथ-साथ ब्याज पर पैसे भी दे दिया करता और जब समय पर लोग उधार न लौटा पाते तो कोई उसे अपने घर से चांदी-सोने के छोटे-मोटे जेवर दे देते और कुछ खेत-घासणी रेहन रख देते। दो-चार सालों में जब मूल ब्याज के साथ दुगुना-चौगुना हो जाता तो मजबूरन गरीब किसान और मजदूर इन्हें उसे ही बेच दिया करते। इससे उसकी जमींदारी और साहूकारी खूब चमकने लगी थी। 

इतना ही नहीं अब जो भी बड़ा अफसर या नेता दौरे पर उस इलाके में आता तो उनकी शामें चौधरी के पास ही गुजरती थी। वह उनकी खूब आव-भगत करता था। यही वजह थी कि अब उसने अपने पांव राजनीति में भी जमाने शुरू कर दिए थे। यह क्षेत्र आरक्षित था, नहीं तो वह कभी का विधायक के चुनाव में भी कूद जाता और इसमें कोई दो राय नहीं थी कि वह जीत भी जाता। फिर भी उसका रुतबा अब राजनीति में बढ़ने लगा था। 

चौधरी की उम्र भी ज्यादा नहीं थी। यही होगी कोई साठ के आसपास लेकिन लगता वह पच्चास से कम का था। पहले-पहल वह बिल्कुल सादे कपड़े पहनता था लेकिन अब लिबास पूरी तरह बदल गया था। खद्दर के कपड़ों की जगह मंहगे कपड़ों ने ले ली थीं। सिल्क का सलेटी सूट और उस पर सिल्क की ही लम्बी सदरी, जिसमें एक लम्बी सोने की चेन बटनों के साथ लटकी रहती। सिर पर वह लाल पहाड़ी टोपी पहने रखता। सेहत भी अब नेताओं जेसी हो गई थी। कभी दुबला-पतला चौधरी अब काफी मोटा हो गया था। मुंह भरा हुआ था। छोटी बारीक मूंछे उसे खूब जचती थी। पेट आगे निकल गया था। हाथों की उंगलियों पर कई मंहगे नगों की सोने की अंगुठियां सजी रहतीं। जब इधर-उधर जाता तो हाथ में चमड़े का बैग और जेब में मंहगा मोबाइल रहता।

  उसकी चार बेटियां थीं और सबसे बाद लड़का हुआ था। तीन बेटियों की शादियां बड़े धूम-धाम से की थी। दहेज में खूब सोना-चांदी और दूसरी चीजें दी थीं। देता भी क्यों न, गरीबों का खूब खून जो चूसा था। चौथी बेटी अपंग पैदा हुई थी। उसके इलाज पर उसने बहुत खर्च किया पर कोई फायदा न हुआ। उसकी दाईं टांग छोटी थी। यही कारण था कि उसका कहीं रिश्ता न हो सका था। लेकिन बेटी से उसने दसवीं करवा ली थी जो अब दुकान का काम संभालती थी। गांव का ही एक लड़का उनके पास नौकर था। चौधरी के लिए बेटी की अपंगता एक तरह से वरदान साबित हुई थी। इसीलिए वह निश्चिंत होकर इलाके में राजनीति करता रहता था। एक-दो बार प्रधान के चुनाव भी लड़े और दोनों बार जीत गया। तीसरे चुनाव को प्रधान की सीट आरक्षित हुई तो वह अब दूसरी पार्टी के साथ हो लिया। अब तो हर चुनाव में उस इलाके की राजनीति उसी के इर्द-गिर्द घूमती थी।
  चौधरी हरिसिंह को यह बात कांटे की तरह खटकती थी कि कभी बालदू मिस्त्री ने न तो उससे कर्ज लिया और न उसकी औरों की तरह कभी परवाह ही की। उसकी दुकान से सौदा जब भी लिया तो नकद ही लिया। कभी-कभार थोड़ी-बहुत उधारी हुई भी तो उसे महीने-दूसरे महीने चुका दिया। बालदू की घरवाली हालांकि चौधरी की जमीन में मेहनत-मजदूरी अवश्य करती रहती पर अपनी इज्जत पर कभी आंच न आने दी। उसके तेज-तर्रार तीखे मिज़ाज देख कर चौधरी ने भी कभी उसकी मजदूरी नहीं रखी। बालदू के पास जो जमीन थी हालांकि वह बहुत थोड़ी थी पर थी अब्बल किस्म की। दूसरे गांव में जहां बस अड्डा बन रहा था उसकी एक घासणी और दो खेत उससे लगते थे। चौधरी की आंख तभी से उस जमीन पर गड़ी थी जब से सड़क का सर्वे गांव तक हुआ था। उसने कई बार और कई तरह से बालदू को रिझाने की कोशिश भी की कि वह उस जमीन को बेच दे लेकिन बालदू ने हमेशा चौधरी की बात या तो मजाक में टाल दी या करारा जवाब दे दिया। यह बात उसे भीतर ही भीतर कचौटती रहती थी। इसलिए भी कि गांव तो क्या अब तो दूर-दूर के इलाकों में भी चौधरी की बात कोई टाल नहीं पाता था और फिर बालदू जैसे छोटी जात के आदमी की भला औकात ही क्या ? पर चौधरी को उसकी औकात का मालूम था। कई तरह के हथकण्डे अपनाने के प्रयास भी उसने किए थे लेकिन परिणाम ढाक के तीन पात ही निकले। अब उसकी नजरें बालदू की जवान बेटी पर थी कि उसकी शादी-ब्याह के लिए तो उसे चौधरी के पास ही आना पड़ेगा।


  गांव-इलाके में चौधरी हरिसिंह के लड़के की खूब चर्चा होने लगी थी। चौधरी ने अपने लड़के की विदेश में पढ़ाई करवाई थी। वह अब लौट कर गांव आ गया था। सुना है उसने सरकारी नौकरी के बजाए शहर में करोड़ों का कर्ज लेकर एक कम्पनी खोली थी जिसमें तरह-तहर की मिट्टी खोदने और उठाने की मशीनें लाई गई थीं। मशीने ऐसी कि बीस-बीस मजदूरों का काम एक घण्टे में कर दे। गांव परगने में ही नहीं, शहरों तक की सड़कों और मकानों के निर्माण के ठेके उसे ही मिलने लगे थे। उसने गांव में अपना पुराना मकान पूरी तरह गिरा कर नया बना लिया था। तीन मंजिले इस मकान में तीस से ज्यादा कमरे थे और सभी में संगमरमर बिछा था। यही नहीं अब तकरीबन गांव और इलाके का हर सम्पन्न व्यक्ति उसी से अपना घर भी बनवाने लगा था। 

  गांव के लिए जो सड़क निकल रही थी उसका ठेका भी चौधरी के लड़के को ही मिला था। वह भी कई बार बालदू की ज़मीन की बात अपने पिता से कर चुका था। वह चाहता था कि यदि यह ज़मीन उसे किसी भी कीमत पर मिल जाए तो वह वहां अपना कारोबार स्थापित कर सकता है। बालदू की एक घासणी में रोड़ी के लिए अच्छा पत्थर मौजूद था और इस पर चौधरी के लड़के की आंख लगी थी। वह किसी भी कीमत पर उसे हासिल करके वहां क्रशर (रोड़ी बनाने की मशीन) लगाना चाहता था।

चौधरी और उसके व्यवहार में रातदिन का अंतर था। चौधरी जहां गांव के माहौल के मुताबित ढल-पड़ जाता वहां उसका लड़का किसी की परवाह नहीं करता था। बोलचाल में भी कोई शालीनता नहीं थी। वह जब भी गांव आता तो अपनी हेकड़ी में रहता। गांव के बड़ों को तो वह क्या सम्मान और आदर देता पर उल्टा सोचता कि बूढ़े-बुजुर्ग और उनके बीबी-बच्चों तक उसे नमस्ते करें या पांव छूऐ। गांव के लोग बेचारे ऐसा करते भी थे। पर बालदू और उसके परिवार ने कभी उससे मुंह ही नहीं जोड़ा।



  एक दिन उसने चौधरी के साथ बालदू के घर जाने की इच्छा जाहिर की। चौधरी ने उसे बहुत समझाया कि मिस्त्री अपनी जमीन कभी नहीं देगा, पर वह नहीं माना। मजबूरन चौधरी को उसके साथ आना पड़ा।

इतवार का दिन था। बालदू अपने आंगन में बैठा अनारदाना सुखा रहा था। रामेशरी चाची और अमरो कटे हुए दाड़ुओं(छोटे खट्टे अनार) से अनारदाना निकाल रही थी। अचानक चौधरी को आंगन में आते देख वे हैरान रह गए। बालदू ने चौधरी को प्रणाम किया। रामेशरी चाची ने भी उसके पांव छूए। अमरो ने दोनों हाथ जोड़ कर नमस्कार किया और भीतर जाकर मंजरी ले आई। चौधरी तो बैठ गया पर उसका लड़का इधर-उधर ताक-झांक करता रहा। बालदू ने ही पूछ लिया, 
’चौधरी जी इनको नहीं पैचाणा।’

चौधरी के चेहरे पर यह सुनते हंसी पसर आई जिसमें घमंड की छोंक ज्यादा थी,

’बई मिस्त्री तू कैसे पैचानता। मेरी-तेरी तरह ये गोबर-मिट्टी में रहा ही कहां है। छोटा सा था तो अपनी मासी के पास शहर पढ़ने चला गया। अंग्रेजी स्कूल में पढ़ा। फिर मैंने विदेश इंजीनीयरिंग करने भेज दिया। मेरा बेटा सुमेर चौधरी है बई। आज लाखों-करोड़ों का कारोबार है इसका।’

बालदू तारीफ सुन कर हल्का सा हंस दिया और कुछ पल उसको देखता रहा। वह अभी भी गर्दन ताने खड़ा था। बालदू को कुछ अटपटा लगा। कुछ बोलता तभी अमरो भीतर से एक छोटी सी दरी ले आई और मंजरी पर बिछाते हुए बोल पड़ी, 

’यहां बैठ जाओ छोटे चौधरी। अब म्हारे घर मेज कुर्सी तो है नहीं। गोबर-मिट्टी के लोग हैं। रहते-बसते भी इसी के बीच है।’

यह कह कर वह भीतर चली गई पर उसकी बातें छोटे चौधरी को ज्यादा ही चुभ गई। वह जूते समेत उस दरी पर धंस गया। पर नजरे अमरो का पीछा भीतर तक करती रही। 

  दरी मंजरी पर बिछाते छोटे चौधरी के मुंह से शराब की बास का एक भभका इस तरह अमरो के नाक में घुसा कि वह भीतर जल्दी न जाती तो वहीं उल्टी कर लेती। बालदू ने भी ताड़ लिया था कि वह शराब पीए हुए है। वह मन ही मन सोचता रहा कि चौधरी ने अच्छे संस्कार दिए है अपने लड़के को कि बाप की भी लिहाज नहीं रही...?
बालदू ने पहल की,

’कैसे आणा हुआ चौधरी जी आज ?’

’बई बालदू! तेरे से एक विनती करने आए है। पहले भी कई बार बात की पर तू नी माना। देख बालदू गरीबी बुरी चीज होती है। अपणा घर देख, कितणा पुराणा हो गया है। ऊपर अब घास भी नहीं रही। अब तो जमाना पक्के मकानों का है। है किसी के घास के घर गांव में ? उस पर जवान बेटी ब्याहणे को। जमाना बुरा है मिस्त्री। ऊपर से इतणी महंगाई। मेरा बेटा चाहता है कि तू सड़क के साथ लगती अगर अपणी घासणी बेच दे तो मुंह मांगी कीमत दे देंगे।’

बालदू की समझ में सारी बात आ गई थी। पर अमरो को ये बातें मन को लग गई। बालदू कुछ बोलता, अमरो ने दरवाजे पर से टोक दिया,

’चौधरी चाचा! रोटी और बेटी इतनी बुरी बी नी होती कि उनके लिए जमीन ही बेच दी जाए। भगवान ने जब दो हाथ दिए हो तो न कोई गरीब रहता है न मरता ही है । जिनके खेत और घासणियां आपने अपणे करवा लिए वे कौण से साहूकार हो गए।’

अमरो की बातें चौधरी और उसके बेटे पर तमाचे की तरह पड़ीं। चौधरी के कुछ अब बोलते नहीं बन रहा था। उसके बेटे के मुंह और आंखों में खून तैरने लगा था। वह एकदम ऐसे खड़ा हुआ मानो किसी कीड़े ने काट दिया हो। खड़े होते ही उसने मिस्त्री को कालर से पकड़ लिया,

’ओए मिस्त्री! तेरी ये लड़की क्या सोचती है कि मेरे बाप ने लोगों की जमीनें उनसे छीनी है। अरे खुद दरवाजे पर आकर दे गए वो.....नहीं तो जेल में सड़ते रहते। तू अपनी बात कर बे ओ मिस्त्री। मेरे को घासणी चाहिए किसी भी कीमत पर। बोल कितने लाख दूं तेरे को।.....बोल..........बोल.......अभी तेरे मुंह पर पांच-दस लाख मार दूंगा।’

बालदू ने कभी सोचा भी न था कि चौधरी का लड़का इतना बेशर्म और बिगड़ैल होगा। वह उसकी हरकत से भौचक्क रह गया। भीतर रामेशरी चाची और अमरो की समझ में भी कुछ नहीं आ रहा था। चाची का हाथ अचानक दराट पर पड़ा पर अमरो ने रोक दिया। 

छोटे चौधरी ने अभी भी बालदू की कमीज का कालर पकड़ा हुआ था। अब बालदू के रहा नहीं गया। पानी गले तक ही हो तो अच्छा है, सिर से ऊपर चढ़े तो........एक ही झटके में छोटा चौधरी आंगन की मुंडेर पर धड़ाम से गिर गया। पास बालदू का हुक्का पड़ा था। उसके हाथ वही लगा और उसे हाथ में उठाकर मार ही देता अगर चौधरी हाथ न पकड़ता। उसने खुद भी न सोचा था कि बात यहां तक बढ़ जाएगी। 

’मिस्त्री क्या करता है यार। जवानी का खून है बई। रहणे दे। मत दे तू जमीन। हमारे लिए कहां कमी है। अपणे पास रख। उजड़ रहने दे। तू भूखा-नंगा मरे या जीए म्हारे को क्या। तेरे भले की बात थी। हमारा कौन सा तेरी जमीन या घासणी के बगैर कारोबार बंद हो जाएगा।’

छोटा चौधरी अभी भी पूरी तरह संभल नहीं पाया था। न इस काबिल रह गया था कि पीछे हट कर कुछ बकता या हाथा चलाता। चौधरी हरिसिंह ने ही उसे संभाला था। उन्होंने अब वहां से निकलना ही ठीक समझा। पर आर-पार के घरों के लोगों को इसकी भनक लग गई थी कि बालदू के आंगन में कुछ हुआ जरूर है। दो-चार तो आंगन तक पहुंच भी गए थे। पर इस घटना पर किसी ने मुंह नहीं खोला। गांव-इलाके में यह पहली घटना होगी जब किसी ने चौधरी हरिसिंह को अपने आंगन में इतना करारा जवाब दिया था। 

चौधरी का गुस्सा अपने लाल पर ही फूट पड़ा था। वह जोर-जोर से उसे कुछ कहते हुए चला जा रहा था। उसके पीछे लडखड़ाते हुए उसका बेटा था। चौधरी शायद इस बात को लेकर शर्मिंदा था कि आज उसका नाम कहां तक पहुंचा है पर इस दो टके के मिस्त्री ने बेटे पर हाथ उठा दिया। दूसरे पल वह यह भी सोच रहा था कि बेटे की ही गलती थी। कोई ऐसे भी किसी के गिरेबान तक पहुंच सकता है। लड़का तो पहले ही नशे में था। अब ऊल-जुलूल बके जा रहा था।

बालदू को खुद भी पता नहीं रहा कि यह सब कैसे हो गया ? मन में डर भी बैठ गया कि कहीं चौधरी पुलिस न बुला दे। पर उसने ऐसा किया ही क्या था ? पहल तो चौधरी के लड़के ने ही की थी।  


  रामेशरी चाची ने अब पहले से ज्यादा काम करना शुरू कर दिया था। वह कई जमींदारों की जमीन में काम करने लगी थी। अमरो भी उसके साथ काम करती। कई बार वे दोनों अलग-अलग जगहों पर होती। पर जमींदारों से इतना भी न मिलता कि बच्चों की पढ़ाई के साथ-साथ अच्छी रोटी भी मिल जाए। वे जिन घरों में घास कटाई या साल-फसल इकट्ठी करने का काम किया करतीं, वहां के मर्द अब पहले जैसे नहीं रहे थे। न तो काम के हिसाब से पैसे ही मिलते और न ही कोई इज्जत। एक दिन तो हद ही हो गई जब चौधरी  हरिसिंह के छोटे भाई ने फसल को भीतर भरते चाची की बाहं पकड़ ली और छाती पर हाथ मार दिया। रामेशरी का खून खौल गया और उसने सिर पर उठाया अनाज का बोरा नीचे पटक कर उल्टे हाथ का तमाचा जड़ दिया। वह किसी को कुछ नहीं बोल पाया कि उसके साथ क्या कुछ घटा था। रामेशरी के लिए किसी के घरबार काम करने का वह आखरी दिन था। उसने यह बात किसी को नहीं बताई थी। बालदू को भी नहीं। सोचती कि इज्जत जितनी ढकी रहे उतनी अच्छी।

  इतना ही नहीं उसकी बेटी के साथ भी वैसा ही कुछ हुआ था। अमरो भी इधर-उधर गांव में काम करने जाती रहती थी। एक दिन चौधरी के बड़े भाई के लड़के ने, जो जिला परिषद का सदस्य भी था और उसी के पास रहता था, गौशाला के पास घास छोड़ते अमरो से छेड़छाड़ कर ली। शाम ढल रही थी। उसने खूब शराब पी रखी थी। उसके साथ पार्टी के दो-तीन मुश्टंडे भी थे। अमरो पहले चुप रही। लेकिन जब उसने अमरो को पकड़ कर गौशाला के भीतर ही खींचना चाहा तो उसके सब्र का बांध टूट गया। उल्टी दराटी का ऐसा वार किया कि लड़के के दो दांत ही जाते रहे। अमरो घबराई सी घर पहुंची तो रामेशरी चाची के होश उड़ गए। उसके हाल देख कर वह हक्की-बक्की रह गई। हाथापाई में अमरो का कुर्ता छाती पर से नीचे तक उधड़ गया था। बहुत देर तक वह मां के गले लग कर रोती रही। फिर रूंधे स्वर में विनती करने लगी,

  ’अम्मा! मुझे नहीं करना है इन लफंगो के घर काम। इससे तो अच्छा है मैं ढांक से छलांग लगा कर मर जाऊं।’

  चाची का हृदय जैसे चीर गया। बेटी को जैसे-कैसे संभाला। पर अपने गुस्से पर कैसे काबू रखती। दराट उठा कर जैसे ही बाहर निकलने लगी, बेटी ने रोक दिया।

  ’अम्मा! किस-किस से लड़ते रहेंगे हम। लोग गरीबों को ही कसूरवार मानते हैं। पर, मैंने उसके किए की उसको सजा तो दे दी है न। तू, मत जा।’
 
  पर रामेशरी चाची कहां मानने वाली थी। उसका पति घर में होता तो भी बात बन जाती। उस दिन वह भी वहां नहीं थां। आग-बबूली, पगलाई वह जब चौधरी के आंगन पहुंची तो सबसे पहले उसके बदमिजाज लड़के से ही सामना हुआ। वह चाची को देख गीदड़ की तरह भीतर भाग गया और घर का दरवाजा बंद कर दिया। उसको देख चाची का पारा सातवें आसमान पर। आंगन में गरज गई रामेशरी,

  ’चौधरी ! अपने इस राहमी को बाहर कर। देखती हूं इसकी मां ने कितणा दूध पलाया है इस लफंगे को। अमरो ने तो इसके दो दांत ही तोड़े हैं, मैंने इसकी गर्दन न काट दी तो रामेशरी न बोलियो। हम गरीब जरूर है चौधरी पर इज्जत नी बेची है। मेहनत का खाते-कमाते हैं। भीख नी मांगते किसी से। तेरे घर का काम इसलिए नहीं करते रे चौधरी की उसके बदले तुम म्हारी गांव की बहू-बेटियों की भी परवा भी न करो। काहे की परधानी है रे तेरी और काहे को इस अपणे कपूत को सिर पर चढ़ा दिया। क्या यही करता है रे लोगों की सेवा तेरा लाल। निकाल इसको बाहर, फिर देख इसकी मैं क्या गत बणाती हूं।’

  चौधरी घर की खिड़की से रामेशरी चाची के तेवर देख कर डर गया। वह पूरी चंडी लग रही थी। घर के बाकि लोग कहीं भीतर दुबक गए थे। चाची के चीखने की आवाजें जब दूसरे घरों ने सुनी तो कई आंगन-पिछवाड़े से झांकने लग गए। बात बिगड़ती देख चौधरी  ने हिम्मत जुटाई और आंगन में आकर रामेशरी चाची के सामने हाथ जोड़ कर खड़ा हो गया,

  ’लड़के से गलती हो गई रे रामेशरी। गलती हो गई। आज की औलाद छोटा-बड़ा, गांव-बेड़ कहां देखते हैं। नहीं देखते। बाप की कमाई है न। लाट साहब बणे फिरते हैं। देख रामेशरी, मेरी टोपी की इज्जत रख दे। तेरे पांव पड़ता हूं। मेरे को माफ कर।’

  चौधरी का लड़का उस समय वहीं पर था पर चुपचाप चुपचाप भीतर दुबका रहा। आज उसे अपने ऊपर ही शर्म आ रही थी कि इतने पैसे-धेले वाले होते हुए भी वह एक दो टके की औरत से जलील हो रहे हैं। पहले इस औरत के घरवाले से जलील हुए और अब यह आंगन में ही आ धमकी। उसे पहली बार अपनी कम्पनी, अपनी विदेशी पढ़ाई-लिखाई, हजारों-लाखों के बैंक खाते दो पैसे के भी न लगे थे। रामेशरी की गालियां उसके कानों में गर्म सलाखों की तरह पड़ रही थी। एक मन करता कि अपने छोटे भाई को गोली से उड़ा दे, पर इससे ज्यादा गुस्सा उसे उस औरत पर आ रहा था। चौधरी के हाल भी कुछ ऐसे ही थे। अपनी इज्जत बचाने के लिए उसने चाची से दिखावे की माफी तो मांग ली पर भीतर ही भीतर जलता-भुनता रहा।

अब चौधरी जैसा बड़ा इज्जतदार आदमी हाथ ही जोड़ दे तो चाची कैसे न माने। मानना पड़ा। कहां चौधरी और कहां चाची का परिवार। पर गलत तो गलत ही है न। चाची ने अब वहां से लौटना ही ठीक समझा। चली तो आई, पर मन में खुशी भी कम नहीं थी। भीतर अपने साथ हुई बतमीजी की आग भी कई दिनों से जल रही थी। चौधरी का कलेजा इस अपमान से भभक उठा था। उसकी रातें यही सोच कर कटती कि इन नीचों और हरामियों का क्या किया जाए ? चाची के मन में भी एक बड़ा डर घर कर गया था। इसी वजह से अब चाची ने बेटी को कहीं काम पर भेजना बंद कर दिया था।

चौधरी के लड़के ने बालदू को काम न देने के लिए गांव के मजदूरों को भी अपने पास काम नहीं करने दिया। उसे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से परेशान करने की कोशिशें करता रहा। इतना ही नहीं रामेशरी चाची और अमरो के साथ जो बतमीजी हुई उसमें भी उसी का हाथ था। लेकिन वह कभी सामने नहीं आया और इन कामों को दूसरों के कंधों पर अंजाम देता रहा पर हर बार मुंह की खानी पड़ी।

  कई दिनों से घर पर ही बैठी देख बालदू ने रामेशरी चाची को टोक ही दिया,

  ’लाड़ी! क्या बात है बई, आजकल बड़ी राणी बण के बैठी रहती है। खुद तो क्या कमाणा पर अपणी इस राणी को भी कहीं आणे-जाणे नहीं देती। क्या कोई सरकारी नौकरी लग गई है दोनों की।’

  पहली बार काम के लिए अपने पति से ऐसी बात सुनी थी रामेशरी ने। ताने तीर की तरह कलेजे में चुभ गए। पर वह खून का घूंट पी कर रह गई।’

  उसकी चुप्पी ने बालदू का गुस्सा और बढ़ा दिया। गुस्सा तो कुछ और था। वह भी कहां काम पर जाता था। पर आज भीतर का गुस्सा पत्नी पर ही फूट पड़ा था। रामेशरी को भनक तक न लगी कि उसके बांए गाल पर कब बालदू का भारी भरकम हाथ पड़ गया। वह हक्की-बक्की रह गई। ऊपर से गंदी-गंदी गालियां,

  ’रांड महाराणी बन के बैठी रहती है। न खुद कुछ करती है न अपनी इस लाडली को कुछ कमाणे देती। गांव में जमींदारों का इतणा काम पड़ा है उसको करते अब तुम्हारे को शर्म आने लगी है। मेरे से नी होता अब कुछ कि तुम्हारे को बैठ के खिलाया करूं। रंडी निकल जा यहां से और इन अपणे जायों को भी साथ ले जा...।’

  रामेशरी जब से इस घर में ब्याही है शायद ही कभी पति से जुबान लड़ाई हो। यहां तक कि कभी सिर उठा कर आंख न मिलाई। पर आज तो जैसे उम्र का कमाया चूल्हे में चला गया। बालदू ने जैसे ही दूसरा चांटा मारना चाहा, रामेशरी ने हाथ पकड़ लिया। फिर इतने जोर का झटका मारा कि वह दहलीज पर चपाट जा गिरा। इस अप्रत्याशित वार के लिए वह कतई तैयार न था। इससे पहले कि वह संभल पाता, रामेशरी ने चूल्हे की पठाई से एक लकड़ी उठा ली और बुरी तरह बिफर गई,

  ’तू क्या चाहता है रे तेरी औरत और जवान बेटी गांव के इन कमीणें पंडतो-ठाकुरों के घर अपना पसीना भी बहाए और उनके बिस्तर भी तपाती रहे। सुण ले तू! हमारे से ये काम नी होता। मैं भूखी मर जाऊंगी पर किसी के घर न आज के बाद खुद काम करूंगी और न अमरो को कहीं भेजूगी। तेरे से हम यहां नी सहन होते तो बहुत ढांक-ढंकार है गांव में, छलांग लगा कर खुद भी मरूंगी और इन तेरे बच्चों को भी मार दूंगी। सुणा तैने।’

  और इसके साथ ही वह बुरी तरह बिलख पड़ी थी। अमरो ने ही बात संभाली थी। मुश्किल से मां का गुस्सा ठंडा किया था। 
 
  बालदू के कानों में पत्नी की बात गर्म तेल की तरह पड़ी। कलेजे में जैसे किसी ने नश्तर मार दिया हो। वह जैसे दहलीज के पास पड़ा था वैसे ही अधमरा सा हो गया। उसकी सारी की सारी मर्दानगी जाती रही। उसने बाहों के घेरे में सिर रख कर दहलीज पर टिका दिया। एक पल के लिए आंखों के पास अंधेरा छा गया। कुछ नहीं सूझ रहा था। फिर अचानक लगा कि उसके आंगन मे पीछे से वे लंबी गर्दनों वाली मशीने रेंगती चली आ रही है। एक मशीन ने उसे अपने जबड़ों में भर कर आंगन से नीचे फैंक दिया है। फिर उसे लगा कि उसकी औरत और बेटी के पीछे गांव-परगने के मुशटंडे भाग रहे हैं। कुछ मनचलों ने उसकी जवान बेटी के कपड़े तक फाड़ दिए हैं। वह जोर-जोर से चिल्लाने लगा है। अपना सिर दहलीज पर पटक रहा है। यह देख कर रामेशरी चाची घबरा गई थी। अमरो, जो कहीं बाहर थी पिता के पास पहुंची तो देख कर हैरान रह गई कि माथे से खून बह रहा है। वह और उसकी मां बालदू को मुश्किल से उठा कर चूल्हे के पास ले आई। वह सुबक सुबक कर बच्चों की तरह रोते हुए कह रहा था, 

  ’रामेशरी! मुझे माफी दे दे। मेरी वजह से तुमको दूसरों की चौखट पर काम करना पड़ा। मेरी जवान बेटी को भी। तुम आज के बाद कहीं काम पर नहीं जाना। मैं करूंगा सब कुछ। जैसे भी होगा।’

  रामेशरी चाची को अपने किए पर पछतावा हो रहा था कि क्यों उसने अपने पति को खरी-खोटी सुनाई। पर और चारा भी क्या था उसके पास। मां-बेटी दोनों ने बालदू को संभाला था। उसे ढाढस बंधाया था। वह उठ कर चूल्हे के पास भीत का ढांसना लगा बैठ गया और सिर घुटनों के बीच ठूंस दिया। कई विचार मन में आने-जाने लगे। एक मन किया कि इस गरीबी से मर कर ही छुटकारा ले लें। उसके सामने कई ऐसी घटनाएं घूमने लगी थीं। 


  उसी के पंचायत के एक कुम्हार ने अपने दो बच्चों और बीबी को तीन महीने पहले जहर देकर मार दिया और खुद भी खा कर जान दे दी थी। उसकी चार परगनों में खूब साख थी। इज्जत-परतीत थी। उसकी तरह मिट्टी के बर्तन कोई नहीं बना सकता था। चौधरी ने किसी बैंक से उसे कामकाज बढ़ाने के लिए एक लाख रूपए का कर्ज दिलवाया था। लेकिन मिट्टी के जितने बर्तन उसने बनाए, घर में धरे के धरे रह गए। किसी ने नहीं खरीदे। अब मिट्टी के बर्तन लेता भी कौन है। कुम्हार न अपना हुनर बेच पाया न ही बैंक की किश्तें समय पर दे सका। दो साल बाद वही रूपया दुगुना हो गया। एक दिन जमीन-जायदाद की कुड़की का नोटिस बैंक वाले दरवाजे पर चिपका गए। कुम्हार के ऊपर जैसे बिजली गिर गई। कईयों के दरवाजे गया कि कुछ पैसा ही उधार मिल जाए। चौधरी ने भी मदद नहीं की। वह करता भी क्यों, उसी का किया-धरा था सब। बस अपने समेत पूरे परिवार को खत्म करने का ही रास्ता सूझा था कुम्हार को। यह ऐसी घटना थी जिसने पूरे इलाके को हिला कर रख दिया था। लेकिन चौधरी की तो जैसे लाटरी लग गई थी। उसने कुड़की का सारा पैसा चुका कर कुम्हार का घर और जमीन अपने नाम करवा ली थी।

  बालदू के मन में भी यही विचार कौंधा था। सोच रहा था कि कैसा बुरा वक्त उन पर आ बैठा है। न कामकाज है, न हाथ के हुनर की कद्र है और न गांव-बेड़ अपना रहा है। कितना कुछ बदल गया है। जो गांव कभी साक-सबंधों, प्यार-प्रेम, एक दूसरे की मदद के लिए जाना जाता था उस पर किस की बुरी नजर लग गई है। जहां न किसी के साक-सबंध रहे, न किसी की इज्जत-परतीत। पर क्या मुसीबतों से भागना अच्छी बात है ? उसके पास भले ही थोड़ी सी ज़मीन है पर है सड़क के साथ लगती। आज चौधरी जैसे कईयों की आंख उस पर है। मुंह मांगी कीमत देंगे उसकी।.......यह सोच कर वह कुछ पल के लिए मन ही मन अमीर हो गया था। 

  वह अपने हाथों को देखने लगा था जिसमें न जाने कितना हुनर कभी हुआ करता था। पर बिना काम के वह जाता रहा। उसने दोबारा मिस्त्री का काम ढूंढने का प्रयास किया पर सफलता नहीं मिली। गांव-परगने में चौधरी के लड़के के सारे काम चल रहे थे। वहां तो बालदू को काम मिलने से रहा था। पर एक दो जगह दूसरे परगने में बाहर से आए कुछ ठेकेदार और सिमेंट के मिस्त्री काम कर रहे थे। यह काम उन जमींदारों के घरों का था जिनसे चौधरी परिवार की पटती नहीं थी। वह उनके पास जा कर बेलदारी का काम करने लगा था उसने अपने मन से यह बात निकाल दी थी कि वह कभी इतना बड़ा मिस्त्री भी हुआ करता था। अब सवाल दो जून रोटी का था। चौधरी और उसके लड़के जैसे कमीनों से अपना घर-बार बचाने का था। उसने रात दिन काम करना शुरू कर दिया। दस से पांच तक के काम के बाद जितने घण्टे लगते उसे उसके भी पैसे मिल जाते थे। इसलिए वह देर रात तक काम करता और वहीं रह जाता। कुद दिनों की मशक्कत के बाद घर ठीक चलने लगा था।
  रामेशरी और अमरो भी कहां चुप बैठने वाली थी। बालदू के काम करने से उनकी हिम्मत भी बढ़ गई और उन्होंने भी इधर-उधर काम करना शुरू कर दिया था।  


  बालदू ने अपने दो कमरों के घर को कभी करीब से देखा ही नहीं था। एकाएक उसे चौधरी की बात याद आ गई। आज तीनों आंगन में खड़े होकर उसके मट्कंधो को देखने लगे तो हैरान रह गए। उसकी एक दीवार गिरने के कगार पर थी। ऊपर से घास की छान भी गलने लगी थी। पानी की रिसाई भीतों को पीछे की तरफ से गीला करने लगी थी। कई जगह से पलस्तर उखड़ गया था। सिर ढकने के लिए एक घर था वह भी जाता रहेगा यदि समय रहते मुरम्मत नहीं हुई तो। आगे बरसात आने वाली है फिर उसमें घर कहां बचने वाला। वे तीनों कई पल बुत से बने खड़े रहे। बालदू भूल गया था कि पटवारी घर के लिए पैसे देने की भी कोई बात कर गया था। अमरो ने ही समाधान किया था,,

  ’अरे पिता! ऐसे क्या देखते हो। दीवार को मत देखो, अपने हाथों को देखो पिता जिसमें आज भी वह कारीगर छिपा है। हम धीरे-धीरे खुद घर बनाएंगे और वह भी मिट्टी का। बिल्कुल धीरे-धीरे। देखना वह सबसे न्यारा बंगला होगा। फिर पटवारी अंकल पैसे देने की बात तो कर ही गए हैं।’

  बेटी की बात सुन कर वह कुछ पल चुप रहा। फिर एक नजर पत्नी के चेहरे पर दी और दूसरी बेटी पर। वे दोनों मुस्करा रही थीं, जैसे मां-बेटी ने पहले से ही यह योजना बनाई हो। बालदू को उनकी आंखों में खूब विश्वास भरा दिखा था। उसने दोनों हाथ सामने ऐसे किए जैसे किसी चीज के लिए अंजुरी भर रहा हो। हथेलियों पर जगह-जगह छालों के काले निशान थे, जो अब पक्के होकर स्थायी हो गए थे। उन निशानों में बरसों की मेहनत छिपी थी। एक मिस्त्री की कारीगरी छिपी थी। उसके भीतर अनायास ही इतनी हिम्मत जुट गई कि वह अभी से घर का काम शुरू कर दे। 

  वे तीनों आंगन के साथ सटे खलिहान की मुंडेर पर बैठ गए थे। बालदू ने अपने घर की तरफ देखा तो दांईं तरफ चिडि़या का घोंसला दिखाई दिया। तभी बाहर से एक चिडि़या चोंच में लेकर कुछ आई और घोसले के पास पहुंचते ही भीतर से कई चोंचे बाहर निकल पड़ी। वह पंछियों के इस परिवार को काफी देर देखता रहा। फिर नजरें दोनों बच्चों की तरफ गई जो खलिहान के दूसरे छोर पर बैठे स्कूल का काम कर रहे थे। उनके आसपास बिल्लियों के तीन बच्चे उछल-कूद कर रहे थे। बच्चों का ध्यान किताबों पर कम और उनकी शरारतों पर ज्यादा था। अनायास ही बालदू की आंखें भीग आईं।

  रामेशरी चाची दूर-पार आसमान को छूती धार को देख रही थी जो कई छोटी-बड़ी धाटियों से गूंथीं थीं। इसी धार से घास पकने पर रामेशरी और उसकी बेटी कभी घास काट कर पशुओं को लाती थी। यह एक सरकारी घासणी थी। जब यह खुलती तो कई गांव की औरतंे और मर्द इससे घास काटते थे। रामेशरी ने एक नजर गौ शाला की तरफ दी। और दूसरी उस धार पर, हल्के भूरे रंग की घास से भरी उस धार पर ढलते सूरज की रोशनी चमक रही थी। जैसे रामेशरी और उसकी बेटी को अपने पास बुला रही हो। रामेशरी उठी और भीतर कुछ टटोलने लगी। कुछ देर में वह बाहर आई और हाथ में दो दराटियां थीं। बेटी समझ गईं कि कल से घास काटने जाना है। 

  दूसरे दिन तड़के ही मां-बेटी सबसे पहले घासणी में पहुंच गई। गांव की दूसरी औरतें उन दोनों को देख कर हैरान हो गई। लेकिन उन्होंने मन की बात किसी को नहीं बताई। ........और महीने भर घास काटने और ढोने पर उन दोनों ने अपने घर के सामने वाले दो पेड़ों पर लम्बी लम्बी घास की कई गडेड़ें लगा दीं। एक दिन पशुओं का व्यापारी घास खरीदने आया तो एक-एक गडेढ़ तीन-तीन हजार की बिकी।


  बालदू ने अब अपने घर बनाने की योजना बना ली थी। अमरो ने पिता से घर के बारे में खूब चर्चा की थी और अपने हाथ से इसका नक्शा भी तैयार कर लिया था। वह पिता को समझाती कि हमारा घर भले ही छोटा हो लेकिन हो सबसे न्यारा। ऐसा कि सब देखते रह जाए।

  वे तीनों धीरे धीरे घर बनाने में जुट गए। इस बार उन्होंने अपने नए घर की नींव बिना मुहूर्त निकाले और पंडित बुलाए ही रख दी। नींव के लिए कुदाली से ’खणाही’ जिस रोज करनी थी, बालदू सपरिवार ऐन तड़के तैयार हो गया। रामेशरी, अमरो और दोनों बच्चे भी नहा-धोकर इस शुभ अवसर पर साथ थे। अमरो ने ही यह सारी योजना सुझाई थी। वह इस हक में नहीं थी कि घर के लिए पहले पंडितो के चक्कर काटो और फिर वास्तु का पत्थर ढूंढ कर पूजा-पाठ पर पैसा बर्बाद करो। 

  बालदू ने बेटी के हाथ से ही इस शुभ काम को अंजाम दिया। सूरज की पहली किरण के साथ ही अमरो ने जैसे ही पहली कुदाली जमीन पर मारी सभी ने उसको स्पर्श किया। इसी भाव से कि वे इस काम को मिल कर कर रहे हैं। उन्होंने सूरज को साक्षी माना कि उनका काम सिरे चढ़ जाए। और इस तरह उनके घर का काम शुरू हो गया। गांव के लोगों के लिए यह बात हैरत वाली थी कि बिना मुहुर्त और पूजा पाठ के बालदू मिस्त्री ने घर का काम लगा दिया। गांव का एक स्याना पंडित मणिराम सबसे पहले बालदू के काम पर आ धमका और धर्म-संस्कार समझाने लगा,

  ’भई बालदू, तू तो बड़ा मिस्त्री है रे। बीसियों घर बनाए है तैने। क्या कोई बिना सायत-मुहुर्त के भी नीवं रखता है। ये तेरे परिवार के लिए अच्छा नहीं है कि हम पंडतों-पुरोहितों की तोहीन हो। गांव-बेड़ से लेकर परगने तक चर्चा हो रही है कि क्या उस गांव में कोई बड़ा-बुजुर्ग नहीं है जो बालदू को समझाता। तैने ठीक नी किया बालदू।’

  वह कुछ इस तरह नाराजगी जता रहा था जैसे उसके पंडित होने के साथ कोई बड़ी नाइंसाफी हुई हो। इससे पहले बालदू कुछ कहता, अमरो पंडत के सामने आई और कहने लगी,

  ’दादा! घर हम बना रहे हैं और तोहीन आप लोगों की हुई है। ये बात जची नहीं कुछ। रही साइत-मुहुर्त की बात तो दादा आप तो बड़े पंडत हैं। जरा बताना तो कि आज तक जिन भगवानों और देवताओं की आप पूजा करते-करवाते आए हैं उन्हें आपने कितनी बार देखा है ?’

  मणिराम ने सोचा भी न था कि बालदू की बेटी इतने तीखे तर्कों से उसे चित कर देगी। प्रश्न ऐसा था कि मणिराम के कुछ बोलते ही नहीं बना, पर भीतर ही भीतर पूरी तरह जल-भुन गया। इतने में कई और लोग भी वहां चले आए।

  अमरो ने अपनी बात शिष्टता से जारी रखी।

  ’दादा! ऐसा भी नहीं है कि हमने बिना मुहूर्त और पूजा बगैरह के ही घर का काम शुरू कर दिया। पहली बात तो दादा यह है कि हम ठहरे गरीब लोग। साइत-मुहूर्त होते हैं बड़ी हवेलियों के जहां बीस-तीस कमरे हों और फिर घर भी पक्का हो। हमारा तो मिट्टी का मटकंधा है दादा। बस यूं समझ लो कि सिर ढकने के लिए छोटी सी छत। हम असल में अपने पुराने घर को ही तो नया बना रहे हैं। इसके लिए क्या पूजा और क्या पाठ। पर हमने तो उस देवता-भगवान को अपने काम के लिए साक्षी बनाया है जो हमारी मेहनत की कद्र करता है और सदा हमारे साथ रहता है।’

  इस बात पर गांव के सभी जमा हुए तमाशबीन अमरो का मुंह ताकते रह गए। उनकी समझ में कुछ नहीं आ रहा था। 

  ’इस तरह हैरान होने की बात नहीं है! आप भी तो सूरज को देवता और भगवान मानते हो न। उसके लिए न कोई नीच है और न ऊंचा। न अमीर है न गरीब। वह बिना हिचक सभी के पास आता-जाता है। सोचो  तो जरा, अगर सूरज न हो तो न दुनिया में हम रहेंगे न वे देवता-भगवान जिनकी आप पूजा करते रहते हैं। बस, हमने उसे ही साक्षी मान कर सुबह की शुभ बेला में काम लगा दिया।’

  बालदू की बेटी की बात में कईयों को खूब दम लगा। खास कर ऐसे लोगों को जो अपनी मेहनत की खाते थे। सचमुच जच गई उन्हें अमरो की ये बात। पर मणिराम पंडत जल-भुन कर चलता बना। पता नहीं जाते-जाते क्या कुछ बड़बड़ा रहा था।


  बालदू ने अपनी हैसियत के मुताबिक उन्नीस-तेरह हाथ घर की नींव रखी। और बाद में उसके साथ एक रसोई के लिए जगह निर्धारित कर दी। चारों तरफ रस्सी से नपाई की और सूत डाल दिया। अब नींव की चिनाई-भराई शुरू हो गई। बालदू नींव खोदता और बाकी के सदस्य बांस के ओडलों में मिट्टी उठा कर फैंकते। फिर पत्थर ढो कर बालदू को देते। देखते-ही देखते दो-तीन दिन में नींवों की भराई-चिनाई पूरी हो गई।

  अब मटकंधों का काम शुरू होना था। बालदू ने पुराने घर के निचली तरफ अपने खेत के किनारे मिट्टी के लिए गड्ढा खोद दिया। यह मिट्टी उसे घर के लिए उम्दा लगी। इसमें हल्की चिकनाई भी थी जो कूट में ठीक बैठने के लिए अच्छी थी। अब भीत की कुटाई के लिए सामान की जरूरत पड़ी। बालदू के पास सारा सामान था, लेकिन कई सालों से वह छत पर कहीं लावारिस की तरह पड़ा था। आज उस सामान की अपने घर के लिए जरूरत थी। वह छत पर गया और सामान को ढूंढने लगा। पहले लकड़ी की मुंगरियां निकाली। उनकी लकड़ी और धार का मुआइना किया। वे बिल्कुल ठीक थीं। उन्हीं के साथ दो फल़े(तख्ते), एक धड़ा, बांस की पांच देवलियां और पांच ही शर रखे थे। उसने उन्हें निकाला, झाड़ा और गौर से देखा। वह हैरान था कि उनमें किसी तरह का कीड़ा या दीमक नहीं लगा था। बांस की ’देवल़ों’(तीन छेदों वाली बांस की लकड़ी) के छेद भी ठीक थे। उसने छत पर ही एक देवल़ के छेद में शर को डाल कर परखा तो वह फिट बैठ गया। सारे का सारा सामान एक-एक करके वह छत से नीचे पकड़ाता रहा। उसने बहुत पहले से ही पुराने घर की मरम्मत के लिए कुछ सामान जोड़ रखा था। उसमें चीड़ और चूली की कडि़यां और कातियां थीं। कुछ खैर के पेड़ों की लकड़ी भी थी जो खिड़कियों के ऊपर शल्दर लगाने के काम आ सकती थीं। 

  खिड़की-दरवाजे बनाने के लिए लकड़ी की अभी भी जरूरत थी। उसने अपने एक पुराने साथी मिस्त्री से इस बावत बात की तो वह इन चीजों को बनाने-देने के लिए राजी हो गया। होता भी क्यों न, बालदू ने ही उसे लकड़ी का मिस्त्री बनाया था और दोनों कितने ही दिनों साथ-साथ काम करते रहे थे। उस मिस्त्री ने अब गांव के बस अड्डे पर ही एक छोटा आरा लगा लिया था और मिस्त्री के काम का सारा आधुनिक सामान रख लिया था। इसलिए उसका धंधा खूब फल-फूल रहा था। बालदू के लिए वह सचमुच भगवान की तरह प्रकट हुआ था। उसने हालांकि कभी ऐसी उम्मीद नहीं की थी कि कोई उसकी इतने खुले दिल से सहायता कर देगा। 

  अब भीत की भराई-कुटाई शुरू हो गई। बालदू ने पांच हाथ लम्बे दोनों तख्तों के एक सिरे पर मिट्टी की रोक के लिए धड़ा लगाया। नींव के ऊपर तख्तों के नीचे से लकड़ी की देवलियां लगाकर ऊपर से भी उतनी ही डाल दी। उसके बाद दोनों तरफ से उनके छेदों में शरों को डाल कर तख्तों को अच्छी तरह कस दिया। अमरो मिट्टी खोदती और चाची तथा दोनों बच्चे ढुलाई का काम करते। जैसे ही पहला टोकरा तख्तों के बीच रामेशरी ने गिराया, बालदू ने सूर्य देवता और अपनी कुल देवी को मथा टेक कर पहली मुंगरी मिट्टी में जोर से मारी। धम्म की आवाज हुई और फिर रामेशरी ने भी मुंगरी संभाल कर कुटाई शुरू कर दी। देखते ही देखते पहला मिटटी का भीत कूट कर तैयार हो गया। बालदू ने तख्तों को खोला तो मिट्टी के उस भीत की सफाई देखता ही रह गया। बहुत अच्छा बना था। 

  पहले दिन वे सभी अकेले ही काम करते रहे, लेकिन दूसरे दिन जैसे ही काम शुरू हुआ तो गांव की दो-तीन औरतें हाथ में मुगरियां लेकर उनके पास पहुंच गई। बालदू और रामेशरी की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्हें पुराने दिन याद आ गए थे। जब किसी का मिट्टी का घर बनता तो बारी-बारी गांव के सभी लोग मिट्टी कूटने, ब्वारी(मदद) करने आ पहुंचते। पता भी न चलता कि कब मटकंधे कूट कर छवाई के लिए तैयार हो जाते। आज कुछ ऐसा ही आभास बालदू को हुआ था। उसकी आंखों में अनायास पानी भर आया। इसलिए भी कि उसने आज के इस समय में इस तरह के सहयोग की कतई उम्मीद नहीं की थी। सोचा कि शायद कुछ अपनापन गांव में बचा है। या फिर बालदू और उसके परिवार ने जो कुछ सहायता दूसरों की थी उसकी कमाई का ही यह फल था।



  बालदू के घर के भीत जब जमीन से ऊपर उठने लगे तो चौधरी हरिसिंह और उसके बेटे के कान खड़े हो गए। कहां तो वे उसको बर्वाद करने के मनसूबे तैयार कर रहे थे और कहां उसने आज उनकी छाती पर मूंग दलने का काम कर दिया। बालदू का घर चौधरी की बेड़ से काफी दूर था पर आंगन-दरवाजे से वह सामने दिखाई देता था। भीत कूटने और मिट्टी-पत्थर की आवाजें सीधी आकर चौधरी के कानों में टकरा जाती थी। उसे लगता था कि मिट्टी की मुगरियां उसकी छाती पर पड़ रही है। 

  बालदू के घर और वहां हो रहे काम की पल-पल की खबर रोज कोई न कोई चौधरी  को दे देता था। एक दिन चौधरी  के रहा नहीं गया और सीधा बालदू के घर पहुंच गया। उसका पूरा परिवार घर के काम में व्यस्त था। खलियान की मुंडेर पर बैठे-बैठे चौधरी  ने बालदू पर ताना कसा,

’मान गए रे मिस्त्री तेरे को। दो जून रोटी के लाले पड़े हैं। बेटी बांस की तरह ऊंची हो रही है और तेरे को महल बनाने की सूझ रही। क्या बात है बई मिस्त्री.....।’
  यह कहते हुए चौधरी  ने खुद ही जोर का ठहाका लगा दिया। चौधरी को बैठे देख अब दो-चार चमचे भी उसके इधर-उधर खड़े हो गए। किसी के हाथ में दराट था जो घास-पत्ती को जा रहा था। किसी की पीठ पर किल्टा था जो अपने खेत में गोबर फैंक कर आ रहा था तो कोई कन्धे पर पट्टु की बुक्कल मारे ऐसे ही मजा लेने चला आया था। चौधरी की अब हिम्मत बढ़ गई थी पर बालदू और रामेशरी का रोम-रोम गुस्से से कांप रहा था। एक मन किया कि मुंगरी से चौधरी  की खूब कुटाई कर दे पर मुश्किल से अपने मन को संयत किया। इसमें भी अमरो का ज्यादा हाथ था। उसने अपने साथ मां और पिता को भी शांत रहने के लिए कहा था।

चौधरी ने फिर मन की भड़ास निकाली,

’अरे मिस्त्री! ये मिट्टी-विट्टी के घर को पुराने जमाने की बातें है। मेरे को बोलता तो सरिया-सिमैंट के ढेर लगा देता। तू तो जानता है मेरा लड़का इंजिनियर है। विदेश से पढ़-लिख कर आया है। बीसीयों मकान बना दिए है उसने। फिर तेरा तो एक-आध कमरे का था। बोलता तो रात-रात को चिण-चुण के किनारे कर देता। भई रही पैसे की बात, तो तेरे से पैसे थोड़े ही लेने थे। गांव-बेड़ में इतणा मान तो होता ही है। बस बदले में रामेशरी और अमरो को म्हारे खेत-खलियाण में काम करने लगाए रखता।’

इस पर बालदू ने आपा खो दिया था और किसी को पता नहीं चला कि मिट्टी कूटने की मुंगरी कब उसने चौधरी  पर फैंक दी। किस्मत अच्छी थी कि चौधरी  के सिर पर नहीं लगी। लगती तो वहीं ढेर हो जाता। मुंगरी चौधरी  के साथ एक पेड़ में टकराई और खेत में गिर गई।

चौधरी ने कभी सोचा भी न था कि ऐसा कुछ घट जाएगा। जितने में बालदू नीचे उतरता चौधरी के साथ उसके चमचे भी वहां से छू-मंत्र हो लिए। अमरो और रामेशरी ने मुश्किल से बालदू का गुस्सा शांत किया था। वह अभी भी आंगन में हांफ रहा था। अमरो ने झटपट भीतर से पानी का लोटा लेकर उसे दिया तो वह खड़े गले पूरा गटक गया। थोड़ा सहज हुआ तो बेटी ने समझाना शुरू कर दिया,

’देख पिता! इतना गुस्सा नी करते। ये हरामी तो चाहता ही है कि हमारे काम में कुछ न कुछ अड़चन पड़े। सोच पिता कहीं उसके सिर पर मुंगरी लग गई होती तो लेने के देने पड़ जाते। कुत्ते हैं साले पिता, भौंकते रहते हैं। चल ऊपर चल, काम बहुत है करने को।’

बिटिया की सलाह उसके मन को छू गई थी। उसे एहसास होने लगा था कि कहीं सच कुछ गुरा घट जाता तो वह कहीं का नहीं रहता। क्या करते उसके बच्चे।

इस बात की चर्चा पूरे गांव में हो रही थी। यह तीसरा अवसर था जब चौधरी जैसे नामी-गिरामी आदमी को बालदू के परिवार से फटकार मिली हो। पहले रामेशरी ने उसकी ऐसी-तैसी की थी और आज बालदू ने रही-सही कसर खो दी। चौधरी तो पागल सा हो गया था। उसने बहुत कोशिश की कि बालदू के काम पर कोई ब्वारी करने न जाए पर इसका उल्टा असर गांव में देखने को हुआ। पहले दो-तीन औरतें सहायता के लिए आया करती पर अब तो हर घर से बारी-बारी रोज कोई न कोई चला आता और देखते ही देखते काम निपटता रहता।


  बालदू ने इस घर को पहले बने मकानों की तरह नहीं बनाया। इसका जो आकार बना वह कलात्मक था। उसने उसके लिए मिट्टी के खपरे तैयार करने के लिए खूब लकडि़यां इकट्ठी कीं और घर की छत के मुताबिक जब सांचे में मिट्टी के खपरे तैयार हुए तो उन्हें भट्टी में पकाने रख दिया। पूरे 15 दिन बालदू के घर के पिछवाड़े भट्टी जलती रही। जब आवा ठंडा हुआ तो खपरे पक गए। बाहर निकाले तो उसकी पत्नी और बेटी हैरान रह गए। उन्होंने इतनी कारीगरी से बने खपरे पहले कहीं देखे ही नहीं थे। बालदू ने जंगली जड़ी-बूटियों को इकट्ठा कर खपरों के लिए एक हल्के गेरूई रंग का घोल तैयार किया और उससे उन्हें रंग दिया जिससे उनकी शक्ल ही संवर गई। आंगन में खपरों की कतारें देख कर अब रोज गांव-परगने से कोई न कोई वहां आता और पूछता कि बालदू ने इन्हें कहां से खरीदा है। तो वे सभी हंस देते। 

  बांस बालदू के अपने खेत में था। उसने उनकी कनाते काटी और तैयार कर ली। पुराने घर के छत से भी काफी लकडि़यां निकली थीं जिनका भी घर की छवाई के लिए बांस के साथ उपयोग किया गया। बांस-लकड़ी की कडि़यों और बत्तों से जब बारीक छत गूंथा गया तो उस पर खपरों की छवाई का काम शुरू हो गया। यह काफी बारीक और मेहनत का काम था जिसे तीन-चार दिनों में पूरा कर लिया गया।

एस आर हरनोट
ओम भवन,
मोरले बैंक इस्टेट, निगम विहार,
शिमला-171002
मो: 098165 66611
ईमेल: harnot1955@gmail.com

  बालदू की बिरादरी का एक आदमी था जिसकी उम्र तकरीबन पचहत्तर साल की थी लेकिन चेहरे पर नूर ऐसा था मानो अभी पचपन-साठ का होगा। एक जमाने में वह बांस का ऊंचे दर्जे का कारीगर था जिसके पास गांव-परगने से तो लोग बांस की टोकरियां, किल्टे, अनाज के लिए भलोटियां इत्यादि बनवाने आते ही थे लेकिन दूर-दराज के इलाकों से भी लोग उसके पास आया करते थे। लेकिन समय के साथ न बांस के बर्तनों की लोगों को जरूरत रही और न ही उसकी कारीगरी काम आई। अमरो उसका बहुत आदर करती थी और दादा कह कर पुकारती थी। बालदू को इस बात का इल्म ही नहीं हुआ कि वह कब आंगन में आकर बांस का काम करने लग पड़ा। अमरो ने जब उसके पास घर के लिए नए तरीके से लोहे की जालियों की जगह बारीक बांस से जालियां बनाने का प्रस्ताव रखा तो उसकी खुशी का पारावार न रहा। नए मकानों में लोग अक्सर पल्लों वाली खिडकियों के बाहर मक्खी-मच्छर के बचाव के लिए जालीदार पल्ले लगाते थे, इसलिए अमरो ने यह नई तरकीब निकाली थी। छज्जे के लिए लकड़ी नहीं थी और इतने पैसे भी नहीं थे कि लोहे की चादर खरीदी जाती। घर के चारों ओर बने छज्जे में लकड़ी व टीन की चादर के बजाए बांस का छज्जा बनाया गया जिसने घर को चार चांद लगा दिए। घर के भीतर भी जो छतें कमरों में डाली गई वह भी बांस की ही कारीगरी से बनाई गई थीं। 

बालदू ने अब लेवी-पलस्त का काम शुरू कर दिया था। बारीक मिट्टी छान कर उसमें मूंज नामक एक विशेष तरह की घास बारीक काट कर मिलाई थी जो मिट्टी के गारे की पकड़ को कई गुना बढ़ा देती थी। बाहर-भीतर के मटकंधे उससे इतनी सफाई से तैयार हुए जिसके आगे सिमैंट के पलस्तर के मायने भी कुछ नहीं रह गए थे। अमरो ने भी अपनी कलाकारी खूब दिखाई थी। उसने लकड़ी के मिस्त्री से घर के खिड़की दरवाजों पर बांस का गजब का काम करवाया था। आंगन में चारों तरफ फूल की क्यारियां अमरो ने खुद बनाई थी। वह कल्पना करने लगी कि जब इनमें फूल खिलेंगे तो इस घर की शोभा और भी बढ़ जाएगी।

इसी बीच शहर से आकर एक-दो पत्रकार भी बालदू का घर देख गए थे और उसके चित्र भी खींचे थे। बालदू और उसके परिवार की समझ में यह नहीं आया था कि वे यहां कैसे पहुंच गए और उन्होंने घर के फोटो क्यों खींचे थे। उन्होंने अमरो से भी लम्बी बातचीत की थी। एक फोटो उसका और साथ बालदू का भी खींचा था।

आज घर बन कर पूरी तरह तैयार हो गया था। वे सभी देर रात तक काम करते रहे।


सुबह होते ही गांव में दो बातें हुईं। पहली यह कि भोर का सूरज जैसे बालदू के घर पर ठहर गया हो। दूसरी यह कि बालदू के घर का फोटो अखबार के पहले पन्ने पर छपा था। दिन की बस खराब होने के कारण गांव में अखबार दोपहर को नहीं पहुंची थी। रात की बस में अखबारें थीं। इसलिए छोटे चौधरी की अखबार ऐन तड़के एक लड़का दे गया था। वह अखबार लेकर भीतर से आंगन में आया तो उसकी नजर खेतों के बीच बालदू के मकान पर पड़ी। उसकी आंखें चौंधिया गईं। लगा जैसे कांच की हजारों बारीक किरचें आंखों में घुस गई हों। उसने कन्धे पर रखे तौलिए से आंखे मली और कई बार झपकाई। फिर हाथ में पकड़े अखबार को सामने किया और भौचक्क रह गया। पहले ही पृष्ठ पर बालदू के घर का फोटो देख कर हैरान-परेशान। जैसे अंधा और बहरा हो गया हो। दिमाग ने सोचना-समझना बंद कर दिया.........बस यही बात परेशान करती रही कि खेतों के बीच से बालदू का घर अखबार पर कैसे चिपक गया....?

चौधरी ने अपने लड़के को आंगन के बीच ठूंठ की तरह खड़े देखा तो उसका सिर भिन्नाया। भाग कर पास आया तो उसकी शक्ल देख कर परेशान हो गया। चेहरा पसीने से भीगा हुआ था और आंखों में ढलती शाम की लालिमा उतर आई थी। वह एकटक सूरज की तरफ देख रहा था। पसीने की बूंदे गालों और मुंह पर उगी हल्की काली दाढ़ी के बीच इस तरह चू रही थी मानो चूल्हे पर रखे तम्बिया से पानी उबल कर नीचे सरक रहा हो। दांए हाथ की मुट्ठी में बुरी तरह भींचा अखबार इस तरह लग रहा था जैसे सांप ने चूहे को अपने जबड़े में दबा रखा हो। चौधरी को उसके पूरे शरीर में इस तरह की कम्पन महसूस हुई जैसे किसी देव पंचायत के दौरान मुख्य गूर के शरीर में देवता का प्रवेश हो रहा हो। उसने छोटे चौधरी को कई बार झिंझोड़ा। फिर ठिठक गया। दोबारा चेहरे पर नजर डाली तो सोचा कि वह बाबा रामदेव का कोई सूरज वाला प्राणायाम कर रहा है।

  चौधरी ने ध्यान से सामने देखा और हतप्रद रह गया। बालदू का नया बना घर चमक रहा था। उसे लगा जैसे आज का सूरज पूर्व की पहाड़ियों से नहीं बल्कि बालदू की खपरैल के बीच से उग रहा हो। वह भी उसी मुद्रा में जड़ हो गया। उन दोनों को इस तरह आंगन में बुत की तरह खड़े देख एक-एक करके परिवार के सदस्य उनके पास पहुंचे और उन जैसे हो गए। कुछ देर बाद बाप-बेटा जैसे नींद से जागे। दोनों ने अपनी आलीशान कोठी की तरफ देखा.......फिर दूर-दूर तक छोटे चौधरी ने अपने बनाए मकानों को याद किया..................उस मिट्टी-गोबर और खपरैल से बने बालदू के घर के आगे वे सभी बौने लग रहे थे। उसके गुस्से और अपमान की कोई इंतहा नहीं रही। उसने अखबार को दोनों हाथों के बीच पूरे जोर से मसला और लाइटर से आग लगा दी, मानो बालदू के घर को जला दिया हो।  


००००००००००००००००
Share on Google +
    Faceboook Comment
    Blogger Comment

3 comments :

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (09-05-2015) को "चहकी कोयल बाग में" {चर्चा अंक - 1970} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
    ---------------

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (09-05-2015) को "चहकी कोयल बाग में" {चर्चा अंक - 1970} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक
    ---------------

    ReplyDelete

osr5366