'वर्तमान साहित्य' जुलाई , 2015 | 'Vartman Sahitya', July 2015


'वर्तमान साहित्य'  जुलाई, 2015

साहित्य, कला और सोच की पत्रिका



वर्ष 32 अंक 7  जुलाई, 2015
सलाहकार संपादक: रवीन्द्र कालिया
संपादक: विभूति नारायण राय
कार्यकारी संपादक: भारत भारद्वाज
कला पक्ष: भरत तिवारी
-----------------------------
कबिरा हम सबकी कहैं / विभूति नारायण राय

आलेख
लाला हरदयाल : सशस्त्र प्रतिरोध के दार्शनिक की ऐतिहासिक उपस्थिति / प्रो० प्रदीप सक्सेना
साहित्य से निर्वासन अर्थात् साहित्य का समाजशास्त्रीय अध्ययन / धर्मवीर यादव ‘गगन’

धारावाहिक उपन्यास–2
कल्चर वल्चर / ममता कालिया

अनुवाद (उर्दू कहानी)
तितलियाँ ढूँढ़ने वाली / ज़ाहिदा हिना

अनूदित कविताएं (मलयालम)
सुकन्या | अशरफ कल्लौड़ | पी० के० गोपी | जयलक्ष्मी | बी० टी० जयदेवन

कहानी
ज़हरबाद / इंदिरा दाँगी
दूसरी पारी / ए० असफल
लो बजट / प्रज्ञा
परिणाम / नीरजा पाण्डेय
वापसी / रवि किरण सचदेव

कविताएं
शैलेन्द्र शैल

मीडिया
क्या सचमुच इतना शक्तिशाली है फ़ेसबुक ? / प्रांजल धर

समीक्षा
ख्वाब की सुनहरी डोर में गुथे आशंकाओं के काले पोत / श्रुति सुधा आर्या
भारतीय गाँवों की बदहाली का आख्यान / उमेश चैहान
नागार्जुन का काव्य विवेक / कमलानंद झा




वर्तमान साहित्य जुलाई २०१५ अंक को अलग से खोलें
सदस्यता प्रपत्र डाउनलोड subscription form
सदस्यता प्रपत्र डाउनलोड करें

००००००००००००००००
यदि आप शब्दांकन की आर्थिक मदद करना चाहते हैं तो क्लिक कीजिये
loading...
Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366