सोमवार, जनवरी 05, 2015

तुम भी हमारी तरह कब्र में रहते हो - प्रेम भारद्वाज

सोमवार, जनवरी 05, 2015
कुछ रोज़ पहले हतप्रभ था कि लोग बीते दिनों आसाम में हुई हत्याओं की तुलना पेशावर में हुई बच्चों की हत्या से अजीब ढंग से कर रहे थे, समझ नहीं आय...

गूगलानुसार शब्दांकन