शनिवार, जनवरी 31, 2015

कहानी: सन्नाटे की गंध - रूपा सिंह

शनिवार, जनवरी 31, 2015
बेड़ियाँ तोड़े बिना आगे जा पाना असंभव है ... हिंदी साहित्य की यही रुढ़ीवादी बेड़ियां पाठक को अन्य भाषाओँ के साहित्य की तरफ मुड़ने को 'मजब...

गुरुवार, जनवरी 29, 2015

बुधवार, जनवरी 28, 2015

इंदिरा दाँगी (दांगी) के आगामी उपन्यास ‘रपटीले राजपथ’ का अंश

बुधवार, जनवरी 28, 2015
इंदिरा दाँगी के आगामी उपन्यास ‘रपटीले राजपथ’ का अंश इन कहानियों को ज़रा सुधारने के बदले मे इतना बड़ा सम्मान हाथ से कोई स्थापित साहित्यक...

मंगलवार, जनवरी 27, 2015

रविवार, जनवरी 25, 2015

कहानी: सिरी उपमा जोग - शिवमूर्ति

रविवार, जनवरी 25, 2015
कहानी सिरी उपमा जोग शिवमूर्ति किर्र-किर्र-किर्र घंटी बजती है। एक आदमी पर्दा उठाकर कमरे से बाहर निकलता है। अर्दली बाहर प्रतीक...

शुक्रवार, जनवरी 23, 2015

मंगलवार, जनवरी 20, 2015

कहानी- नये साल की धूप : सुभाष नीरव

मंगलवार, जनवरी 20, 2015
कहानी नये साल की धूप सुभाष नीरव  स्मृतियाँ अकेले आदमी का पीछा नहीं छोड़तीं। बूढ़े अकेले लोगों का सहारा तो ये स्मृतियाँ ही होती हैं ज...

शुक्रवार, जनवरी 16, 2015

गूगलानुसार शब्दांकन