रविवार, जनवरी 25, 2015

कहानी: सिरी उपमा जोग - शिवमूर्ति

रविवार, जनवरी 25, 2015
कहानी सिरी उपमा जोग शिवमूर्ति किर्र-किर्र-किर्र घंटी बजती है। एक आदमी पर्दा उठाकर कमरे से बाहर निकलता है। अर्दली बाहर प्रतीक...

गूगलानुसार शब्दांकन