शुक्रवार, अप्रैल 17, 2015

रानियां सब जानती हैं - कवितायेँ: वर्तिका नन्दा | Raniyan Sab Janti Hain - Kavitayen: Vartika Nanda (hindi kavita sangrah)

शुक्रवार, अप्रैल 17, 2015
अपमान – अपराध – प्रार्थना - चुप्पी... रानियों के पास सारे सच थे पर जुबां बंद। पलकें भीगीं। सांसें भारी। मन बेदम। रानियों की कहानी कि...

गूगलानुसार शब्दांकन

loading...