रविवार, जुलाई 19, 2015

चार ग़ज़लें ~ प्राण शर्मा | #Ghazal : Pran Sharma #Shair

रविवार, जुलाई 19, 2015
चार ग़ज़लें  ~ प्राण शर्मा खामियाँ सबकी गिनाना दोस्तो आसान है / खामियाँ अपने गिनाना दोस्तो आसां नहीं परखचे   अपने  उड़ाना   दोस्...

गूगलानुसार शब्दांकन