रोहित वेमुला : सितारों के कणों का एक शानदार सृजन


रोहित वेमुला : सितारों के कणों का एक शानदार सृजन #शब्दांकन

रोहित वेमुला ... मैं क्या कर सकता हूँ 

जिससे तुम्हारी आवाज़, मेरी आवाज़ बन के सब तक पहुंचे ...

तुम्हारे ख़त को पढ़ते, समझते और अनुवाद करते समय तुम्हारा कहा नहीं मान सका कि आंसू न बहाना... दोस्त सितारों में पढ़ना ...


तुम्हारा भरत


गुड मॉर्निंग,

जब आप यह पत्र पढ़ रहे होंगे तब मैं यहाँ नहीं होऊंगा। मुझसे नाराज़ नहीं होना। मुझे मालूम है कि आप में से कुछ लोग सच में मेरी परवाह करते थे, मुझे प्यार करते थे और बहुत अच्छा व्यवहार करते थे। मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं है। मुझे तो हमेशा ख़ुद से ही दिक्कत होती थी। मुझे अपनी आत्मा और शरीर के बीच बढ़ती दूरी महसूस हो रही है। और मैं एक क्रूर-इन्सान (मॉन्स्टर) बन गया हूँ। मैं हमेशा से ही एक लेखक बनना चाहता था। कार्ल सगन की तरह विज्ञान का एक लेखक। और अंत में यही एक पत्र है – जो मुझे लिखने को मिला।


मैं विज्ञान, सितारों और प्रकृति से प्यार करता था और साथ ही मैं इंसानों से भी प्यार करता था - यह जानने के बावजूद कि इंसान अब प्रकृति से अलग हो गया है। हमारी भावनाएं अब हमारी नहीं रहीं। हमारा प्यार कृत्रिम हो गया। हमारे विश्वास, दिखावा। कृत्रिम-कला, हमारी असलियत की पहचान। बगैर आहत हुए प्यार करना बहुत मुश्किल हो गया है।


इंसान की कीमत बस उसकी फौरी-पहचान और निकटतम संभावना बन के रह गयी है। एक वोट। एक गिनती। एक चीज़। इंसान को एक दिमाग की तरह देखा ही नहीं गया। सितारों के कणों का एक शानदार सृजन। पढाई में, गलियों में, राजनीति में, मरने में, जिंदा रहने में, हर जगह।



मैं ऐसा ख़त पहली दफ़ा लिख रहा हूँ। पहली बार एक अंतिम चिट्ठी। अगर यह बेतुका हो तो मुझे माफ कर देना।


हो सकता है दुनिया को समझने में मैं शुरू से ही गलत रहा होऊं। प्यार, पीढ़ा, ज़िन्दगी, मौत को समझने में गलत रहा होऊं। कोई जल्दी भी तो नहीं थी। लेकिन मैं हमेशा जल्दी में रहा। जीवन शुरू करने को बेताब। इस सब के बीच कुछ लोगों के लिए जीवन ही अभिशाप है। मेरा जन्म एक बड़ी दुर्घटना है। मैं बचपन के अकेलेपन से कभी बाहर नहीं आ सका। अतीत का वह उपेक्षित बच्चा।


मुझे इस वक़्त कोई आघात नहीं है। मैं दुःखी नहीं हूँ। मैं एक शून्य हो गया हूँ। अपने से बेपरवाह। यह दयनीय है। और इसीलिए मैं यह कर रहा हूँ।


मेरे जाने के बाद लोग मुझे कायर कह सकते हैं। या स्वार्थी या बेवकूफ। मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कोई मुझे क्या कहता है। मृत्यु के बाद की कहानियों, भूत, या आत्माओं इन सबमे मैं विश्वास नहीं करता। अगर मैं किसी चीज में भरोसा करता हूँ तो - मैं सितारों का सफ़र कर सकता हूँ अपने इस विश्वास में। और दूसरी दुनियाओं को जानूँ।


अगर आप, जो यह पत्र पढ़ रहे है, मेरे लिए कुछ कर सकते हैं, मुझे अपनी सात महीने की फ़ेलोशिप मिलनी है, एक लाख पचहत्तर हज़ार रुपये। कृपया देखिएगा कि यह मेरे परिवार को मिल जाये। मुझे चालीस हज़ार रुपये रामजी को देने हैं। उन्होंने ये पैसे कभी वापस मांगे ही नहीं। लेकिन कृपया उन्हें इन पैसों में से ये वापस दे दीजियेगा।

मेरे अंतिम संस्कार को शांत रहने दीजियेगा। ऐसा सोचियेगा कि मैं बस दिखा और चला गया। मेरे लिए आंसू नहीं बहैयेगा। यह बात समझिएगा कि मैं जिंदा रहने से ज्यादा मर कर खुश हूँ।

‘परछाइयों से सितारों तक’

उमा अन्ना, माफ़ कीजियेगा - इस काम के लिए आपका कमरा यूज़ किया।

एएसए [अम्बेडकर स्टूडेंट्स एसोसिएशन] परिवार, आप सब को निराश करने के लिए माफ़ी। आपने मुझे बहुत प्यार किया। अच्छे भविष्य के लिए मेरी शुभकामनाएं।


एक आखिरी बार के लिए,

जय भीम


मैं औपचारिकताओं को लिखना भूल गया।

अपने आप को मारने के मेरे इस कृत्य के लिए कोई भी जिम्मेदार नहीं है।

यह करने के लिए किसी ने मुझे उकसाया नहीं है, न अपने कृत्य से, न अपने शब्दों से।

यह मेरा निर्णय है और अकेला मैं ही इसके लिए ज़िम्मेदार हूँ।

मेरे दोस्तों और मेरे दुश्मनों को मेरे जाने के बाद इसके लिए परेशान न कीजियेगा।

“Good morning,

I would not be around when you read this letter. Don’t get angry on me. I know some of you truly cared for me, loved me and treated me very well. I have no complaints on anyone. It was always with myself I had problems. I feel a growing gap between my soul and my body. And I have become a monster. I always wanted to be a writer. A writer of science, like Carl Sagan. At last, this is the only letter I am getting to write.

I loved Science, Stars, Nature, but then I loved people without knowing that people have long since divorced from nature. Our feelings are second handed. Our love is constructed. Our beliefs colored. Our originality valid through artificial art. It has become truly difficult to love without getting hurt.

The value of a man was reduced to his immediate identity and nearest possibility. To a vote. To a number. To a thing. Never was a man treated as a mind. As a glorious thing made up of star dust. In very field, in studies, in streets, in politics, and in dying and living.

I am writing this kind of letter for the first time. My first time of a final letter. Forgive me if I fail to make sense.

May be I was wrong, all the while, in understanding world. In understanding love, pain, life, death. There was no urgency. But I always was rushing. Desperate to start a life. All the while, some people, for them, life itself is curse. My birth is my fatal accident. I can never recover from my childhood loneliness. The unappreciated child from my past.

I am not hurt at this moment. I am not sad. I am just empty. Unconcerned about myself. That’s pathetic. And that’s why I am doing this.

People may dub me as a coward. And selfish, or stupid once I am gone. I am not bothered about what I am called. I don’t believe in after-death stories, ghosts, or spirits. If there is anything at all I believe, I believe that I can travel to the stars. And know about the other worlds.

If you, who is reading this letter can do anything for me, I have to get 7 months of my fellowship, one lakh and seventy five thousand rupees. Please see to it that my family is paid that. I have to give some 40 thousand to Ramji. He never asked them back. But please pay that to him from that.

Let my funeral be silent and smooth. Behave like I just appeared and gone. Do not shed tears for me. Know that I am happy dead than being alive.

'From shadows to the stars.'

Uma anna, sorry for using your room for this thing.

To ASA [Ambedkar Students Association] family, sorry for disappointing all of you. You loved me very much. I wish all the very best for the future.

For one last time,

Jai Bheem

I forgot to write the formalities. No one is responsible for my this act of killing myself.

No one has instigated me, whether by their acts or by their words to this act.

This is my decision and I am the only one responsible for this.

Do not trouble my friends and enemies on this after I am gone."
००००००००००००००००
Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment
osr5366