सुकृता पॉल कुमार की कवितायेँ | Poems - Sukrita Paul Kumar




सुकृता  पॉल कुमार की कवितायेँ

— अंग्रेज़ी और रेखा सेठी अनुदित हिंदी




In the Throes of Time

The calendar buzzed
Around my ears
And the pendulum of our lobby-clock
Swung before me throughout
Is it a Sunday?
Or a Monday?
What is the date?
The time?
The iron fetters have not rusted
For aren’t we
Forever polishing them
The moon has been eclipsed wholly
The dreamy road has tumbled
Into a thicket
But the groping has not begun
As yet
The clouds have passed by
Leaving behind,
Deep chasms
My heart leaps and bounces
To fill these hollows
And now
When they are filled
And satiated
My heart is
Void and empty

Sukrita Paul Kumar

Painting in words
— Aditi Sharma
Dreams form the effervescence of Sukrita Paul Kumar’s life, guiding, shaping and compelling her to paint her dreams with a pen, giving them the form of a poem. In her collection “Dreamcatcher”, the seasoned poet presents her tryst with dreams and colours. Her flair for fluidity with words was evident during a book reading session at the Indira Gandhi National Centre for Arts recently.

Through an evocative play of words her poems become a means to discover oneself. Referring them to be more powerful than her paintings, Sukrita remarked, “Those of you have experienced poetry, or are writing poetry might know that there is oneself within a self. It meanders. And you stand outside, watching it, steering your way going in directions unknown.”

Sukrita’s words flow in an affable and comfortable rhythm juxtaposed with uncertain lengths making it her way of reaching the blissful core and moving out the very next moment.

The poet who likes the idea of stillness finds poetry giving her a sense of meditation. Like the title of the collection, the poems between the covers augment a dreamcatcher’s mesh embellished with feathers and beads, bringing its keeper good dreams. For instance, she finds hope in catastrophic times.

A poem from tsunami snapshot titled “Insight” speaks about calmness among restlessness.

In the centre a wet circle of light rising slowly over the river of experience, panting and huffing,

lies the truth of my life So white! I cannot see it All colours merged, Lights absorbed. The white becomes whiter and I more blind. Speaking on the concept of tsunami snapshots, the poet recollects her wish to play an active part in helping the victims, which she couldn’t. The newspapers ran stories of people stranded and hit by the tragedy. It is then she sought to translate their plight through poetry. “These are different images that I gathered, and these images come out as a story of tsunami,” she points out.

Delving on her experience of dealing with homeless people, she recalls the essence of happiness with which they live. It is not they who are devoid of imagination, but us, the middle-class and the upper-middle class.

Sukrita reflects on how our minds have become manipulative “We starve for moments of pure happiness and innocence of a certain kind. I like seeing people keeping the child in them unharmed.” she signs off.
(courtesy The Hindu)

समय की कसक में 

कैलेंडर भनभनाता है
मेरे कानों के आस-पास
और हमारी लॉबी की घड़ी का पेंडुलम
झूलता रहता लगातार
क्या आज रविवार है ?
या सोमवार ?
क्या तारीख़ है ?
समय क्या ?
जंग नहीं लगा है लोहे की बेड़ियों में
या फिर हम ही
चमकाते रहते हैं उन्हें हरदम
घने झंखाड़ में
चाँद पूरा निस्तेज हो गया है
बदल गई हैं सपनीली सड़कें
लेकिन अभी तक
उसे टोहना भी शुरू नहीं किया
बादल गुज़र गए
पीछे छोड़
अपनी दरारें
मेरा दिल
इन गहराइयों को भरने के लिए
कुलाँचे-मारता उछलता है

और अब

जब वो भरी-पूरी हैं
परितृप्त
मेरा हृदय
खाली और शून्य


Painting Sunrise 

Coal blackness mingling
with clear Prussian blue
carving depth around
the border
between the earth and the sky
the horizon

Slabs,
one resting over the other

Silent rhythmic knocking

The wall crumbling
As the folds of colourful skirts
emerge, following
a long dancing foot

peeping through cracks and creeks

A thousand
dark arms
embrace the rising
bright colours


सूर्योदय रंगते हुए

कोयले की काली स्याही
घुलती जाती
गाढ़े नीले रंग में
किनारे-किनारे
गहराइयाँ तराशती
धरती-आकाश के बीच
क्षितिज

एक दूसरे पर ठहरी
सिल्लियाँ

खामोश लयात्मक दस्तक

रंगीन स्कर्ट की तहों-सी
चटकती दीवारें
जो उठतीं और चल पड़तीं
एक लम्बे थिरकते पैर के पीछे

दरारों और सेंधों के बीच झाँकती

हज़ार हज़ार बाँहें
उगते हुए
चमकीले रंगों को
भर लेती बाँहों में


Guru

Trees are yogis
Standing erect on their roots
Exuding an aura
Of unrelatedness

Each one is
One and content

Swinging proudly in
The silent music of the gentle breeze
Meditating into a state of thoughtlessness
And blowing its spiritual breath
Into every little leaf on its being

At noon it throws its cool shadow
For the earth to rest in peace

The yogi does not participate
In his glory

The tropical summer cannot
comprehend
Its glorious freshness

The tree shoots upwards
in an aimless search
Its height giving it a vital
Security in the soil
The distant exuberance of
The sun is dimmed by the yogi
I have one in my compound
I inhale its philosophy power and light
For my own
Roots branches and leaves



गुरु

योगी हैं पेड़
तन कर खड़े अपनी जड़ों पर
दिव्य निस्संगता की
प्रभा बिखेरते

हर एक
अनूठा
और संतुष्ट

धीरे से बहती हवाओं के मौन संगीत में
गर्व से झूमते
विचारशून्य स्थिति में ध्यान मग्न
अपने अस्तित्व की एक-एक पत्ती में
पवित्र साँसें फूँकते


भरी दोपहर में
ठंडी छाया देते हैं,
शांत, विश्राम कर सके धरा


अपनी महिमा से निर्लिप्त
योगी वृक्ष

मैदानों की कठोर ऊष्णता
कैसे समझ सकेगी
उनकी आनंदमय ताज़गी को

ऊपर की ओर उठता पेड़
किसी उद्देश्यहीन खोज में
उसकी ऊँचाई रखती है सुरक्षित
मिट्टी में उसे
दूर दमकते सूरज की प्रफुल्लता
मद्धिम पड़ जाती इस योगी
की आभा में

एक मेरे आँगन में भी है

मैं साँस लेती हूँ,
उसके दर्शन, ऊर्जा और रोशनी में
जिससे
अपनी जड़ों, शाखाओं और पत्तियों को
सींच सकूँ



Where Shall I Write

Where shall I write
the paper twists in pain
all space is in awkward crinkles

Where shall I paint
The canvas fills
with sighs and whispers
As I lift those brushes

I carry the cross
nailed by
Unborn poems, aborted paintings
Neither living
Nor dead



कहाँ लिखूँ मैं  

कहाँ लिखूँ मैं
दर्द से ऐंठ जाता है कागज
अजब सलवटों से भर जाती है जगह

कहाँ रंग भरूँ मैं
जैसे ही मैं वो ब्रश उठाती हूँ
पूरा कैनवस भर जाता
आहों और सरसराहटों से

सलीब ढोती हूँ मैं
जिस पर कील दी गई हैं
अजन्मी कविताएँ
रूप धरने से पहले नष्ट कर दिए चित्र
न जीवित
न मृत


Of Creative Anxieties

In the process of writing,
I am ahead of myself always
And there’s no looking back

The rest of the time
I am stalking myself
And there’s no looking ahead

The issue is
That of keeping pace...




सर्जना के तनाव में  

रचने की प्रक्रिया में
मैं, हरदम अपने से आगे ही रहती हूँ
पीछे मुड़कर देखने को कुछ भी नहीं

बाकी बचे वक्त में
मैं, अपना ही पीछा करती हूँ
आगे देखने को कुछ भी नहीं

मुद्दा सिर्फ़
कदमताल बनाए रखने का है........



Mountain Nights

I didn’t know then
What I know now

The big thud on the roof
That cracked the rocky silence
Of sleep day after day
Was that of a flying fox
with wings that do not
carry its weight into the firmament
Nor combat the mountain fog

Huddled out of dreams
I’d topple into the black tunnel
of night all alone
not in glory of the
moonlit snow
but in anguish of the lingering din
of sleepless nights

Treacherous journey uphill
difficult to climb
more difficult to come down...



पहाड़ी रातें

तब नहीं जानती थी मैं
जो अब जानती हूँ

छत के ऊपर धड़धड़ाने की आवाज़
जो दरका देती थी
दिन-ब-दिन नींद के
चट्टानी सन्नाटे
वो एक उड़ती हुई लोमड़ी की थी
जिसे आसमान तक नहीं ढो पाते हैं डैने
न चीर सकते हैं पहाड़ी कोहरे को

सपनों से धकेली जाकर
मैं लुढ़क जाती हूँ स्याह सुरंग में
रात-भर के लिए बिलकुल अकेली
चाँदनी धुली बर्फ़ के
उजालों में नहीं,
बल्कि, उनींदी रातों के
अलसाए कोलाहल की वेदना में

ऊँचाइयों की यात्रा
जोखिम भरी छलना है
चढ़ने में जितनी कठिन
उससे कहीं कठिन है नीचे उतरना.......


The Hazara Poem

Marking an end
to the long night of oblivion,
the dream of freedom is now visible
perhaps a silhouette of promise
A dream yet to be dreamt

The arrow of light
Rises from the white hole
At the end of the tunnel
Splitting the darkness into
10,000 screams of Hazara captives
Sold as slaves in 1893

Birthing and dying sounds
incubating and gestating
babies born in anguish
and the emerging poems
paving the way
to dreaming
the dreams of homing ...



हज़ारा कैदियों की कविता

विस्मृति की लंबी रात
के अंत की घोषणा-सा
आज़ादी का सपना
दिखने लगा है अब
किसी वायदे के छायाचित्र-सा
एक स्वप्न जो अभी
देखा जाना बाकी है |

रोशनी का वो तीर
उठता है सुरंग के आखिरी
सफेद छिद्र से
अँधेरे को खंड-खंड चीरता
दस हज़ार हज़ारा कैदियों की
चीखें बन
बेच दिए गए थे जो
1893 में गुलामों की तरह

गर्भ पड़े बीज-सी पनपती, पोसी जातीं
जन्म और मृत्यु की आवाजें
पीड़ा से गुज़रकर जन्मे शिशु-सी
उभरती कविताएँ
रास्ता सुझाती हैं
सपनों का
घर लौटने के सपने......


The Myth of Re-creation

The white of the bark
Is the frozen heart of the white
Turned white when Columbus landed on the shores
of what he thought, the land of spices

The deepening red of the leaves every fall thence
Is not the sudden blushing of the damsel
It is the blood of the Indians rising from
The womb of the earth below
Forever pregnant
with the lava of unrecorded genocide
Streams of leaves dropping as tears

Every inch savagely cultivated
Beauty a metaphor of atrocity
Moments of joy
Pumped from lungs on ventilators
Men and women in love
their hearts beating on pacemakers

Staking their riches at our casinos
They will lose
So said the Chief each year
We’ll get our land back
With their money,
Let the season pass.


पुनः सृजन का मिथक 

पेड़ की छाल की सफ़ेदी
उसका सर्द जमा हुआ दिल है
जो सफेद पड़ गया था तब
जब कोलंबस उतरा था उस जमीन पर
जिसे वह ’लैंड ऑफ़ स्पाइसिज़’
समझ बैठा था

तब से हर ‘फ़ॉल’ में गहरे लाल हो उठते हैं जो पत्ते
वो किसी नायिका के गालों पर
अचानक खिल आई लाली नहीं
बल्कि लहू है उन इंडियनज़ का
जो फूट पड़ता है धरती के गर्भ से
धरती सदा रहेगी गर्भित
अलिखित जनसंहार के लावे से
लहरों-सी गिरती पत्तियाँ
झरेंगी आँसू बन

क्रूरता के जल से सींचा
इंच-इंच
सौन्दर्य, नृशंसता का रूपक भर
खुशियों के पल भी
साँस खींचते हैं, यहाँ
वेंटिलेटर-धरे फेफड़ों से
प्रेम करते स्त्री-पुरुषों के
दिल धड़कते हैं पेसमेकर के सहारे

हमारे जुएखानों में दाँव पर लगाकर
वे हार जाएँगे अपनी संपत्ति
हर साल यही कहता है मुखिया---
उन्हीं की दौलत से
फिर पा लेंगे हम अपनी ज़मीन,
बस, बीत जाय यह मौसम

मूल अंग्रेज़ी से हिंदी में अनुवाद : रेखा सेठी

डॉ रेखा सेठी 

इन्द्रप्रस्थ कॉलेज के हिंदी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर के पद पर नियुक्त हैं। वे मूलतः शोधार्थी, शिक्षक, लेखक, संपादक व अनुवादक हैं | स्वतंत्रता के बाद की हिन्दी कविता तथा कहानी उनके विशेष अध्ययन क्षेत्र रहे हैं। मीडिया के विविध रूपों में उनकी सक्रिय भागीदारी और दिलचस्पी रही है। ‘जनसत्ता’ में उनकी लिखी पुस्तक समीक्षाएँ नियमित रूप से छपती रही हैं। इनके अतिरिक्त ‘हंस’, ‘नया ज्ञानोदय’, ‘पूर्वग्रह’, ‘संवेद’, ‘सामयिक मीमांसा’, ‘संचेतना’, 'Book Review', 'Indian Literature' आदि पत्रिकाओं में भी उनके आलोचनात्मक लेख व समीक्षाएँ प्रकाशित हुई हैं।

उनकी प्रकाशित पुस्तकों में प्रमुख हैं---‘विज्ञापन डॉट कॉम’, ‘व्यक्ति और व्यवस्थाः स्वांतत्रयोत्तर हिन्दी कहानी का संदर्भ’, ‘निबन्धों की दुनियाःप्रेमचंद’(सम्पादित), ‘निबन्धों की दुनियाः हरिशंकर परसाई’(सम्पादित), ‘निबंधों की दुनियाः बालमुकुन्द गुप्त’(सम्पादित), ‘हवा की मोहताज क्यों रहूँ’ (इन्दु जैन की कविताएँ--सह सम्पादित), ‘कालजयी हिन्दी कहानियाँ’ (सह सम्पादित), ‘समय के संग साहित्य’(सह सम्पादित)। आजकल वे समकालीन हिंदी कविता में स्त्री रचनाकारों पर विशेष अध्ययन कर रही हैं।
ई-मेलः reksethi@gmail.com
००००००००००००००००
Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366