राष्ट्रवादी पत्रकार महोदय, आप झूठ बोल रहे हैं — अभिसार शर्मा #IndiaComesFirst


आपको मालूम होना चाहिए कि “पाकिस्तान समर्थन” और “युद्ध की सोच का विरोध” करने वालों में बहुत बड़ा फ़र्क है — अभिसार शर्मा


Nationalism is an infantile disease. It is the measles of mankind. - Albert Einstein

Abhisar Sharma on Nationalist Reporter

राष्ट्रवाद एक बचकाना रोग है। मानवजाति का चेचक है -  अल्बर्ट आइंस्टीन।


राष्ट्रवादी पत्रकार महोदय, आप झूठ बोल रहे हैं! आपके लिए ‘भारत सर्वोपरि’ #IndiaComesFirst नहीं है. आपके लिए #SelfComeFirst ‘अहम् सर्वोपरि’ है. अगर वाकई आपके लिए भारत पहले आता तो आप यह सवाल ज़रूर पूछते कि क्या वजह है कि पिछले दो सालों में आधा दर्जन आतंकवादी हमले हमारी सैन्य ठिकानों पर हो चुके हैं? आपने नहीं पूछा ! आप अब भी 45 सीटों पर सिमट चुकी कांग्रेस और मनमोहन सिंह को दोषी ठहरा रहे हैं. आप जैसे राष्ट्रवादी पत्रकारों के इतिहास पर नज़र दौड़ाएं तो आपने मनमोहन सिंह के जन्मदिन पर हुए आतंकवादी हमलों पर तंज कसने की हिम्मत की, मगर पिछले दो सालों में आपकी हिम्मत जवाब दे गयी. आपके लिए भारत ‘पहले नहीं आता है’!



आप देश के अन्दर तथाकथित पाक समर्थकों (so called Pro Pak) को निशाना बना रहे हैं, मगर आप में इतनी हिम्मत नहीं कि आप बीजेपी से सवाल पूछें कि आप पीडीपी के साथ कश्मीर में सियासी गठबंधन में क्या कर रहे हो? आपमें इतनी भी हिम्मत नहीं जुटाई कि आप मौजूदा सरकार से पूछ सको कि जिन लोगों ने जेएनयु में “भारत तेरे टुकड़े होंगे” के नारे लगाये थे, वो अब तक गिरफ़्तार क्यों नहीं हुए? आपको मालूम होना चाहिए कि “पाकिस्तान समर्थन” और “युद्ध की सोच का विरोध” करने वालों में बहुत बड़ा फ़र्क है. अगर मैं युद्ध के खिलाफ़ हूँ तो इसका यह अर्थ नहीं कि मैं पाकिस्तान समर्थक हूँ! आपसे बड़ा देशद्रोही कोई नहीं क्योंकि हमारे सैनिक-बेस पर अब भी हमले हो रहे हैं और आप मौजूदा सरकार से एक भी सवाल नहीं कर पाते. आपका देशप्रेम झूठा और सरासर अवसरवादी है. शर्म कीजिये.  

From Abhisar Sharma's Facebook wall
Abhisar Sharma
Journalist , ABP News, Author, A hundred lives for you, Edge of the machete and Eye of the Predator. Winner of the Ramnath Goenka Indian Express award.
००००००००००००००००
Share on Google +
    Faceboook Comment
    Blogger Comment

1 comments :

osr5366