बाजार के झोंके, हिंदी में बढ़ते मौके — संदीप कुमार | #हिंदीदिवस #HindiDiwas

10th edition of The Jaipur Literature Festival will take place from 19th – 23rd January 2017, once again at its beautiful home of the historic Diggi Palace Hotel in Jaipur. (JLF2016 10YearsOfJLF)

We have gathered talent from across the globe — William Dalrymple 

10th edition of The Jaipur Literature Festival will take place from 19th – 23rd January 2017, once again at its beautiful home of the historic Diggi Palace Hotel in Jaipur.

The Jaipur Literature Festival has developed immeasurably over the last ten years and established itself as one of the greatest literary gatherings in the world. The core values of it remain the same, to bring the very best writers from across India and the world to one of the most magical and atmospheric historic sites in the world and make the opportunity to join this celebration of literature open to all. With the help of our sponsors and supporters we can continue to offer this opportunity to everybody. It is an experience like no other. Teamwork Arts continues to extend the Festival overseas, once again to London in May and Boulder, Colorado in the USA during the Fall, and a pop-up edition at the Melbourne Writers Festival in February 2017, giving audiences abroad a taste of what they can experience in Jaipur, and we know already that some will now travel to join us for what promises to be one of the best years ever

— Sanjoy K. Roy, MD Teamwork Arts who produce the JLF

Frequently described as “the greatest literary show on Earth”, JLF will welcome over 250 authors, thinkers, politicians, journalists and popular culture icons, and expects audience numbers to surpass last year’s figure of 330,000.

Over the past decade, the Festival has evolved into one of the largest and most accessible cultural events on the planet. A true champion for culture, ideas and democracy, it strives to spur freedom of thought and expression through a dizzying range of diverse voices engaged in intellectual discourse across India and internationally. While as part of its ongoing celebration of the word, the Festival continues to serve and inspire those who cherish literature.

As seen in previous years, the 2017 edition of the Jaipur Literature Festival will partner with major Indian and global brands to continue with its high caliber of speakers and programming and enrich the audience experience.

For those looking to enjoy the Jaipur Literature Festival in the best way possible, the Festival Delegate packages are again available. As a former Festival Delegate said, “A wonderful experience. As a delegate, I had the opportunity to meet people from all parts of the world and share our love of literature and writing. The concerts were amazing - the venue, music, food and people combined to create an unforgettable experience.”

Ten years of books and ideas, readers and writers! A decade of showcasing writing from the Indian languages and connectivity across South Asia. In 2017, a special focus on translations and the pulse of world literature. Ceaselessly celebrating the wonders of the dreaming mind, the Jaipur Literature Festival invokes the collective energy of our brilliant authors and extraordinary and engaged audiences.

— Namita Gokhale, writer, publisher and Co-director of the JLF

As part of the Festival’s ten-year anniversary celebrations, the Delegate package has been given a real boost as a thank you to those who have supported JLF over the years. In addition to existing facilities such as a dedicated Delegate Lounge, registration area, lunch at the Delegate and Speaker Lunch Area, access to the concerts and dinners at the Music Stage venue of Hotel Clarks Amer, the 2017 Festival Delegate package will include entry to two Festival Fringe events at a heritage monument, a ‘Delegates Only’ session and cocktail evening along with transport shuttle services between the Festival Hub of Diggi Palace and the Festival Fringe event and Music Stage venues.

In terms of programming, every year the Festival makes a concerted effort to ensure that the multitude of Indian languages are showcased while its industry arm, Jaipur BookMark, focuses on the art of translation. This is set to continue in 2017 with over 25 languages represented in works spanning the country’s literary landscape as well as international translations in a bid to preserve and promote the diverse range of life, culture and stories.

The fourth edition of JBM opens the Festival’s proceedings with a full day of programming on 18th January at Diggi Palace followed by special sessions at a dedicated venue at the Festival Hub from the 19th – 23rd January. JBM continues to provide a platform for publishers, literary agents, translation agencies and writers to meet, talk business deals and listen to major industry players from across the world.

Each year at Jaipur we try to produce a program more remarkable than the year before, but 2017’s Jaipur list is certainly the most astonishing we have ever fielded. We have gathered talent from across the globe — from Jamaica to North Korea and Tasmania to Zimbabwe — to present writers of genius as diverse as the war correspondent Dexter Filkins , the economist Ha Joon Chang and the Italian aesthete, Sanskritist and polymath Roberto Calasso. We import some of the world's most admired playwrights and novelists, including Mark Haddon, David Hare and Man Booker Prize winners Alan Hollinghurst and Richard Flanagan as well as arguably the world's greatest living archaeologist, Barry Cunliffe. We deeply delve into areas of world literature we have so far failed to explore, notably the novelists and poets of the Caribbean, Turkey and Iran, while returning to examine eternal classics such as the work of Homer, Ferdowsi, Yeats, Nabakov and the Thousand and One Nights. We will explore a vast range of subjects from the history of scent to the rise of the Trilobites; biography from Jack the Ripper to Queen Victoria via Napoleon and Anne Boleyn; tales of the spice trade to the eruption of Krakatoa; we look at Jamaican rap and mediaeval mystic poetry and the art of screenwriting; we probe the reason for the Fall of Rome, the dilemmas facing Edward Snowden, KGB assassination techniques and the secrets of the Panama Papers; the agonies of Syria and the pleasures of Ottoman Istanbul as well as enjoying the decadent swagger of the Rolling Stones 1970 World Tour. It's going to be an incredible few days and I can't wait for January so that we can get started!

— William Dalrymple, writer, historian and Co-director of the JLF

For the first time, Jaipur BookMark 2017 will also invite budding authors to share a synopsis of their work, which will be assessed by a panel of literary agents, publishers and critics. Those shortlisted will be invited to take part in the New Writers' Mentorship Program, a special one-on-one session for advice from industry experts.

As a pioneering champion of literary debate and social dialogue, both Indian and international, a strong focus of JLF 2017 will be to celebrate one of the world’s largest democracies through the theme ‘The Freedom to Dream: India at 70’ and drive conversations around modern India in the context of its history and its future. Shabdankan will keep you readers updated with whats happening at JLF... oops this year it's 10YearsOfJLF. Hope you are following us on Twitter (https://twitter.com/BharatTiwari)  and on Facebook (www.facebook.com/shabdankann) .


बाजार के झोंके, हिंदी में बढ़ते मौके

— संदीप कुमार

हिंदी क्या वाकई बदल रही है? यह एक बड़ा प्रश्न है जिसका उत्तर हां या न में देना संभव नहीं है। यह सच है कि हिंदी बदल रही है लेकिन यह बदलाव कई स्तरों और रूपों में आ रहा है। हिंदी एक भाषा के रूप में उतनी नहीं बदल रही है जितनी वह विषयवस्तु और सामग्री के स्तर पर बदल रही है। भाषा के स्तर पर भी हिंदी में बदलाव हुए हैं लेकिन उन्हें बदलाव कम अंग्रेजी का असर कहना अधिक उचित होगा। कई अखबारों ने अपने आपको युवाओं से जुड़ा हुआ दिखाने तथा युवाओं को अपने साथ जोडऩे की कोशिश में हिंदी में अंग्रेजी की जबरदस्त मिलावट शुरू की। हालांकि यह प्रयोग बहुत सफल नहीं रहा। क्योंकि इसका कोई खास विस्तार देखने को नहीं मिला। उसके बाद इंटरनेट, यूनीकोड, गूगल ट्रांसलिटरेशन और स्मार्ट फोन पर गूगल इंडिक इनपुट ने हिंदी को प्रभावित किया। अचानक उन लोगों के लिए भी हिंदी लिखना आसान हो गया जो वेब पर हिंदी टाइपिंग नहीं कर पाते थे।

राजकमल प्रकाशन के संपादकीय निदेशक सत्यानंद निरुपम कहते हैं कि बीते कुछ सालों में हिंदी की अच्छी ब्रांडिंग हुई है और इसके कई पहलू हैं। उदारीकरण के बाद जब बहुराष्ट्रीय कंपनियों का आगमन हुआ और विभिन्न भाषाभाषी लोगों ने एक जगह काम करना शुरू किया तो हिंदीभाषी लोगों के मन में भी अन्य भाषाएं बोलने वालों की तरह अपनी भाषा को लेकर सकारात्मक विचार आने शुरू हुए। सोशल मीडिया पर हिंदी के लेखन ने पाठक और लेखक के बीच के अंतर को खत्म कर दिया। लोग अनगढ़ और कच्ची भाषा में ही सही अपने मन की बात सोशल मीडिया पर लिखने लगे। इससे हिंदी को लेकर एक अलग किस्म का उत्साह पैदा हुआ।

निरुपम कहते हैं कि जिसे हिंदी का बदलना कहा जा रहा है वह दरअसल विषयवस्तु और रुझान में आ रहा बदलाव है। हिंदी में अब उन विधाओं में काफी कुछ लिखा जा रहा है जो लंबे समय से सुसुप्तावस्था में थीं। यानी उनमें कोई लिख ही नहीं रहा था। किसी समय समाज के एक खास तबके तक सीमित रहने वाला हिंदी साहित्य आज वेब संस्करण उपलब्ध होने के कारण युवाओं तक आसानी से पहुंच पा रहा है। निरुपम हिंदी में भाषायी स्तर पर आ रहे बदलाव को स्वीकार करते हैं लेकिन इस बात को सिरे से नकारते हैं कि भाषायी स्तर पर हो रहे प्रयोग हिंदी में कोई नई घटना हैं। वह कहते हैं, 'रेणु से लेकर नागार्जुन तक तमाम रचनाकारों ने हिंदी में आंचलिक शब्दों का खूब इस्तेमाल किया है। इसे हिंदी में कोई बदलाव नहीं कहा जा सकता है। तमाम अन्य बोलियों और भाषाओं की तरह हिंदी भी एक खास भौगोलिक क्षेत्र के बाद बदल ही जाती है।' निरुपम कहते हैं कि हिंदी पट्टी के लोगों के मन में अपनी ही भाषा को लेकर एक खास किस्म का हीनताबोध बहुत लंबे समय तक बरकरार रहा।

गौर कीजिये कि बॉलीवुड की फिल्मों के नाम पोस्टरों और स्क्रीन में हिंदी में नजर नहीं आते, धुर हिंदी भाषी क्षेत्रों में भी छोटी बड़ी दुकानों और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के नाम तक अंग्रेजी में लिखे रहते हैं। लेकिन अब हालात बदलने शुरू हुए हैं। नए तकनीकी माध्यमों पर हिंदी लिखने की आसानी और भाषा को लेकर गौरवबोध के जन्म ने यह आसान किया है।

हिंदी में भाषायी बदलाव के बारे में विनीत कुमार कहते हैं कि एमटीवी ने टेलीविजन की भाषा को हिंगलिश करने की कोशिश की थी लेकिन उसे अपेक्षित कामयाबी नहीं मिल सकी। विनीत कुमार हिंदी की एक लोकप्रिय वेबसाइट का उदाहरण देते हुए कहते हैं कि उसमें हिंदी के कानपुरी लहजे को तवज्जो दी जाती है। उसमें लिखी जाने वाली सभी खबरें कानपुर में बोली जाने वाली हिंदी का पुट अपने आप में समाहित किए रहती हैं। हिंदी के आंचलिक प्रभाव की बात कोई नई नहीं है।

हर बोली अपने आसपास की हिंदी को एक हद तक प्रभावित करती ही है। मोटे तौर पर देखा जाए तो हिंदी को दो भागों में बांटा जा सकता है। एक मानक हिंदी जो अकादमियों, क्लिष्ट भाषा में लिखे गए विद्वतापूर्ण ग्रंथों में बची है और दूसरी बोलचाल की हिंदी जो हमें लगातार अखबारों, पत्र-पत्रिकाओं और अब नए प्रकाशनों से आ रही किताबों में देखने को मिलती है। विनीत कुमार कहते हैं कि भाषा के सहज प्रवाह को बचाये रखना ही सबसे अहम है। बदलाव तो होते रहेंगे लेकिन उसके लिए आवश्यक है कि मूल हिंदी बची रहे। वह अन्य भाषाओं के प्रसार और उनके अंग्रेजी तक का सफर तय करने का पुल तो बने लेकिन खुद परिवर्तित न हो।

शैलेश कहते हैं, 'हिंदी के प्रति लोगों और बाजार दोनों का रुझान बढ़ा है। इसका एक उदाहरण तो यही है कि वेस्टलैंड जैसे बड़े अंग्रेजी प्रकाशक अब मौलिक हिंदी किताबों के लिए हिंद युग्म जैसे नए प्रकाशक के साथ अनुबंध कर रहा है। बड़े अंग्रेजी प्रकाशकों के लिए यह विशुद्घ कारोबारी फैसला है। उनको लग रहा है कि किसी किताब की अच्छी बिक्री तभी होगी जब वह अपनी मूल भाषा में लिखी गई हो।' बदलाव ही एकमात्र स्थायी चीज है और यही वजह है कि हिंदी में भी बदलाव आ रहा है। इसका स्वागत किया जाना चाहिए लेकिन विनीत कुमार के शब्दों में कहें तो इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि हिंदी विभागों में कैद होकर न रह जाय। हिंदी बोली जाती रहेगी और लिखी जाती रहेगी तो उसमें सकारात्मक बदलावों की संभावना भी बरकरार रहेगी।

Share on Google Plus
    Blogger Comment
    Facebook Comment


  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (16-09-2016) को "शब्द दिन और शब्द" (चर्चा अंक-2467) पर भी होगी।
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'