सोमवार, मई 16, 2016

तानाशाह व अन्य कवितायेँ — मंगलेश डबराल | Manglesh Dabral 4 poems

सोमवार, मई 16, 2016
मं गलेश डबराल - कवितायेँ आसान शिकार मनुष्य की मेरी देह ताकत के लिए एक आसान शिकार है ताकत के सामने वह इतनी दुर्बल ह...

गूगलानुसार शब्दांकन

loading...