औरतें सदियों पहले ही बोन्साई बना दी गईं थी — देवी नागरानी | Review: Ek Thaka Hua Sach

अम्मा, रस्मो रिवाजों के धागों से बनी  तार-तार चुनर मुझसे वापस लेले  मैं तो पैबंद लगाकर थक गयी वो अपनी बेटी को कैसे पेश करुँगी ?  ...
Read More

ज़िन्दगी मेल — कहानी — हरिओम hindi-kahani-zindagi-mail-hariom

कहानीकार की कलम अगर  हमें ख़्वाबों की दुनिया में ले जा सकती है तो उसमें यह ताक़त भी होती है कि वह हमें उस दुनिया में भी ले जाए, जो होती तो ह...
Read More
osr5366