सारा शगुफ्ता का कांटेदार पैरहन : अमृता प्रीतम की जुबानी — देवी नागरानी

ज़मीन की पगडंडियों पर चलते चलते इंसान जब लहूलुहान होता है, तब आयतें लिखीं जाती हैं। दर्द जब कतरा...
Read More

कह दो तुम — प्रेमा झा की कवितायेँ

कवितायेँ  प्रेमा झा कह दो तुम तुम जो कह देते तो चाँद तक अड़गनी टांग देती ...
Read More

महिलाएं और वर्तमान भारतीय राजनीति — ऋचा पांडे मिश्रा

हम भारतीय परिवार चिमटे से पैसे को पकड़ते है और राजनीति में पैसा नहीं बल्कि समय निवेश करना पड़ता ह...
Read More
osr5366