बुधवार, मई 24, 2017

वो जला रहे हैं ये गुलिस्तां | #भरत_तिवारी

बुधवार, मई 24, 2017
वो जला रहे हैं ये गुलिस्तां — भरत तिवारी वो जला रहे हैं ये गुलिस्तां हो बुझाने वालों तुम कहाँ यहाँ आग घर तक पहुँ...

सोमवार, मई 22, 2017

परेश रावल "ख़ूनी-वक्तव्य" — ऋचा पांडे का ख़त #PareshRawal

सोमवार, मई 22, 2017
अरुंधती रॉय को सेना की जीप में बाँधो बजाय पत्थरबाज के ! — परेश रावल असहिष्णु परेश रावलजी , यह छोटा-सा पत्र आप से इस्ती...

साहित्य अकादमी ज़िन्दाबाद! — कृष्णा सोबती #KrishnaSobti

सोमवार, मई 22, 2017
उम्र भर लेखन करने के बाद हम लेखकों को दारूखोरा  गाली कतई सहन नहीं है — कृष्णा सोबती व्यंग्य हिंदुस्तान की राजधानी दिल्ली ...

रविवार, मई 21, 2017

शनिवार, मई 20, 2017

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

शनिवार, मई 20, 2017
उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहलवाते है “ लेकिन मैं यह जानता हूँ, मुझे अच्छी तरह से महसूस होत...

गूगलानुसार शब्दांकन