December 2012 - #Shabdankan

न्याय - शब्दांकन (डॉ० अजय जनमेजय)

सोमवार, दिसंबर 31, 2012 1
बाजों के फिर मुंह लगा ,इक चिडिया का खून | लेकिन पूरे देश में ,जागा एक जुनून || फिर चिड़िया की ज़िन्दगी ,लूट ले गए बाज | पहरेदारों को म...
Read More

न्याय - शब्दांकन (प्रो० चेतन)

सोमवार, दिसंबर 31, 2012 2
कि सुखनवरों का खून क्यूँ कर ठण्डा हो गया है दर्द अंगड़ाई नहीं लेता ये क्या हो गया है ? क़त्ल या हो कोई बे-आबरू तुम्हें क्या मतलब ? ए ख...
Read More

सियासी भंवर : भरत तिवारी

शुक्रवार, दिसंबर 28, 2012 1
किस हद्द तक राजनीति ग्रसित लोगों के बीच आज का अवाम रह रहा है. हमें लगता रहा कि कद्दावर नेताओं से शुरू हो कर, बीच में धार्मिक आदि रास्तो...
Read More

मणिका मोहिनी की तीन बेहतरीन गज़लें

बुधवार, दिसंबर 26, 2012 0
मणिका मोहिनी एक प्रसिद्ध कहानीकार और कवयित्री है । कविता-कहानी की 15 पुस्तकें प्रकाशित, कुछ वर्षों तक ' वैचारिकी संकलन ' हिन्दी...
Read More

लेख: कहीं कुछ कमी सी है - प्रेम भारद्वाज

मंगलवार, दिसंबर 25, 2012 0
हे मिंग्वे ने लिखा है- ‘जीवन के बारे में लिखने के लिए जीवन को जीना जरूरी होता है.’  वर्तमान समय में जो रचनाएं आ रही हैं, वे जीवन के किस...
Read More

कहानी : प्रेम भारद्वाज : कवरेज एरिया से बाहर

सोमवार, दिसंबर 24, 2012 3
जनसत्ता के दीवाली साहित्य विशेषांक 2012 में प्रेम भारद्वाज की कहानी "कवरेज एरिया से बाहर" प्रकाशित हुई है। कहानी चर्चा में है ...
Read More
Responsive Ads Here

Pages