December 2013 - #Shabdankan

इस्माइल चुनारा और नाटक लैला-मजनूं से जुड़ी अजित राय की यादें | Ajit Rai on Ismail Choonara in Drishyantar December 2013

मंगलवार, दिसंबर 31, 2013 0
काश! 'शकुंतला' का मंचन हो और हम इस्माइल चुनारा के साथ उसे देखें अजित राय इस्माइल चुनारा से पहली बार मैं नेहरू सेंटर लंदन में द...
Read More

रवीश की रपट - क़िस्सा ए शपथ ग्रहण | Ravish Ki Rapat - Tale of Swearing-in Ceremony

रविवार, दिसंबर 29, 2013 0
रवीश उस रोज़ रामलीला मैदान से रिपोर्टिंग कर रहे थे, जब अरविन्द शपथ-ग्रहण कर रहे थे. टीवी मैं भी देख रहा था और शपथ-ग्रहण के बाद रवीश, जब वहा...
Read More

आप का प्रधानमंत्री कौन ? - रवीश की रपट | Who will be AAP's Prime Minister Candidate ? - Ravish Ki Rapat

शनिवार, दिसंबर 28, 2013 0
आप का प्रधानमंत्री कौन ? रवीश कुमार आम आदमी पार्टी ने लोकसभा की रणनीतियों पर विचार करने के लिए दो सदस्यों की कमेटी बनाई है । देखते है...
Read More

... जब कि ज़रूरत इसी बात की है - अशोक गुप्ता | Ashok Gupta on Article 370

शुक्रवार, दिसंबर 27, 2013 0
...जब कि ज़रूरत इसी बात की है अशोक गुप्ता  जम्मू कश्मीर में लागू अनुच्छेद 370 एक बार फिर चर्चा में है और इस बार इसको हटाने का प्रस्ताव ...
Read More

तेज़ाब हमलों के खिलाफ़ सुलच्‍छन चच्‍चा की साइकिल यात्रा | Rakesh Kumar Singh : War Against Acid Attacks

बुधवार, दिसंबर 25, 2013 1
तेज़ाब हमलों के खिलाफ़ सुलच्‍छन चच्‍चा की साइकिल यात्रा बम संकर टन गनेस के लेखक राकेश कुमार सिंह उन विलक्षण इंसानों में से एक है ...
Read More

कठपुतली से खुद को स्वयं सिद्धा साबित करने का जज़्बा - वंदना गुप्ता | Vandana Gupta on Women Empowerment

सोमवार, दिसंबर 23, 2013 7
नहीं .......अब नहीं कोसना तुम्हें  - वंदना गुप्ता नहीं .......अब नहीं कोसना तुम्हें बहुत हो चुका आखिर कब तक एक ही बात बार - ब...
Read More

मृदुला गर्ग : मिलजुल मन (उपन्यास अंश) Mridula Garg's "Miljul Man" Sahitya Akademi Award Winner 2013

रविवार, दिसंबर 22, 2013 4
मृदुला गर्ग                    मिलजुल मन   (साहित्य अकादमी 2013 'हिन्दी' पुरस्कृत उपन्यास) जुग्गी चाचा और हम जुग्गी चाचा ह...
Read More

कहानी : पुनर्जन्म - रश्मि बड़थ्वाल | Hindi Story - Punar-janm : Rashmi Barthwal

शुक्रवार, दिसंबर 20, 2013 0
पुनर्जन्म रश्मि बड़थ्वाल “अरे जुपली, ले अब तो फागुण आधे से ज्यादा निकल गया! अब तो समेट ले अपना समान, अकसा-बकसा लुटरी-कुटरी।” धीर स...
Read More
osr2522
Responsive Ads Here

Pages