June 2015 - #Shabdankan

ओ.पी. नैय्यर अपनी किंग साइज़ ईगो के ग़ुलाम थे... तेजेन्द्र शर्मा | Shikha Varshney's reports from UK on O. P. Nayyar

सोमवार, जून 29, 2015 0
ओ.पी. नैय्यर अपनी किंग साइज़ ईगो के ग़ुलाम थे... तेजेन्द्र शर्मा  ~ शिखा वार्ष्णेय “ ओ.पी. नैय्यर यदि स्वाभिमानी होते तो दूसरो...
Read More

कहानी: मेरे हमदम, मेरे दोस्त - अल्पना मिश्र | Kahani : 'Mere Humdam Mere Dost'- Alpana Mishra

सोमवार, जून 29, 2015 1
मेरे हमदम, मेरे दोस्त - अल्पना मिश्र आज फिर सुबोधिनी को लगा कि उसके पीछे पीछे कोई ऐसे चल रहा है, जैसे पीछा कर रहा हो। वह और तेज ...
Read More

30 जून तक ₹250 में तीन उपन्यास (मनोहर श्याम जोशी+संजीव+प्रभात रंजन) | Three Latest Novels for ₹250

शनिवार, जून 27, 2015 1
27, 28, 29, 30 जून  ~ वाणी प्रकाशन, हिंदी के श्रेष्ठ कथाकारो की तीन पुस्तकें आकर्षक ऑफर के रूप में पाठकों को मात्र ₹250* + डाक व्यय ...
Read More

स्मृति ईरानी का फरजीवाड़ा - ओम थानवी | #SmritiFakeDegree Om Thanvi @omthanvi

शनिवार, जून 27, 2015 2
शिक्षामंत्री ही जहाँ अनैतिक फरजीवाड़े में मुब्तिला हो, वहाँ शिक्षा का हश्र क्या होगा?  - ओम थानवी स्मृति ईरानी के फरजीवाड़े क...
Read More

कहानी -सरकारी मदद आ रही है : इंदिरा दाँगी | Sahitya Akademi (Yuva) Award 2015 to Indira Dangi

शुक्रवार, जून 26, 2015 2
युवा लेखिका इंदिरा दांगी को 2015 के 'साहित्य अकादेमी युवा सम्मान' (हिंदी) की बधाई  सरकारी मदद आ रही है   ~ इंदिरा दाँग...
Read More

बंग्ला कहानी: अमेरिकन पेट्रोमैक्स - नबारुण भट्टाचार्या (अनुवाद अमृता बेरा) | American Petromax - Nabarun Bhattacharya

मंगलवार, जून 23, 2015 0
अमेरिकन पेट्रोमैक्स – नबारुण भट्टाचार्या कोने से दिख रहा है, फ़्लाईओवर के उपर से तरह-तरह के मॉडल और साईज़ की गाड़ियाँ जा रह...
Read More

इस उपन्यास के शिल्प ने मुख्य रूप से आकर्षित किया - प्रो० नामवर सिंह | Prof Namvar Singh on Alka Saraogi's Novel "Jaankidas Tejpal Mansion"

मंगलवार, जून 23, 2015 0
मुझे इस उपन्यास के शिल्प ने मुख्य रूप से आकर्षित किया शिल्प का बहुत सधा हुआ इस्तेमाल किया है दूरदर्शन के कार्यक्रम सुबह सवेरे ...
Read More

कितने वादे थे ? सरकार... : विभूति नारायण राय | Vibhuti Narayan Rai on PM India

रविवार, जून 21, 2015 0
कितने वादे थे ? सरकार... : विभूति नारायण राय एक दृश्य याद कीजिये — साल भर पहले एक आदमी कश्मीर से कन्याकुमारी और अटक से कटक तक अपने ...
Read More

ग़ज़लों में यथार्थ ~ प्रताप सोमवंशी | Ghazals of Pratap Somvanshi

रविवार, जून 21, 2015 1
ग़ज़लें  ~ प्रताप सोमवंशी प्रताप सोमवंशी को कुछ रोज़ पहले एक मुशायरे में सुना, उनकी ग़ज़लों के एक-एक शेर पर वाह निकलती रही, आप ख़ुद देखे...
Read More
osr2522
Responsive Ads Here

Pages