advt

आज (17 सितम्बर) हसरत जयपुरी की पुण्यतिथि है- सुनील दत्ता

सित॰ 17, 2013
वो अपने चेहरे में सौ आफ़ताब रखते हैं
इसीलिये तो वो रुख़ पे नक़ाब रखते हैं
                              - हसरत जयपुरी 
आज है उनकी पुण्यतिथि  
सलाम प्यार को, चाहत को, मेहरबानी को, सलाम जुल्फ को खुशबु की कामरानी को सलाम, सलाम गाल के तिलों को जो दिलो की मंजिल है - ऐसी शायरी के अजीमो शख्सियत हसरत जयपुरी का जन्म 15 अप्रैल 1918 को जयपुर में हुआ था। हसरत जयपुरी का नाम इकबाल हुसैन था। इन्होने अपनी पूरी शिक्षा दीक्षा जयपुर से हासिल की और इसके साथ ही शेरो-शायरी का हुनर इन्होने अपने मरहूम नाना से तालीम के रूप में हासिल किया। हसरत कहते है “बेशक मैंने शेरो - शायरी की तालीम अपने नाना से ली पर इश्क की तालीम मैंने अपनी प्रेमिका राधा से पाई”। उसने बताया कि इश्क क्या होता है। राधा मेरी हवेली के सामने रहती थी वो बहुत ही खुबसूरत थी और मैं उसे प्यार करता था। वो झरोखे से झाकती थी, तब मैंने अपने जीवन का पहला शेर लिखा उसके लिए “तू झरोखे से जो झांके, तो मैं इतना पुछू / मेरे महबूब तुझे प्यार करूँ या न करूँ”

       अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद चमड़े की झोपड़ी की आग बुझाने के लिए वो बम्बई आ गए, वहाँ पर उन्होंने आठ साल बस कंडेक्टरी की। हसरत साहब ने कभी हसीनाओ से टिकट का पैसा नही लिया वो कहते है, “मैं इन हसीनाओ को देखते हुए बस यही कहा करता था कि तुम खुदा की बनाई नेमत हो तुमसे टिकट के लिए पैसा नही लूँगा” और उनसे जो प्रेरणा मिलती मुझे वो गीतों-कविताओ में, घर आकर कागज के सीने में उतार देता। हसरत इन कामो के साथ ही मुशायरो में शिरकत करते, उसी दौरान एक कार्यक्रम में पृथ्वीराज कपूर उनके गीतों को सुनकर काफी प्रभावित हुए और उन्होंने अपने पुत्र राजकपूर को हसरत जयपुरी से मिलने की सलाह दी। राजकपूर स्वंय हसरत जयपुरी के पास गये और उन्होंने उन्हें अपने स्टूडियो बुलाया और वहाँ पर उन्होंने हसरत साहब को एक धुन सुनाई। उस धुन पर हसरत साहब को गीत लिखना था।
धुन के बोल कुछ इस तरह के थे “अबुआ का पेड़ है वही मुंडेर है, आजा मेरे बालमा काहे की देर है”  हसरत जयपुरी ने धुन सुनकर अपनी फ़िल्मी जीवन का पहला गीत लिखा

“जिया बेकरार है, छाई बहार है आजा मोरे बालमा तेरा इन्तजार है”। 
फिल्म “बरसात” के लिए लिखे इस गीत ने हसरत जयपुरी को पूरे देश में एक नई पहचान दी। हिंदी फिल्मो में जब भी टाइटिल गीतों का जिक्र होता है, तो सबसे पहले हसरत जयपुरी नाम लिया जाता है।  दीवाना मुझको लोग कहे (दीवाना) , 'दिल एक मंदिर है’ ,’ रात और दिन दीया जले’ , ‘तेरे घर के सामने इक घर बनाउगा’, ‘गुमनाम है कोई बदनाम है कोई’,’दो जासूस करे महसूस’ जैसे ढेर सारे फिल्मो के उन्होंने टाइटिल गीत लिखे, इसके साथ ही हसरत जयपुरी ने लिखा “अब्शारे-गजल” में

ये कौन आ गई दिलरुबा महकी महकी
फ़िज़ा महकी महकी हवा महकी महकी

वो आँखों में काजल वो बालों में गजरा
हथेली पे उसके हिना महकी महकी

ख़ुदा जाने किस-किस की ये जान लेगी
वो क़ातिल अदा वो सबा महकी महकी

सवेरे सवेरे मेरे घर पे आई
ऐ "हसरत" वो बाद-ए-सबा महकी महकी

उन्होंने प्रेम को प्रतीक माना ...

हसरत जयपुरी ने अपनी उस प्रेमिका के लिए बहुत से गीत लिखे जहाँ वो बोल पड़ते है

चल मेरे साथ ही चल ऐ मेरी जान-ए-ग़ज़ल
इन समाजों के बनाये हुये बंधन से निकल, चल

हम वहाँ जाएँ जहाँ प्यार पे पहरे न लगें
दिल की दौलत पे जहाँ कोई लुटेरे न लगें
कब है बदला ये ज़माना, तू ज़माने को बदल, चल

प्यार सच्चा हो तो राहें भी निकल आती हैं
बिजलियाँ अर्श से ख़ुद रास्ता दिखलाती हैं
तू भी बिजली की तरह ग़म के अँधेरों से निकल, चल

अपने मिलने पे जहाँ कोई भी उँगली न उठे
अपनी चाहत पे जहाँ कोई भी दुश्मन न हँसे
छेड़ दे प्यार से तू साज़-ए-मोहब्बत पे ग़ज़ल, चल

पीछे मत देख न शामिल हो गुनाहगारों में
सामने देख कि मंज़िल है तेरी तारों में
बात बनती है अगर दिल में इरादे हों अटल, चल

       इन्होने अपने प्यार का इजहार बहुत ही शानदार तरीके से किया पर हसरत कभी अपनी उस पहली प्रेमिका को कह नही पाए और उन्होंने जो अपना पहला प्रेम पत्र लिखा था उसको वो कभी अपनी राधा को नही दे पाए तब राजकपूर ने उनके प्रेमपत्र को एक फिल्म में इस्तेमाल किया “ये मेरा प्रेम पत्र पढ़कर कही तुम नाराज न होना कि तुम मेरी जिन्दगी हो तुम मेरी बन्दगी हो”

       हसरत के गीतों में अंतर वेदना के साथ प्रेम की असीम गहराई है। हसरत जयपुरी की जोड़ी राजकपूर के साथ 1971 तक कायम रही। “मेरा नाम जोकर” और “कल आज और कल” की बाक्स आफिस में विफलता के कारण राजकपूर से उनकी जोड़ी टूट गयी और राजकपूर ने फिर आनन्द बख्शी को अपने साथ ले लिया। इसके बाद हसरत जयपुरी ने राजकपूर के लिए 1985 में प्रदर्शित फिल्म “राम तेरी गंगा मैली” में “सुन साहिबा सुन” गीत लिखा जो काफी लोकप्रिय हुआ। हसरत जयपुरी को दो बार फिल्मफेयर एवार्ड पुरूस्कार से सम्मानित किया गया। हसरत जयपुरी ने यों तो बहुत रूमानी गीत लिखे लेकिन असल जिन्दगी में उन्हें अपना पहला प्यार नही मिला। हसरत ने तीन दशक लम्बे फ़िल्मी कैरियर में 300 से अधिक फिल्मों के लिए करीब 2000 गीत लिखे। अपने गीतों से श्रोताओ को मन्त्र मुग्ध करने वाला शायर 17 सितम्बर 1999 में चिर निद्रा में विलीन हो गया और छोड़ गया अपने लिखे वो गीत जो उसने सादे कागज के कैनवास पे उतारे थे और अलविदा कह दिया उसने इस दुनिया को। ऐसे शायर को आज उनकी पूण्य तिथि पर शत शत नमन।

सुनील दत्ता  (स्वतंत्र पत्रकार व समीक्षक)

टिप्पणियां

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार - 18/09/2013 को
    अमर' अंकल पई की ८४ वीं जयंती - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः19 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…