#Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


तोड़क

चुनिंदा

अभिसारम

संपाद्य्कम

ताज़ा तरीनमः

अधिकम्

पुरस्कार सब कुछ नहीं होते — कविता का कुलीनतंत्र (3) — उमाशंकर सिंह परमार

सोमवार, जुलाई 16, 2018 0
भाग-3: सत्ता और पूँजी के संरक्षण में विकसित जमीन से विस्थापित कविता का कुलीनतंत्र — उमाशंकर सिंह परमार यह समय विज्ञापन और प्रचार और...
और आगे...

कविता का कुलीनतंत्र (2) — उमाशंकर सिंह परमार | #आलोचना "हिंदी कविता का वर्तमान"

सोमवार, जुलाई 16, 2018 0
साम्प्रदायिकता विरोध की एक अवधारणा है कि "हिन्दुत्व की बुराई करना" जो हिन्दुत्व की बुराई करेगा वही धर्मनिरपेक्ष है। यह उथ...
और आगे...

कविता का कुलीनतंत्र — उमाशंकर सिंह परमार | #आलोचना "हिंदी कविता का वर्तमान"

सोमवार, जुलाई 16, 2018 0
प्रखर युवा आलोचक उमाशंकर परमार की आलोचना में वह धार है जिसका वर्तमान (युवा) साहित्यकारों का पता ही नहीं था. अच्छी बात यह है कि वह तक़री...
और आगे...

सांप सीढ़ी का खेल — स्टोरी इंदिरा दाँगी — लीप सेकेण्ड | कथा-कहानी

रविवार, जुलाई 15, 2018 0
साँप वाला बॉक्स उठाया और फिर दौड़ा — शायद बिना ही साँसों के।  और अबकी जो गिरा... लिखते जाओ इंदिरा दाँगी...लिखते जाओ. प्रिय लेखक य...
और आगे...

प्रेम शंकर शुक्ल की कविता "आग" #PoetryImpromptu

गुरुवार, जुलाई 12, 2018 0
अचानक — बगैर किसी पूर्वयोजना के (इम्प्राम्प्टू) — ही जब कभी मैंने किसी कवि को रिकॉर्ड किया हो, वह कविता.. ...
और आगे...

भूत की कहानी, डरावनी वाली: "कोई नहीं है!" Do Spirits Exist? #SundayNBT

गुरुवार, जुलाई 12, 2018 0
दिल्ली के बुराड़ी इलाके में 11 लोगों की खुदकुशी की घटना... ललित के साथ उसके परिवार के बाकी 10 सदस्यों का बर्ताव उन्हें 'शेयर्ड ...
और आगे...

जेब काटी जानी — विकास की निशानी #भाजपुवाच

रविवार, जुलाई 08, 2018 0
भा ज पा कौ ड़े  प्रधानमन्त्री के पकौड़ा से शुरू हुआ सफर मुख्यमंत्री के पान ठेला होते हुए युवा नेता की पाकेटमारी के रास्ते अब अचा...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator

लोकप्रिय पोस्ट