advt

पत्रिका : नया पथ (जनवरी-मार्च 2014) Magazine "Naya Path" (January - March 2014)

अप्रैल 29, 2014

जनवादी लेखक संघ की 

केन्द्रीय पत्रिका 

"नया पथ" 

जनवरी-मार्च 2014

शब्दांकन के पाठकों के लिए ऑनलाइन उपलब्ध है. जिसका अनुक्रम नीचे दिया जा रहा है. तदोपरान्त पत्रिका को पढने का लिंक दिया गया है

अनुक्रम

संपादकीय / 3
इलाहाबाद घोषणा / 5
नवउदारवाद और सांप्रदायिक फ़ासीवाद का उभार / प्रभात पटनायक / 10
संघ परिवार का फ़ासीवाद / सुमित सरकार / 20
जर्मन फ़ासीवाद (1933–34) : आतंक और लफ्फाजी की भूमिका / कुर्ट पेट्ज़ोल्ड / 31
गुजरात विकास की यथार्थ गाथा / कृष्ण मुरारी / 43
‘संघ–स्वदेशी’ और भूमंडलीकरण / अभय कुमार दुबे / 52
कॉरपोरेट पूंजी, फ़ासीवाद और मीडिया / मुकेश कुमार / 58
समकालीन भारतीय चित्रकला पर सांप्रदायिक हमले / मनोज कुलकर्णी / 63
हिंदू राष्ट्रवाद तथा उड़ीसा - अन्य के तौर पर अल्पसंख्यक / अंगना चटर्जी / 67
उड़ीसा - गुजरात बनाने की प्रक्रिया में / अंगना चटर्जी / 79
गुप्त ‘धर्मयुद्ध’ / प्रियंका कोटमराजु / 83
पांडित्य और सहानुभूति से निर्मित एक कृति / गोविंद पुरुषोत्तम देशपांडे / 86
सांप्रदायिक फ़ासीवाद के ख़तरे के ख़िलाफ़ लेखकों, कलाकारों, संस्कृतिकर्मियों की एकता / इलाहाबाद से लौटकर राजेंद्र शर्मा द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट / 90
सांप्रदायिक सद्भाव की ऐतिहासिक अनिवार्यता / मृणाल / 104

कविताएं 

अथ राक्षस चालीसा / स्वामी सदानंद सरस्वती / 114
इन्तज़ाम / कुंवर नारायण / 116
उपदेश नहीं / भगवत रावत / 117
गुजरात के मृतक का बयान / मंगलेश डबराल / 119
हलफ़नामा / असद जै़दी / 121
वली दकनी / राजेश जोशी / 123
कार्तिक स्नान / मनमोहन / 126
मोदी / विष्णु नागर / 128
कौमी एकता का गीत / चंचल चैहान / 129
ईश्वरीय संगठन / कुमार अंबुज / 130
रात / निर्मला गर्ग / 132
अपराध / एकान्त श्रीवास्तव / 133
अथ श्री पूंजी प्रपंचम् / दिनेश कुमार शुक्ल / 135
नई सदी / नीलेश रघुवंशी / 136
हमारे समय की प्रार्थना / अनिल गंगल / 137
कविता मेरी नहीं / बोधिसत्व / 138
यह आवाज़ मुझे सच्ची नहीं लगती / पवन करण / 139
फ़ासिस्ट / मुकेश मानस / 141
सोख़्ता ग़ज़ल / मुज़फ़्फ़र हंफ़ी / 142
सितम / मंज़र शहाब / 143

कहानियां 

शाह आलम कैम्प की रूहें / असग़र वजाहत / 144
नींव की र्इंट / हुसैन उल हक़ / 148
बालकोनी / सुरेंद्र प्रकाश / 155
अली मंज़िल / अवधेश प्रीत / 166
दंगा भेजियो मौला! / अनिल यादव / 179
अंधेरी दुनिया के उजले कमरे में गुर्र–गों / राकेश तिवारी / 185

समीक्षाएं 

ज़ब्तशुदा नाटकों पर अनूठी शोध दृष्टि / मुरली मनोहर प्रसाद सिंह / 193
भाषा बोलती उतना नहीं, जितना देखती है / मुकेश मिश्र / 195

विशिष्ट आयोजन

‘हल्ला बोल’ उत्सव / अशोक तिवारी / 200



टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…