"तर्ज बदलिए" — कृष्णा सोबती की कविता | Krishna Sobti #demonetisation - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


osr 1625

"तर्ज बदलिए" — कृष्णा सोबती की कविता | Krishna Sobti #demonetisation

Share This




तर्ज बदलिए

Poem by Krishna Sobti


गुमशुदा घोड़े पर सवार
हमारी सरकार
नागरिकों को तानाशाही
से
लामबंदी क्यूँ करती है
और फिर
दौलतमंदों की
सलामबंदी क्यों करती है
सरकारें
क्यूँ भूल जाती हैं
कि हमारा राष्ट्र एक लोकतंत्र है
और यहाँ का नागरिक
गुलाम दास नहीं
वो लोकतान्त्रिक राष्ट्र भारत महादेश का
स्वाभिमानी नागरिक है                      
सियासत की यह तर्ज बदलिए

    कृष्णा सोबती
    18/11/2016
    नई दिल्ली

वादों की कोई जांच परख नहीं होनी — शेखर गुप्ता 

लाईन मे लगकर मरने मे कौनसी गरिमा है  – अभिसार शर्मा


००००००००००००००००

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator

लोकप्रिय पोस्ट