advt

रवीन्द्र कालिया - दस्त़खत (अक्टूबर 2013)

अक्तू॰ 16, 2013

जिस गति से वैज्ञानिक क्षेत्र में प्रगति हो रही है, नयी से नयी तकनीकि का आविष्कार हो रहा है, संचार में अभूतपूर्व क्रान्ति आयी है, उस गति से हमारे समाज की सोच में परिवर्तन लक्षित नहीं हो रहा। देखा जाय तो पिछले कुछ वर्षों से जातिवाद की प्रवृत्ति में इज़ा़फा ही हुआ है। इसका सबसे बड़ा कारण राजनीति है। जब से जाति के आधार पर राजनीतिक दलों का गठन होने लगा और मतदान जातिवाद की राजनीति से प्रभावित होने लगा, राजनीतिक दलों ने इस प्रवृत्ति को और बढ़ावा दिया। जातिवाद के दुष्परिणाम हमारी सामाजिक संरचना के साथ-साथ हमारे क्रिया-कलापों को भी प्रभावित करने लगे। जातिवाद का विष द़फ्तरों में भी पसरने लगा। विश्वविद्यालय का वातावरण भी इससे अछूता न रह पाया। नियुक्तियाँ तक जातिवाद से प्रभावित होने लगीं।
       अब देखने में आ रहा है कि यह समाज की अन्तरधारा नहीं है। देश में अन्तरजातीय विवाहों का प्रचलन तेज़ी से बढ़ रहा है। ख़बर है कि महाराष्ट्र में अन्तरजातीय विवाहों में चार गुना वृद्धि हुई है। यही नहीं, इन गठबन्धनों में दूल्हा अथवा दुल्हिन दलित हैं। आन्ध्र प्रदेश, केरल और ओडि़शा में गत दो वर्षों में यह संख्या दुगनी हो गयी है। यदि सम्पूर्ण भारत के आँकड़ों पर ग़ौर किया जाय तो स्पष्ट होगा कि राष्ट्रीय स्तर पर यह आँकड़ा सात हज़ार से बढक़र दस हज़ार तक पहुँच गया है। यह प्रवृत्ति अभी अपने प्रारम्भिक दौर में ही है। याद रहे कि केन्द्र सरकार द्वारा ऐसे दम्पतियों को प्रोत्साहन स्वरूप पचास हज़ार रुपये प्रदान किये जाते हैं। सचमुच भारत एक ऐसे देश के रूप में उभर रहा है, जहाँ विरुद्धों का सामंजस्य देखने को मिल रहा है। एक तऱफ सामाजिक कुरीतियों का कट्टरपन की सीमा तक अनुसरण किया जा रहा है, वर्णव्यवस्था की जकड़बन्दी बढ़ रही है, समाज में पंचायतों के स्तर तक जातिगत दूरियाँ बढ़ रही हैं। कौटुम्बिक हिंसा में इज़ा़फा हो रहा है। आये दिन ऐसी ख़बरें आती हैं कि सगोत्र में विवाहित दम्पतियों को जि़न्दा जला दिया जाता है। वर्ण व्यवस्था का उल्लंघन करने वाले अपने ही बच्चों को सरेआम फूँक दिया जाता है और पुलिस मूक गवाह बनकर रह जाती है। राजनीतिक दल अधिक-से-अधिक ‘वोट’ बटोरने के चक्कर में कड़ी कार्यवाही करने से कन्नी काट जाते हैं
ऐसा भी एहसास होता है कि हमारा समाज जैसे सामन्ती और आदिम युग की तऱफ लौट रहा है। समय के साथ बदलने की उसमें न ख़्वाहिश है, न इच्छाशक्ति। 
नव जागरण पर बहुत-सी पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं और व्यापक चर्चा होती रहती है, मगर इन स्थितियों को देखकर तो आभास होता है कि जैसे हमारे समाज में कभी नवजागरण हुआ ही न हो। आज नवजागरण का न कोई ध्वजवाहक है न आन्दोलन। पंचायतें दिशाहीन हो चुकी हैं। उनमें इतनी अहमन्यता आ गयी है कि वे न क़ानून से डरती हैं न अपनी अन्र्तात्मा की आवाज़ सुनती हैं। हम जैसे जंगल राज में जी रहे हैं। ऐसे समाज के लिए साहित्य, संस्कृति और कला भी बेमानी हो जाती हैं। ऐसी भीषण स्थितियों में यदि कोई युवक युवती धारा के विरुद्ध तैरने का प्रयास करते हैं, तो मौत पर खेलकर ही ऐसा क़दम़ उठा सकते हैं। युवा पीढ़ी ही इस कुहासे को सा़फ कर सकती है और यथासमय कर भी रही है।

       ऊपर दिये गये आँकड़े यही संकेत देते हैं। आँकड़े यह भी बताते हैं कि इस की शुरुआत दक्षिण से हो रही है। आशा की जानी चाहिए कि जैसे भक्ति आन्दोलन दक्षिण से उत्तर की तऱफ आया था, भक्ति का यह नया स्वरूप भी दक्षिण से हरियाणा होते हुए उत्तर तक की यात्रा करेगा— कन्याकुमारी से कश्मीर की यात्रा। इस नवोत्थान का विश्लेषण दलित और स्त्री विमर्श के सन्दर्भ में किया जाना चाहिए। इसका सीधा सम्बन्ध साक्षरता से जुड़ता है। केरल, महाराष्ट्र और आन्ध्र साक्षरता में अग्रणी प्रदेश है और इन प्रदेशों ने ही जातिगत दुराग्रहों से ऊपर उठने का साहस प्रदर्शित किया है। सामाजिक मूल्यों के उदारीकरण की यह प्रक्रिया देर-सबेर भारत के कोने-कोने तक पहुँचेगी, ऐसी आशा की जानी चाहिए। राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल के बर्बर तत्त्वों को यह भी सोचना होगा कि यदि कन्याभ्रूण हत्याओं का सिलसिला इसी प्रकार जारी रहेगा तो इन प्रदेशों की सन्तानों को विवाह के लिए लड़कियाँ नसीब न होंगी और वे लडक़ी की तलाश में दर-दर की ठोकरें खाएँगे। यह प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इन प्रदेशों में ग़रीबी रेखा के नीचे रहने वाली लड़कियों को बहला-फुसला और नौकरी दिलाने के नाम पर लाया जा रहा है। उनका यौन शोषण हो रहा है और उनसे बन्धुआ मज़दूर की तरह काम लिया जा रहा है। युवतियों की तस्करी का एक शर्मनाक क्रम देखने को मिल रहा है। इसका अन्त कहाँ होगा, समाजशास्त्रियों के लिए एक नयी चुनौती सामने आ रही है।
सम्पादकीय नया ज्ञानोदय, अक्टूबर 2013

टिप्पणियां

  1. वोट पाने हेतु लोगों को बाँटने की लालसा ने सारे प्रयासों पर पानी फेर दिया है।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया ..सशक्त और सार्थक आलेख.....
    स्वयं के दक्षिण भारतीय होने पर गर्व महसूस किया.
    सादर
    अनु

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह, खूबसूरत,.भावपूर्ण लाजवाब रचना

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…