advt

मुकाबला घाघ लड़ाकों से है मगर सरकार कांग्रेस की बनेगी @brajeshabpnews

मई 6, 2018


आयो बूढो बसंत कांग्रेस दफतर में ...

:: सुबह सवेरे में ब्रजेश राजपूत: ग्राउंड रिपोर्ट


सोचा तो था कि इस ग्राउंड रिपोर्ट का शीर्षक बगरौ बसंत से शुरू करूंगा मगर हालत ऐसे नहीं दिखे तो बदल दिया। बहुत दिनों के बाद मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के तीन मंजिला दफतर में जो रौनक एक मई को नये अध्यक्ष कमलनाथ के पद भार संभालने के साथ आयी थी, वो अभी थोडे कम-ज्यादा अनुपात में हर मंजिल पर बनी हुयी है।

हांलाकि उस दिन तो भोपाल के शिवाजी नगर में कांग्रेस दफतर के बाहर तो क्या पूरे भोपाल में नये अध्यक्ष के स्वागत का जो मजमा उमड़ा था, वो यादगार था। एयरपोर्ट से शिवाजी नगर तक पोस्टर बैनर होर्डिग्स और स्वागत मंच तो गिने नहीं जा पा रहे थे। अगले दिन भोपाल के प्रमुख अखबारों ने भी तय प्रोटोकाल तोडकर पहले पेज पर कांग्रेस की खबर दी और बताया कि कांग्रेस के नये अध्यक्ष के काफिले ने बीस किलोमीटर का सफर छह घंटे में तय किया।
कांग्रेस दफतर के बाहर भी नजारा नये अध्यक्ष नहीं मुख्यमंत्री के शपथ लेने जैसा ही था। डायस सजा था मंच पर कुर्सियां थीं सामने समर्थकों की जोश में हिलोरे मारती भी भीड़ थी। बस नहीं थीं तो सिर्फ राज्यपाल। मगर पीसीसी की तीसरी मंजिल में बने अध्यक्ष के एंटी चैंबर में सोफे और काउच पर बुरी तरह से घुसे बैठे कांग्रेस के नेता दावे कर रहे थे कि देखना इस बार दिसंबर में शपथ भी होगी और यहीं होगी। वजह। वजह ये कार्यकर्ताओं की स्वतस्फूर्त भीड़ और मजमे को देखो क्या उत्साह उमड़ कर आया है।

मगर ये क्या मध्यप्रदेश के राजनैतिक इतिहास पर यादगार किताब लिखने वाले हमारे मित्र ने उत्साह से लबरेज कांग्रेस के इन नेताजी को याद दिलाया कि मत भूलिये फरवरी 2008 में जब सुरेश पचौरी और अप्रेल 2011 में कांतिलाल भूरिया जब पीसीसी चीफ बनकर आये थे, तब भी ऐसा ही मजमा और उत्साह उमड़ कर आया था। मगर चुनावों के रिजल्ट हमारे आपके सामने हैं। हमारे मित्र की बात सुन वहां बैठे सारे कांग्रेसी नेताओं के मुंह में कड़वाहट घुल गयी। मैंने भी सोचा नेताओं के उत्साह के गुब्बारे में पिन चुभोने की कारीगरी हम पत्रकारों को ही आती है।
खैर अभूतपूर्व उत्साह के चार दिन बाद भी माहौल वही था। नीचे कांग्रेस की किसान कलश यात्रा को रवानगी दी जा रही थी। किसानों में कांग्रेस का माहौल बनाने किसान कांग्रेस की ओर से इस यात्रा को मंदसौर तक ले जाया जाने वाला है। समझा जा रहा है कि वहां छह जून को यात्रा की समाप्ति पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी आ जायें क्योंकि जब मंदसौर गोली कांड हुआ था तो वे नीमच से ही वापस भेज दिये गये थे मगर अब उनके आने की योजना बन रही है।

राहुल गांधी और कमलनाथ के जिंदाबाद के बाद जब ये यात्रा रवाना हो गयी तो कांग्रेस दफतर में प्रवेश करते ही लिफट के करीब मिल गये गोविंद गोयल जिनको पार्टी ने कोषाध्यक्ष बनाया है। बेबाक और बिंदास अंदाज में रहने वाले गोंवंद इस पुनर्वास से प्रसन्न दिखे। वरना पिछले अध्यक्ष के समय तो उन्होंने पार्टी दफतर के सामने चरखा चलाकर गांधी गिरी की थी। गोयल ने जब पिछला चुनाव गोविंदपुरा से लड़ा था तब वो साठ साल के थे। पैंसठ साल में मिली ये जिम्मेदारी उन पर भारी है। नेता प्रतिपक्ष के कमरे की ओर बढते ही दिख गये चंद्रप्रभाष शेखर जिनका अपनी उमर को लेकर हंसी ठटठा चल रहा था। शेखर जी उन पांच लोगों में से हैं जिनको पद संभालने के पहले ही दिन अध्यक्ष जी ने जिम्मेदारी सौंपी थी। वो उपाध्यक्ष संगठन प्रभार हैं। सामने बैठे पत्रकार ने जब बातों बातों में उनसे उम्र पूछ ही डाली तो उनका जबाव था कि किसी पुरूष से उमर नहीं पूछी जाती मगर बता देता हूं छह चुनाव लड़े हैं तीन देवास से तीन इंदौर से। पूर्व सीएम पीसी सेठी से लेकर श्यामाचारण शुक्ला और अर्जुन सिंह तक की कैबिनेट में मंत्री रहा हूं। अब समझ लो पहली बार विधायक इंदौर तीन से 1972 में बन गया था। उस वक्त तुम्हारे में से कुछ तो पैदा भी नहीं हुये होगें। समझे अब चलने दो बहुत काम करने हैं। इस अंजानी उमर में काम के प्रति ये लगन देख दिल भर आया।



कांग्रेस दफतर के भूतल के किनारे वाले कमरे पर ही बैठे थे मानक अग्रवाल। मानक जी के अनुभव का कोई जबाव नहीं। पार्टी के वरिष्ट नेता है पर पिछले चुनाव के समय टिकट नहीं पर सारी जिम्मेदारियों को छोड़ पीसीसी से बाहर हो गये थे वरना हम मीडिया कि लिये वो सुबह दस से छह तक बाइट के लिये दफतर में रहते थे। मानक भाई मीडिया कमेटी के चैयरमेन हैं। प्रिंट मीडिया, इलेक्टानिक मीडिया, सोशल मीडिया और मोबाइल मीडिया के जमाने में मानक भाई कैसे सबको साधेंगे देखना होगा।
तीसरी मंजिल पर नये नियुक्त अध्यक्ष का कमरा था जो अध्यक्ष जी के नहीं होने पर पूरी तरह बंद था। वहां मौजूद पत्रकार मित्रों ने बताया कि पहले जहां हम अध्यक्ष के एंटी चैंबर तक चले जाते थे और वहीं पर कैमरा लगाकर बाइट ले लेते थे मगर अब यहां चैंबर के बाहर खड़े रहने वाले अध्यक्ष जी के स्टेनगन लिये सुरक्षा गार्डों से कमरे में झांकने के लिये भी जूझना पड़ता है। अध्यक्ष जी तक आपकी बात पहुंचाने वाले लोग भी नहीं है ऐसे में हम बाइट कलेक्टरों की मुश्किल बढने वाली है। मैंने उनको धीरज बंधाया यार वरिष्ठ नेताओं के साथ ये दिक्कतें आतीं हैं मगर हर हालत में जो काम ना निकाले वो कैसा टीवी जर्नलिस्ट इसलिये मुन्ना भाई लगे रहो...

पुनश्च :

सौ बात की एक बात दफतर के नीचे कांग्रेस से हाल में जुड़े एक प्रोफेशनलिस्ट ने कही कि यहां हमारे यहां नेताओं में आन-बान-शान की लड़ाई है मगर सामने मुकाबला चुनाव को युद्व समझ कर लड़ने वाले घाघ लड़ाकों से है मगर सरकार कांग्रेस की बनेगी क्योंकि यहां भले ही तैयारी कम हो मगर वहां जनता में सरकार का विरोध ज्यादा है। 

ब्रजेश राजपूत,
एबीपी न्यूज
भोपाल

(ये लेखक के अपने विचार हैं।)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…