August 2014 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


आज के मीडिया में भाषा को लेकर ना तो सोच है, ना ही नीति, ना ही प्रेम और ना ही भावना - राहुल देव | Ratneshwar Singh's "Media Live" Launched

Sunday, August 31, 2014 0
टेलीविजन पत्रकारों ने खबरों को समझना बंद कर दिया है - शैलेश (न्यूज नेशन) मीडिया की भाषा- खतरे और चुनौतियां  के साहित्य अकादमी, नई द...
और आगे...

राजेन्द्र यादव की कवितायेँ Poems of Rajendra Yadav

Thursday, August 28, 2014 0
राजेन्द्र यादव की कवितायेँ न-बोले क्षण न, कुछ न बोलो मौन पीने दो मुझे     अपनी हथेली से तुम्हारी उँगलियों का कम्प...     उँह, ...
और आगे...

राजेन्द्र यादव को याद करती कविता - अंधेरी कोठरी मेँ रोशनदान की तरह | Kavita Remembers Rajendra Yadav

Thursday, August 28, 2014 1
अंधेरी कोठरी मेँ रोशनदान की तरह  कविता ‘हंस’ मेरा दूसरा मायका था आज राजेन्द्र जी पर जब लिखने बैठी हूँ, ऐन सुबह का वही समय है जब...
और आगे...

राजेंद्र यादव: हमारे समय का कबीर - अनंत विजय | Anant Vijay Remembers Rajendra Yadav

Thursday, August 28, 2014 0
राजेंद्र यादव के जाने से साहित्य जगत में जो सन्नाटा पसरा है  वह हाल फिलहाल में टूटता नजर नहीं आ रहा है  - हमारे समय का कबीर - अन...
और आगे...

हाथ से फिसलती ज़मीन... तेजेन्द्र शर्मा [हिंदी कहानी] Haath se fisalti zamin - Tejinder Sharma [Hindi Kahani]

Monday, August 25, 2014 0
हाथ से फिसलती ज़मीन... तेजेन्द्र शर्मा “ग्रैण्डपा, आपके हाथ इतने काले क्यों हैं?... आपका रंग मेरे जैसा सफ़ेद क्यों नहीं है?... आ...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator