advt

अपूर्वानंद: भारत में इस्लाम के स्वयंभू ख़लीफा | Apoorvanand

जन॰ 2, 2016

अपूर्वानंद: भारत में इस्लाम के स्वयंभू ख़लीफा #शब्दांकन

क्या यह इंसानी अहंकार नहीं कि वह इस सर्वोच्च सत्ता की मान रक्षा का दावा करता है?

- अपूर्वानंद

केरल के कन्नूर जिले के तालिपाराम्बा में आर. रफीक का स्टूडियो 26 दिसम्बर को जला दिया गया। वे एक वीडियोग्राफर हैं। स्टूडियो पर हमले की यह वारदात रफीक के मुताबिक़ सार्वजनिक स्थलों पर बुर्के के दुरुपयोग को लेकर एक सीमित व्हाट्स एप समूह (इस्लाम क्या है?) के भीतर उनकी एक टिप्पणी के बाद हुई। उन्होंने कहा था कि पिछले दिनों ऐसी कई घटनाओं की रिपोर्ट आई है कि बुर्काधारी औरतें शादियों और गहनों की दुकानों में चोरियां कर रही हैं। रफीक ने कहा कि इसके पीछे ज़रूर कोई संगठित गिरोह है जो बुर्के की आड़ में चोरी का धंधा कर रहा है। उनका सुझाव था कि सार्वजनिक स्थलों पर औरतों को बुर्के या हिजाब का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए ताकि इस गिरोह का पर्दाफ़ाश हो सके।

रफीक एक बहुत सीमित सन्दर्भ में एक सुझाव रख रहे थे। वे तो यह बहस भी नहीं कर रहे थे कि बुर्का इस्लामी रिवायत है या नहीं। उनका प्रस्ताव किसी धार्मिक सामाजिक परम्परा पर पुनर्विचार का भी नहीं था। लेकिन इस टिप्पणी के बाद उन्हें धमकियां मिलने लगीं। उनके स्टूडियो के और खुद उनके बहिष्कार का आह्वान किया जाने लगा। ये धमकियां केरल के भीतर से तो आईं ही, खाड़ी के मुल्कों से भी आईं, यह रफीक का आरोप है जिन्होंने पुलिस को ऐसे सारे फोन नंबर सौंप दिए हैं।

फिर शनिवार की रात या इतवार की सुबह उनके स्टूडियो पर हमला हुआ और उसे बर्बाद कर दिया गया। यह हमला किसने किया, यह तो ठीक-ठीक पुलिस की तहकीकात से मालूम होना चाहिए लेकिन रफीक का और अनेक लोगों का खयाल है कि यह केरल के किसी इस्लामी कट्टरपंथी समूह का ही काम है।

रफीक एक बहुत ही सीमित वार्ता समूह में अपनी बात रख रहे थे जिसके सदस्य एक-दूसरे से परिचित हैं। जब तक उस व्हाट्स एप समूह में से किसी ने यह बात बाहर भी न की हो, उसका औरों तक पहुँचना मुमकिन न था। जाहिर है, उस समूह के किसी सदस्य ने एक आपसी चर्चा को सार्वजनिक कर दिया। अगर किसी ने यह किया तो उसने आपसी विचार-विमर्श के एक मान्य सिद्धांत का उल्लंघन किया: उसने परस्पर विश्वास को तोड़ दिया और अपने एक सदस्य को अरक्षित कर दिया। या फिर यह मान लेना पड़ेगा कि उसी समूह के भीतर के किसी ने यह हमला किया या करवाया जो और भी भयानक बात है। इसका अर्थ यह है कि अब संवाद संभव ही नहीं है।

इस हमले से हाल के एक दूसरे वाकए की याद आना अस्वाभाविक नहीं है जो प्रसिद्ध मलयाली अखबार माध्यमम की पत्रकार वी पी राजीना की फेसबुक पर की गई टिप्पणी के बाद उनपर हमले का था । यह शारीरिक हमला न था लेकिन उनपर गालियों और धमकियों की बौछार कर दी गई , उनके फेसबुक खाते में सेंध लगाई गई और फिर उसे बंद करवा दिया गया। राजीना ने उस टिप्पणी में अपने एक अनुभव के सहारे मदरसों में बच्चों के यौन शोषण की चर्चा की थी।

राजीना पर आरोप लगाया गया कि वे मदरसों को बदनाम कर रही हैं और इस तरह इस्लाम की भी हतक कर रही हैं। यह सामान्य बुद्धि का मालिक भी समझ सकता है कि न तो रफीक और न ही राजीना का मकसद इस्लाम की आलोचना करना था। यह एक दीगर सवाल है कि अगर वे ऐसा कर भी रहे होते तो यह उनका हक था और इस वजह से उनपर हमला जायज़ नहीं हो जाता।

राजीना ने अपना तजुर्बा बयान किया था। वे बच्चों के यौन शोषण की गंभीरता को सामने लाना चाहती थीं। उस पर चर्चा तो दूर, राजीना पर ही चर्चा होने लगी। और यह चर्चा न थी, हमला था। राजीना इससे डरी नहीं। लेकिन केरल के एक प्रमुख इस्लामी प्रकाशन समूह के उपनिदेशक के. टी. हुसैन कुत्तूर ने जब उनपर अपने मदरसे के अनुभव में मिर्च मसाला लगा कर लिखने का आरोप लगाया तो राजीना ने कहा कि मैं अपने तजुर्बे का शतांश भी नहीं लिख पाई हूँ और यह बड़ी बदकिस्मती की बात है कि जब कोई औरत इस तरह के शोषण को सार्वजनिक करती है तो उसे हिम्मत बँधाने की जगह उस पर हमला किया जाता है। 

राजीना पर भी इस्लाम की हतक का आरोप लगाया गया। उन्होंने ठीक लिखा कि क्या इस्लाम बच्चों का यौन शोषण करनेवालों को बचाने की बात करता है, क्या वह इतना कमजोर है? उन्होंने लिखा कि मेरी नज़र में इस्लाम इतना करजोर नहीं और वह सिर्फ मर्दों और औरतों के हक की नहीं सारे प्राणियों के अधिकार की बात करता है।

जैसा हमने पहले कहा। ऐसे हर मामले में ज़रूरी नहीं होना चाहिए कि हमले का शिकार पहले इस्लाम से अपनी वफादारी का इजहार करे, तभी उसकी मदद की जाए। केरल में राजीना पर हमले के बहुत पहले 2010 में कोच्ची के तोदुपुज्झा के न्यूमैन कॉलेज में मलयालम के शिक्षक टी जे जोसफ पर यह आरोप लगा कर कि उन्होंने एक प्रश्न पत्र में मोहम्मद साहब का अपमान करने की नीयत से एक प्रश्न बनाया था, पहले तो उनकी नौकरी खत्म कर दी गई और फिर एक दिन चर्च से लौटते वक्त उनपर हमला करके उनका एक हाथ काट दिया गया। ईसाइयों के इस कॉलेज ने जोएस्फ की नौकरी बहाल न की जिसके नतीजे में अपमान और गरीबी न झेल पाने के चलते उनकी पत्नी ने चार साल बाद खुदकुशी कर ली। हमलावर पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के सदस्य कहे जाते हैं। इस साल उनके हमलावरों को सजा सुनाई गई।

जोसफ के आरोप की जांच करने पर पता चाला कि उन्होंने तो सिर्फ एक मलायली लेखक की रचना के अंश के आधार पर सवाल बनाया था जिसमें एक पागल और खुदा के बीच की एक बातचीत की कल्पना थी।

इस्लाम के मुहाफ़िज़ों के गिरोह इस्लाम के भीतर किसी विचार-विमर्श की संभावना को ऐसे हमलो से खत्म कर रहे हैं और इस तरह उसे एक जीवित धार्मिक परंपरा के गौरव से वंचित करके रूढ़ियों के एक सिलसिले में शेष कर रहे हैं। किसी तरह के आत्म-चिंतन और आत्मावलोकन की ताकत के बिना किसी भी परंपरा का ज़िंदा रहना नामुमकिन है।

इस बात पर बहुत चर्चा की जाती है कि क्या आज के दौर में जब एक तरह का इस्लाम-भय पूरी दुनिया में फैलाया जा रहा हो, फ्रांस में नेशनल फ्रंट, अमरीका में रिपब्लिकन पार्टी के डोनाल्ड ट्रम्प या भारत में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे लोग और संगठन जब ऐसा सुनियोजित तरीके से कर रहे हों तब क्या इस्लाम या मुसलमानों की ऐसी आलोचना ठीक है जो उनकी नकारात्मक छवि बनाती हो! इस आड़ में इस्लाम के भीतर और बाहर किसी तरह की समीक्षा या आलोचना को गलत ही नहीं, समुदाय के खिलाफ जुर्म ठहरा दिया जाता है। 

अव्वल तो, जैसा राजीना ने कहा, इस्लाम या कोई भी धर्म इतना कमजोर नहीं कि आलोचना से ढह जाए। दूसरी बात , आलोचना एक सम्पूर्ण कार्रवाई है। अगर एक जगह आलोचना में कोताही की जाती है तो वह दूसरी जगह की आलोचना की वैधता ख़त्म कर डालती है। इसके अलावा आप खुद अपने लिए जनतांत्रिक अधिकार का दावा नहीं कर सकते अगर स्वयं यह दूसरों को देने के पक्ष में आप नहीं हैं।

जो लोग धर्म या मजहब के रक्षक हैं, वे दरअसल धार्मिक नहीं। क्योंकि हर धर्म एक मानवेतर, उससे कही ऊपर की सत्ता की प्रभुता पर टिका है। तो क्या यह इंसानी अहंकार नहीं कि वह इस सर्वोच्च सत्ता की मान रक्षा का दावा करता है?

सारी धार्मिक व्यवस्थाओं को इस बात का इल्म होना बहुत ज़रूरी है कि वे एक जनतांत्रिक संसार में रह रहे हैं और यह संसार व्यक्तियों की आज़ादी के उसूल पर टिका है। उसमें आलोचना का अधिकार बुनियादी है। और यह टुकड़ों में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। दुनिया के किसी भी हिस्से में किसी भी व्यक्ति पर अपनी राय जाहिर करने के लिए जब हमला हो तो उसका विरोध में हिचकिचाहट का मतलब है उस आज़ादी की जगह का सिकुड़ना।

००००००००००००००००

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…