advt

इस सवाल से तो मैं भी परेशान हूँ — सलीमा हाशमी Salima Hashmi and Sadanand Menon in conversation with Ashok Vajpeyi

सित॰ 22, 2016

Salima Hashmi — Photo (c) Bharat Tiwari

Beauty in Contemporary Art

- Bharat Tiwari

रज़ा फाउंडेशन की कार्यक्रम श्रृंखला ‘आर्ट मैटर्स’ में २० सितम्बर की शाम को इण्डिया इंटरनेशनल सेण्टर का हाल पूरी तरह भरा हुआ था, लोग खड़े रह के तक़रीबन एक घंटे चली चर्चा को सुनते रहे. और ऐसा क्यों न होता जब चर्चा का विषय ‘Beauty in Contemporary Art’ यानी ‘समकालीन कला में सौंदर्य’ हो और चर्चा करने वाले भारतीय उपमहाद्वीप के दो उम्दा दिमाग – डॉ सलीमा हाशमी और कला समीक्षक सदानंद मेनन हों. बातचीत को दिशा दे रहे थे रज़ा फाउंडेशन प्रबंध न्यासी, कवि अशोक वाजपेयी. श्रोताओं में जावेद अख्तर भी मौजूद थे.



Salima Hashmi — Photo (c) Bharat Tiwari
Javed Akhtar — Photo (c) Bharat Tiwari


चर्चा का विस्तार कला के उस आयाम को छू रहा था जहाँ कला अपनी पहचान के विपरीत व्यवहार कर रही होती है, जैसे छाया चित्रों में विभत्सता, हॉरर का तत्व या संगीत में मौन या वाद्ययंत्रों का चुप रहना. एक चित्र के ज़रिये सलीमा हाशमी ने इसे बखूबी समझाया – चित्र में खुले आसमान के बीच एक सुन्दर वृक्ष खड़ा था और उसी तस्वीर के ऊपर दायें कोने में एक दूसरा वह चित्र लगा था जिसमें समुद्र के किनारे डूबा मिला सीरिया शरणार्थी बच्चा था. दो विपरीत हालातों को दर्शाता यह चित्र पूरे हॉल को सन्नाटे से भर रहा था.

Ashok Vajpeyi, Sadanand Menon and Salima Hashmi — Photo (c) Bharat Tiwari
Ashok Vajpeyi, Sadanand Menon and Salima Hashmi — Photo (c) Bharat Tiwari



Ashok Vajpeyi, Sadanand Menon and Salima Hashmi — Photo (c) Bharat Tiwari
Ashok Vajpeyi, Sadanand Menon and Salima Hashmi — Photo (c) Bharat Tiwari

Sadanand Menon  — Photo (c) Bharat Tiwari
Sadanand Menon  — Photo (c) Bharat Tiwari


चर्चा ख़त्म होने के बाद मैंने सलीमा जी से पूछा, “यदि वीभत्सता दर्शाती कला – जो मुझे एक अंधी गली लगती है – से लोगों को लगाव होने लगा, तब इस घातक लगाव से दूर कैसे हुआ जाए ?” उन्होंने जवाब दिया “इस सवाल से तो मैं भी परेशान हूँ”. यही सवाल जब मैंने सदानंद जी से किया तो उन्होंने कहा – “आज यही हो रहा है, हमारे हर तरफ ऐसा ही माहौल है. अख़बारों, टीवी मिडिया आदि हर जगह खून ही खून तो दिखाई देता है”.

००००००००००००००००

टिप्पणियां

  1. इस टिप्पणी को ब्लॉग के किसी एडमिन ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. करीब 4 साल बाद आज मैं इस इंटरव्यू के अंश को पढ़ रहा हूं, सवाल उस समय जितना जरूरी था, उतना ही आज भी जरूरी है। सोशल मीडिया इंटरनेट और मोबाइल फोन के गठजोड़ से जो क्रांति पनप रही है, वह कला को नया आयाम देने के लिए पर्याप्त है और आपका सवाल और भी सार्थक ही जाता है।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…