advt

डॉ सरस्वती माथुर की कवितायेँ

मार्च 19, 2013
डॉ सरस्वती माथुर

डॉ सरस्वती माथुर

प्राचार्य - पी .जी. कॉलेज
एम. एस. सी. (प्राणिशास्त्र) पीएच.डी , पी. जी .डिप्लोमा इन जर्नालिस्म (गोल्ड मेडलिस्ट)

... विस्तृत परिचय 







नारी भी होती है एक गुलाब सी !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
नारी भी होती है
एक गुलाब सी
अलग अलग रंगों में
आभा बिखेरती है
सुगंध बांटती है
प्रकृति महकाती है
गुलाब-जल सी ठंडक देती है
गुलाब का सौन्दर्य
सभी को लुभाता है
लाल, पीले, सफ़ेद, रंग
एक नयी अनुभूति की
भाषा गढ़ते हैं
प्रकृति की धारा में
बुलबुले सी उठती गिरती
रंगीन गुलाब की
पतियों का भी
एक अलग ही रस होता है
सच गुलाब
मन को कितना मोहता है ?
अलग अलग रूपों में
रंगों में, महक में
तभी तो कहते हैं हम कि
नारी भी होती है
एक गुलाब सी
जो अलग अलग रंगों में
रूपों में,
माँ बेटी पत्नी बहिन सी
प्रकृति में महकती हैं और
पक्षियों की मीठी बोली सी
हमारे घर आँगन में
चह्कती है और
गुलाब की पत्तियों सी
वह भी जब झरती है तो
सुगंध की पुरवा हमारे
इर्द गिर्द बिखेर कर
वातावरण को
सुवासित कर
स्वर्गीय आनंद से
हमें भर देती है
तो आओ इसकी महक को
महसूस करें और
जीवन में भर कर
इस सुवास को
फैलने दें, फैलने दें,
बस फैलने दें !


पिता के ख़त !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
पिता तुम्हारे ख़त
खिले गुलाब से
मेरे मन आँगन में
आज भी महक रहे हैं
जब भी उदासी की बारिश में
भीगती हूँ
छतरी से तन जाते हैं
सपना देखती हूँ तो
उड़न तश्तरी बन
मेरे संगउड़ जाते हैं
जादुई चिराग से
मेरी सारी बातें
समझ जाते हैं
पिता तुम्हारे ख़त
मेरी उर्जा का स्त्रोत हैं
संवादों का पुल हैं
कभी भी मेरी उंगली थाम
लम्बी सैर पर निकल जातें हैं
पिता तुम्हारे ख़त
पीले पड़ कर भी
कितने उजले हैं
रातरानी से
आज भी महकते हैं
पिता तुम्हारे ख़त
अनमोल
रातरानी के
फूलों से
खतों के शब्द
ठंडी काली रातों में
एक ताजा अखबार से हैं
पिता तुम्हारे ख़त
ख़त समाचार भरें हैं
उसमे परिवार ,समाज ,देश
एक कहानी से बन गए हैं
इतिहास से रहते हैं
उनके भाव
हमेशा मेरे पास/ जिन्हें
सर्दी में रजाई सा ओढ़ती हूँ
गर्मी में पंखा झलते हैं
पिता तुम्हारे ख़त
बारिश में टपटप
वीणा तार से बजते हैं
इसके संगीत की ध्वनित तरंगें
मेरा जीवन रथ है
इसके शब्दों को पकडे
तुम सारथी से मुझे
सही राह दिखाते हो
इन्हें सहेज कर रखा है
आज भी मैंने
कह दिया है
अपने बच्चों से कि यह
मेरी धरोहर हैं
जो आज भी मेरा
विश्वास है /कि
मेरे पिता मेरे जीवन का
सारांश हैं
बहुत खास है
पिता तुम्हारे ख़त


एक अजन्मी बेटी का निवेदन !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
माँ
वक्त आ गया है
अब तुम्हारी परीक्षा का
मेरी सुरक्षा का
अजन्मे व्यक्तित्व को अब
गरिमा देनी होगी क्यूंकि
मैं भी तो हूँ/ ब्रह्म का अंश
बेटे जन कर देती हूँ वंश
फिर बेटे बेटी की कसौटी पर
क्यों करता है समाज
मेरा मूल्यांकन/ क्यूँ नहीं करता
मेरी क्षमताओं का आकलन
माँ तेरे आँचल में तो
ममता है
फिर इस परिवेश में
क्यूँ नहीं समता है ?
मेरा निवेदन बस
इतना भर है
तेरी कोख अभी
मेरा घर है
तू मेरी पैदाइश कर दे
मेरे जन्म को अपनी
ख्याइश कर दे
इतनी बस समझाइश कर दे
चुनौतियों की इस डगर पर
नई शुरुआत कर सकूँ
सरस्वती ,लक्ष्मी और दुर्गा का
साक्षात् रूप धर सकूँ इसलिए
अब वक्त आ गया है कि
सीपी बन कर तुम
संपुट की आभा दे दो
फिर मोती बन कर निकलूंगी
सूरज सी चमकूंगी
,माँ, मुझ पर तुम्हारा
कर्ज रहेगा पर
तुम्हारे विश्वास की
किश्तें चुकाना
मेरा फ़र्ज़ रहेगा
फ़र्ज़ रहेगा
फ़र्ज़ रहेगा !


स्वप्न सृष्टि !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
आसमान पर मंडराती
चिड़िया मुझे
कभी कभी बहुत लुभाती है
सपनो में आकर
अपने पंख दे जाती है
मैं तब उड़ने लगती हूँ
गगनचुम्बी इमारतों पर
निरंतर शहर में
विस्तरित होते गाँवों
,खेतों ,खलिहानों पर
हवाओं की लहरों संग
बतियाते फूलों पर
आकाशी समुन्द्र की
बूंदों से अठखेलियाँ करती
आत्मस्थ होकर
उड़ते उड़ते मेरी
मनचाही उड़ान
मुझमें विशवास की
एक रौशनी भर देती है /और
मैं उड़ जाती हूँ
अनंत आकाश में
धरती से दूर वहां
जिन्दगी को
गतिमान रखने को
सपने पलते हैं और
मैं उतर कर उड़ान से
एक नीड ढूँढती हूँ
जहाँ सुरक्षित रहें
जंगलों का नम हरापन
बरसाती चश्मा
ऊँचें पहाड़
गहरी ठंडी वादियाँ
पेड़ ,नदी ,समुन्द्र और
पेड़ों पर चह्चहाते -
गीत गाते रंग बिरंगे परिंदे
नित्य और निरंतर
गतिशील लय की
अनंतता में बस
अनंतता में !


आओ बेटी !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
मन के झुरमुट के
उस पार से
एक अनुगूँज है आती कि
बेटी होती है
गुलाब की पंखुड़ियों सी
घर आँगन है महकाती
तभी तो दुर्गा रूप कहलाती
आओ बेटी सच
झरना ही तो हो तुम
मीठे पानी का
कलकल बहती जाओ
मरुस्थल के जल सी
सबकी प्यास बुझाओ
पाखी सी दूर गगन तक
पंख पसार कर
उन्मुक्त उडो तुम और
आच्छादित कर लो
सतरंगी आभा से
अपने जीवन का
सुंदर आसमान
भर कर वहां
तने इन्द्रधनुष के रंग
अपने जीवन में भर लो
याद रखना बेटी
मैं माँ हूँ पर एक
दोस्त की तरह हमेशा
तुम्हारे साथ रहूंगी
एक परछाई सी
संग चलूंगी
तुम मेरे जीवन नभ का
झिलमिलाता एक चाँद हो
तुम्हारी चांदनी से आओ
मैं अपना घर भी
रोशन कर लूं
जब सुबह हो तब तुम
भोर किरण सी
मेरे आँगन में
धूप सी फ़ैल जाना
और नीम डाली पर बैठ कर
मुझे आशा का
नवगान सुनाना
प्यारी बेटी
राजरानी हो तुम मेरी
एक मौसम हो तुम
बसंत का, देखना तुम
महसूस करोगी कि
हवा के ठंडे झोंके सी
इर्द गिर्द फैली हूँ
मैं तुम्हारे
एक पारदर्शी आवरण सी !
सृज़न के उन्माद में
सकपकाई सी
एक चिड़िया आई
ताकती रह देर तक
पतझड़ के झड़े
भूरे पतों को
हवा बुहार रही थी
तब सन्नाटा
अटक गये थे चिड़िया के
सुर भी कंठ में पर
मौसम के गलियारों में
महक थी सूखे पत्तों क़ी
उम्मीद थी जल्दी ही
फिर फूल आयेंगे
तितलियों उनमे
ताजगी तलाशती मंडराएगी
कोयलें कूकती
हरियाली पी लेंगी
सृज़न के उन्माद में
फिर फूटेंगे अंकुर
फुलवारी में उगेगा
इन्द्रधनुष
रंग - बिरंगी तितलियों का
चिड़िया ने भी
अपने से संवाद किया कि
अब आ गया है वक्त
घरोंदा बनाने का
इस विश्वास के साथ
उल्लासित हो
वो उड़ गयी
बसंत के बारे में
सोचेते हुये !


सच !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
सच की रंग बिरंगी चिड़ियां
मुझे बहुत भाती है
सच मुझे बहुत प्रेय.है
उसकी महक मुझे
फूल सी महकाती है
सच अपने आप में
एक इश्वर है
जो पत्थर की अहल्या को
मानवी बना देता है
सच का ओज अग्नि तत्व
स्वयं एक शक्ति है
श्रेय है
केवल समिधा नहीं
पूर्ण महायज्ञ है !


साथ निभाना !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
दिन ढलते ह़ी
ड्योढ़ी पर सांकल
खटखटाती रही हवा
घर पर सुस्ताते
थके मांदे लोगों से
जाने क्या क्या
बतियाती रही हवा
दूर खड़ा था कोलाहल
मनुहार करता सन्नाटे से कि
अब तुम करो पहरेदारी
मैं समेटे आवाज़ों को सोता हूँ
शहर -गाँव थके पसरे से
नींद की तारों वाली
बंधेज ओढा इन्हें
छवांता हूँ आँगन में
चाँद की कंदील टांग
तब तक जागना दोस्त
जब तक कि भोर की
पंखुडियां बरसा कर
फिरकनी सी चिड़ियाँ
चहक कर फिर से
मुझे न जगा दें
तब तक साथ निभाना दोस्त !


रिश्तों के पन्ने पलटते हुए !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
हस्ताक्षर न बन पाए हम तो
अंगूठे बन कर रह गये
सत्य ने इतनी चुराई आँखे कि
झूठें बन कर रह गये
बेबसी के इस आलम को क्या कहें
बांध नहीं सके जब किसी को
तो खुद खूंटे बन कर रह गये
रिश्तों के पन्ने पलटते हुए
दर्द कि तलवारों के हम
बस मूढे बन कर रह गये
सत्य ने चुराई इतनी आँखें
कि बस झूठें बन कर रह गये
कांच की दीवारें खींच कर
रिश्तों के पन्ने पलटते रहे
अपनों ने मारे जब पत्थर
तो किरचों के साथ
टूटे फूटे बनकर रह गये
लहुलुहान भावनाओं से
ज्वारभाटे उठने लगे
हम शांत समुंदर
बन कर रह गये
सत्य ने चुराई इतनी आँखें
बस झूठे बन कर रह गये !


नन्ही चिड़िया !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
वह नन्ही चिड़िया थी
धूप का स्पर्श ढूँढती
फुदक रही थी
अपने अंग प्रत्यंग समेटे
सर्दी में ठिठुर रही थी
रात भर अँधेरे में
सिकोड़ती रही अपने पंख
पर रही
प्रफुल्लित, निडर और तेजस्वी
जैसे ह़ी सूरज ने फेंकी
स्नेह की आंच
पंख झटक कर
किरणों से कर अठखेलियाँ
उड़ गयी फुर्र से
चह्चहाते हुए
नई दिशा की तलाश में !


तुम मौसम बुला लो


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
तुम मौसम बुला लो
में बादल ले आऊं
थोड़ी सी भीगी शाम में
फूलों से रंग चुराऊं
तुम देर तक गुँजाओ
सन्नाटे में नाम मेरा
मैं पहाड़ पर धुआं बन
साये सी लहराऊं
वक्त रुकता नहीं
किसी के लिये
यह सोच कर
मैं जीवन का काफिला बढ़ाऊं
तुम लहरों की तरह बनो बिगडो
मैं चिराग बन आंधी को आजमाऊं
तुम मौसम बुला लो
मैं बादल ले आऊं
तुम परात में भरो पानी
मैं चाँद ले आऊं!'
तुम मौसम बुला लो
मैं बादल ले आऊं !


नव स्पर्श से !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
मेरे सपनों के जंगल में
मैं लगातार देख रही थी
झुण्ड के झुण्ड झरे पत्ते
यूँ लग रहे थे
मानों हार गये हों युद्ध
अपनी चरमराती आवाज में
उड़ जाने को तैयार
पार्श्व में दिख रहा था`
अभिलाषाओं से भरा जीवन
और तभी नींद टूट गयी
अपने नव स्पर्श से
छू रही थी मुझे भोर
और फिर एकाएक
मेरे सपने पृथ्वी हो गये
चक्कर काटने लगे
अभिलाषाओं के उदित होते
सूर्य के चारों ओर !


गीत गोविन्द लिखे !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
बसंत के कोरे पृष्ठों पर
फागुन पीले गीत लिखे
मौसम में फूल खिला कर
बगिया के अनुकूल
हर पल नया संगीत लिखे
कूके कोयल डाली डाली
शब्दों को बांध कर सुर में
हरी भरी धरती पर
हतप्रभ मौसम को निहारती
चिड़ियां पंख फड़फड़ा कर
शस्य डाल पर
खुशबू की तरह
नववर्ष का नव सृजन का
मंगलदीप जला कर
गये साल की विदाई पर
अभिनन्दन शुभागमन का
फिर फागुनी गीत गोविन्द लिखे !


बसंत - बसंत !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
मैं बसंत हूँ
बसंत- जो तितली की तरह
उडता है
आम अमरूदों के
दरख्तों पर
फागुनी दोपहर में
एक चित्र बनाता है
धूप की कलम से
गुनगुन संगीत का
सृजन करता है
सुबह की पहली किरण सा
जाग कर चहचहाता है
पक्षियों सा
कभी फूलचुही सा
मंडराता है फिजां में
महकता है गुलाब सा
और फिर कभी सूरज सा
चढ़ते हुए आसमान पर
बिखर जाता है
धूप के टुकड़े सा
फैला कर फूलों पर
इन्द्रधनुषी रंग
दस्तक देकर
फागुनी मौसम की
दूर कहीं कोयल भी
गा उठती है
मधुर स्वर में
बसंत... बसंत...!


स्वागत सर्दी का !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
गुनगुनी धूप में
धुआँ धुआँ सी
घूम रही है
मुखरित सी पुरवाई
नववर्ष के द्वारे देखो
मनभावन सी
सर्दी आई
अलाव की लहरों पर
पिघलती कोहरे की परछाई
तितली तितली मौसम पर
गीत सुनाती
शरद ऋतु की शहनाई
नववर्ष के द्वारे देखो
मनभावन सी सर्दी आई
प्रकृति की नीरवता में
आसमान है जमा जमा सा
पुष्पित वृक्षों पर सोया है
सुबह का कोहरा घना घना सा
उनींदे सूर्य से गिरती ओस की
बूंदों से लिपटा
सुरमई सा थमा थमा सा
जाग उठा मुक्त भाव से
मौसम ने कसमसा कर
अमराई में ली अंगडाई
नववर्ष के द्वारे देखो
मनभावन सी सर्दी आई !


मन की किताब में !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
कुछ मौसम मैंने संभाल रखें हैं
मन की बगिया में उतार रखें हैं
जो रंगीन तितलियों से उड़ते हैं
टिटियाती चिड़ियों के सुरों में
मधुर गीत भी बुन के रखें हैं
जो दिन भर मंजीरों से बजते हैं
रंगीन रिश्तो के आइनों के भी
रंग किर्चों से निकाल रखें हैं
बिखरे पंख यादों के पाखी के
मन - किताबों में संभाल रखें हैं !


नदी हूँ मैं मिठास भरी !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
मैं भी हूँ एक नाव सी
तेज हवा में चलती हूँ
शाम का सूरज हूँ मैं
सागर में जा ढलती हूँ
सावन की भीगी रात में
चंचल पुरवा सी बहती मैं
तरुओं से बातें करती हूँ
जीवन की बरसती बरखा में
सीली सीली सी रहती हूँ
दीवार पे टंगा कैलेंडर हूँ मैं
तारीख सी रोज बदलती हूँ
आसमा को मुट्ठी में बाँध सकूँ
तो पैरों को ऊँचा करती हूँ
दूर मंजिल तक जाना हो तो
विश्वास के डग मै भरती हूँ
आँधियों में भी मैं हरदम
एक लौ बन करके जलती हूँ
नदी हूँ मै मिठास से भरी
खारे सागर जा घुलती हूँ!


एक बुजुर्ग !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
अकेलेपन के सूरज को
रुक कर देखता
एक बुजुर्ग
क्षण और घंटे गुजरते जाते हैं
समय की आराम कुर्सी पर
किताबों को पलटते हुए
रुक कर देखता है
एक बुजुर्ग
उस दरवाजे की ओर
जहाँ से शायद आये
उसका बेटा या बहू ,
बेटी या पोता और
हाथ में हो चश्मा
जिसकी डंडी
बदलवाने के लिए
पिछले महीने वो
जब आये थे तो
यह कह कर ले गए थे कि
कल पहुंचा देंगे
हर आहट पर
चौंकता है एक बुजुर्ग
दरवाजा तो दीखता है पर
बिना चश्मे किताब के अक्षर
देख नहीं पाता
हाँ "ओल्ड होम" की निर्धारित
समय सारिणी के बीच
समय निकाल कर
पास बैठे दूसरे बुजुर्ग का
हाथ पकड कर
उस इंतज़ार का
हिस्सा जरुर बनता है!


उनकी मुस्कान !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
और अब वे अपने
अंतिम चरण में थी
,बुजुर्ग जो थीं
उन्हें मालूम था कि
यह नियति है और
वे इंतज़ार में थी
अब देर तक बगीचे में
काम करती हैं
स्कूल से लौटे
पोते पोतियाँ के जूतों से
मिटटी हटा कर खुश होती हैं
उनके धन्यवाद को पूरे दिन
साथ लिए, मुड़े शरीर के साथ
लंगडाते हुए, इधर- उधर घूमती हैं
याद करती हैं ,तालियों की
उन गूंजों को
जो समारोह में उनकी
कविताओं के बाद
देर तक बजती थीं
अपने हमउम्र दोस्तों के साथ
सत्संग में बैठ कर
भजन सुनते हुए सोचती थीं
उन दिनों को
जब घडी की सुइयां
तेज दौडती थीं और
वे उसे रोक लेना चाहती थीं
अब वे अपने कमरे की
खिड़की से दिखते
समुन्द्र को देर तक
निहारते सोचतीं थीं कि
वक्त कहाँ बाढ़ की तरह
बह गया और
यह सूरज भी
कितना कर्मठ है
रोज थक कर
डूबता है और
तरोताजा होकर
उगता है
यह सोचते ही
उनके पूरे शरीर में
सूरज की प्रथम
किरणों की तरह
जीने की उमंग
कसमसाने लगती है और
पूरे दिन एक
मुस्कान की तरह
उनके होंठों पर
तैरती रहतीं है !


जीना इसी का नाम है !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
वो इतने बूढ़े थे कि
उनकी हड्डियाँ
उनकी त्वचा में
तैरती थीं
मैं उनमे अपने आपको
डूबता सा महसूस करती थी
वो इतने कमजोर थे
जितने नवजात शिशु के पैर
पर उनकी मुस्कान
इतनी गहरी थी कि
उसमे मैं नदी की सी
कलकल सुनती थी
जो उनके होठों के चारों तरफ
सांसों से गुजरती थी और
वो इतने तैयार थे कि
मुझे समुन्द्र से भी गहरे
गंभीर और अथाह दिखते थे,
सच- मुझे लगता था कि
जीना इसी का नाम है !


चिड़िया सा मन !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
सुरमई मौसम
भीगी हवाएं
चिड़िया सा मन
उड़ उड़ जाये
नदी की कलकल
गीत बुने तो
सागर सा मन
झर झर जाये
प्रीत रिश्ते
लगाव के क्षण
तेरी याद तो
हर पल आये
रेत आँचल में
सांझ भीगी सी
डूबते सूरज से
घुल मिल जाए


सपने सजाना है !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
जीवन नदी
मन मंदिर
बजते हैं जिसमे
घंटे यादों के
एक चहकती
श्याम गौरैया से
फूल पे महकती
हवा जुगनू से
मन रोशन हैं
मुरादों के
लेकिन कुछ पाना है
सब भूल जाना है
मासूम नींद में
सपने सजाना है
कुछ बन दिखाना है
साथ वादों के
शीशे से जीवन को
पत्थर करना है
समय हाशियों पे
संग इरादों के


श्रम का अभिमन्यु !


dr_saraswati_mathur_jaipur_kavitayen_shabdankan डॉ सरस्वती माथुर जयपुर कवितायेँ शब्दांकन
घर उदास
रिश्ते मलंग
देर तक लड़ी
समय की जंग
चक्रव्यूह धन
श्रम का अभिमन्यु
राह ढूंढता
बाहर आने की
मिल गयी सुरंग
अनुभव की किताब
पढने से पहले
पढना होगा
प्राक्कथन
मन हुआ दबंग
जीवन में
जो भी पाया
मन में भरा रंग

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…