advt

रवीन्द्र कालिया — जिंदादिल और दिलदार — मृदुला गर्ग

फ़र॰ 29, 2016

रवींद्र कालिया को मैं भरे-पूरे इन्सान की तरह याद करना चाहती हूं, जो एक लेखक भी थे — मृदुला गर्ग

Lively and generous Ravindra Kalia

— Mridula Garg

"सांप कब सोते हैं?" कालिया बेहद संजीदगी से कहते , ''मृदुला गर्ग से पूछो!"

किसी मुद्दे पर हमारी बातचीत होती तो  हम उलझ जाते और आखिर टकराव साझा मजाक में गुम हो जाता

रवींद्र कालिया को मैं भरे-पूरे इन्सान की तरह याद करना चाहती हूं, जो एक लेखक भी थे। उतने ही जिंदादिल लेखक, जितने इन्सान। मुझे उनकी कहानियां और उपन्यास बेहद दिलचस्प लगते रहे हैं; सिर्फ मनोरंजन नहीं, दिमागी खुराक देने के लिए भी। दिल को छूने वाला पहलू उनकी बेबाकी और विट था। हिंदी में यह मनोहरश्याम जोशी और राजेंद्र यादव जैसे कुछ लोगों में ही नजर आया है। वे लेखन में ही नहीं, आपसी बातचीत में इसका इस्तेमाल करते थे। कालिया उन्हीं में से एक थे। वे अपनी राय देते हुए डरते नहीं थे कि लोग उनकी बात को कैसे ग्रहण करेंगे।


मेरा उनसे ताल्लुक नोंकझोंक का रहा है। किसी मुद्दे पर हमारी बातचीत होती तो  हम उलझ जाते और आखिर टकराव साझा मजाक में गुम हो जाता। उनसे मेरी पहली मुलाकात सूरीनाम में हुई थी। वहां हम विश्व हिंदी सम्मेलन में गए थे। मैं और एक फ्रांसीसी लेखिका एनी मोंटो ने रेन फॉरेस्ट  घूमने की योजना बनाई। सुबह उठकर हमने गेस्ट हाउस से जंगल के भीतर जाने की जल्दबाजी दिखाई तो गाइड ने कहा जब सांप सो जाएगा तब जाएंगे। साँप कब सोता है मैंने बेकरारी से पूछा तो उसने कहा सुबह आठ बजे। जंगल से लौटकर मैंने यह किस्सा कालिया को सुनाया। सूरीनाम से वापसी के लिए हम हवाई अड्डे पर बैठे थे तो जो व्यक्ति अंदर आता, कालिया बेहद संजीदगी से पूछते, ''सांप कब सोते हैं?" वह हक्का-बक्का उन्हें ताकता तो वे कहते, ''मृदुला गर्ग से पूछो!" वह और हकबका जाता। कालिया संजीदा बने रहते। यह मज़ाक घण्टों चला।

कोलकाता में जब वे वागर्थ के संपादक थे तो कथाकुंभ का आयोजन हुआ। पुरानी से लेकर नई पीढ़ी के लेखक-लेखिका शामिल हुए। कालिया नए लेखकों को बहुत प्रोत्साहित करते थे। वे नवलेखन अंक बराबर निकालते और नवलेखन पुरस्कार भी उन्होंने ही शुरू किया था। कथाकुंभ के दौरान किसी ने मुझसे कहा कि नए लोगों को कालिया इतना उछाल रहे हैं, वह उन लोगों के भविष्य के लिए अच्छा नहीं है। मैंने बात कालिया से दोहराई, तो तपाक से बोले, ''आपसे किसने कहा कि मुझे उनके भविष्य की चिंता है।" यह तो मजे-मजे की बात है। उनकी बेबाकी का आलम यह था कि उन्होंने मुझसे कहा था कि अब हमारा जमाना नहीं रहा। हमारी कहानियां पढना लोग पसंद नहीं करते, उन्हें नए लोगों की नई कहानियां चाहिए और इसमें बुरा मानने की कोई बात नहीं है। वैसे यह सही नहीं था क्योंकि उनके हाल के लेखन जैसे गालिब छुटी शराब और 17 रानडे रोड को लोगों ने बहुत पसंद किया। लोग उन्हें पढऩा चाहते थे और वही लेखक बड़ा होता है जिसे लोग दिल से पढऩा चाहते हैं।

वे बहुत अच्छे संपादक थे। संपादन करते हुए अपने लेखक को उस पर हावी नहीं होने देते। नए लोगों की रचनाएं पढ़ते और सबको छूट देते थे कि लोग उनकी तरह नहीं, अपनी तरह लिखें, भविष्य की फिक्र किए बगैर। जो सूझ रहा है लिखें और भरपूर जिएं। मेरा उपन्यास मिलजुल मन धारावाहिक तौर पर अहा जिंदगी! में छपा तो कालिया कहने लगे कि आपने उसे उन्हें क्यों दे दिया मैं तो नहीं देता। मैंने कहा, ''आपको तो पगार मिलती है, मैंने अहा जिंदगी! को दिया क्योंकि वह अच्छे पैसे देती है।मेरे जीवन यापन का यही साधन है।" उन्होंने कहा, ''मैं विश्वास नहीं करता।" तब मैंने कहा, ''आप विश्वास करें न करें मुझे कतई फर्क नहीं पड़ता। आपके विश्वास पर मेरी कोई आस्था नहीं है।" और कोई होता तो यह बात गांठ बन जाती पर एक माह भी नहीं गुजरा कि नया ज्ञानोदय के बेवफाई विशेषांक में मेरे उपन्यास उसके हिस्से की धूप लेने के लिए उनका फोन आया। मेरे हाँ कहने पर चुपके से जोडा, “हम पैसे भी देते हैं।“  हम दोनों खूब हंसे। उन्होंने एक शरारत की। पत्रिका में उपन्यास के पहले संस्करण की तारीख (1975) नहीं दी और मेरा चित्र भी गुजरे जमाने का लगाया। उसके बाद तो मुझे नौजवानों के ढेर सारे फोन आने लगे, जो रूमानी बातें करते, यह समझते हुए कि मैं उन्हीं की उम्र की हूं। जब मैं बतलाती कि उपन्यास 1975 में छपा था तो फोन काट देते। एक बार दोबारा पांच मिनट बाद फोन आया तो उधर से आवाज आई, ''दरअसल मैं प्रणाम करना भूल गया था।" यह बात मैंने कालियाजी को बताई तो वे खूब हंसे।

वे बीमार पड़े तो कोई एक पल के लिए भी नहीं कह सकता था कि वे बीमार हैं। डॉक्टर ने जब उनसे कहा कि आपके पास बस तीन माह का वक्त बचा है, तो कालिया ने पूछा, ''उसमें आज का दिन भी गिना जाएगा?" इससे आप अंदाज लगा सकते हैं कि वे कितने जिंदादिल और साहसी थे। यह उस साहस का उत्कर्ष था। वे ऐसे इंसान थे जिसकी बीमारी आप बिल्कुल याद नहीं करते, जिंदादिली और अदब ही याद करते हैं।

००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…