जितेन्द्र श्रीवास्तव, प्रेम भारद्वाज और वाज़दा खान को रश्मिरथी पुरस्कार Rashmirathi Puraskar 2016 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan

special

osr 1625

जितेन्द्र श्रीवास्तव, प्रेम भारद्वाज और वाज़दा खान को रश्मिरथी पुरस्कार Rashmirathi Puraskar 2016

Share This

जितेन्द्र श्रीवास्तव, प्रेम भारद्वाज और वाज़दा खान को रश्मिरथी पुरस्कार

Jitendra Srivastava, Prem Bhardwaj and Vazda Khan to get Rashmirathi Puraskar

Rashtrakavi Ramdhari Singh 'Dinkar' Smriti Nyas 


राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ स्मृति न्यास विगत तीन दशकों से सम्पूर्ण देश में साहित्यिक व सांस्कृतिक गतिविधियों में रचनात्मक रूप से सक्रिय रहा है। इन गतिविधियों में देश के विभिन्न कोनों में पुस्तक मेलों व शिक्षा-संस्कृति महोत्सवों का आयोजन, पुस्तक मित्र पंचायत व पुस्तकालय अभियान, उर्वशी महोत्सव, रश्मिरथी महोत्सव, साहित्यकारों की काव्य-कृतियों का मंच से गायन, बाल रचनाशीलता को प्रोत्साहन, दिनकरजी और अन्य रचनाकारों की कृतियों पर आधारित चित्र-प्रदर्शनी आदि शामिल रहे हैं। देश में रचनाशीलता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से न्यास के अध्यक्ष नीरज कुमार ने वर्ष 2016 से प्रतिवर्ष तीन लोगों को रश्मिरथी पुरस्कार प्रदान करने की योजना शुरू की है।

निर्णायक मण्डल के सदस्यों सुभाष चन्द्र राय (प्रोफेसर, विश्वभारती, शान्तिनिकेतन), मुजीब खान (प्रख्यात रंगकर्मी) और प्रांजल धर (युवा कवि और मीडिया विश्लेषक) ने दिनांक 30 जून 2016 को सम्पन्न न्यास की करनाल बैठक में वर्ष 2016 के लिए सर्वसम्मति से रश्मिरथी पुरस्कार की घोषणा की है।

समस्त भाषाओं के लिए यह पुरस्कार कवि-आलोचक जितेन्द्र श्रीवास्तव को, 
हिन्दी के लिए ‘पाखी’ पत्रिका के सम्पादक व कहानीकार प्रेम भारद्वाज को और 
सम्पूर्ण कलाओं के लिए चित्रकार वाज़दा खान को प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। 

वर्ष 2016 के सितम्बर माह में दिनकर की जयन्ती के शुभ अवसर पर इन तीनों पुरस्कृत रचनाकारों में से प्रत्येक को राष्ट्रकवि रामधारी सिंह ‘दिनकर’ स्मृति न्यास द्वारा इक्यावन हज़ार रुपये की राशि, प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिह्न प्रदान किये जाएँगे।
००००००००००००००००

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लोकप्रिय पोस्ट

Pages