advt

स्तनपान की सार्वजनिकता — मालविका जोशी

मार्च 3, 2018

'विषय संवेदनशील है और संजीदगी से सोचने की मांग करता है' — मालविका जोशी


Malvika Joshi

जिस समय अख़बारों में बलात्कारों की ख़बर बढ़ती जा रही है, विभत्सता बढ़ती जा रही है, और बलात्कार पीड़ित की उम्र के ओर-छोर समाज के भयानक होते रूप का विस्तार दिखा रहे हैं, उसी समय मलयालम पत्रिका के कवर पर छपी स्तनपान कराती माँ की तस्वीर चर्चा में आती है। स्तनपान की सार्वजनिकता पर इस बहाने शुरू हुई बहस हिन्दुस्तानी समाज के वर्तमान मानसिक-स्तर के लिए लाभदायक हो सकती है। रंगमंच, बैले, और संभाषण कला जैसे विषयों में दक्ष मालविका जोशी, शिक्षा, संस्कृति और सामाजिक विषयों पर सोचने वाली महिला हैं, उनके विचार आप शब्दांकन पाठकों के लिए...क्योंकि बहस के लिए विभिन्न पक्षों को समझना ज़रूरी है।

भरत तिवारी

Cover page of Malayalam magazine Grihalakshmi
Cover page of Malayalam magazine Grihalakshmi (Photo: Twitter)


स्तनपान की सार्वजनिकता — मालविका जोशी

जैसा समाचारों में पढ़ा उससे लगा कि इस चित्र के जरिये लेखिका स्तनपान कराने के हक़ को मांग रही है…इस अनुरोध के साथ कि हमें घूरें नहीं। "गृहलक्ष्मी" के इस अंक को लेकर पक्ष और विपक्ष दोनों तरह के विचार सामने आए है। खबर तो ये है कि इस पत्रिका पर एफआईआर भी दर्ज हो गया है। जाहिर है कि जैसे हालात इन दिनों है उसमें ऐसा कदम खलबली मचाने के लिए उठाया गया भी हो सकता है। लेकिन विषय संवेदनशील है और संजीदगी से सोचने की मांग करता है। स्तनपान करती माता को घूरने वाले दो-चार लोगों को सीख देने के लिए ऐसे विषय को उठाने का विचार अच्छा हो सकता है लेकिन उसका प्रस्तुति करण कई प्रश्न खड़े करता है।

FIR lodged on Malvyalam Magazine


उस लेख की लेखिका गिलु जोसफ है और चित्र भी उनका ही है ऐसा बताया गया है। चित्र में जो माता स्तनपान करती दिखाई गई है उनकी मांग में सिंदूर है। यानी एक हिन्दू माता के माध्यम से वे अपनी बात कहना चाह रही हैं। प्रश्न है कि क्या कोई मुस्लिम या ईसाई माता भी दिखाई जा सकती थी। विशेषकर केरल में जहाँ इन तीनों धर्मावलंबियों की संख्या अच्छी खासी है। दूसरा प्रश्न ये भी कि क्या वो बच्चा उन्हीं का है या उसे भी मॉडल की तरह ही प्रयोग में लाया गया है। तीसरा प्रश्न ये कि माँ अपने बच्चे को दूध पिलाये ये अधिकार प्रकृति प्रदत्त है उसे इस तरीके से प्रदर्शित करने की जरूरत क्यों आ पड़ी। प्रश्न और भी बहुत है जिन पर सोचने के लिए भारतीय संस्कृति को समझना जरूरी है।

मेरे दो बेटे है और उनके शैशव काल में मैंने बस से, ट्रेन से, वो भी कभी जनरल, और कभी स्लीपर क्लास में बहुत सफर किया है। कई बार अकेले भी सफर किया है। मुझे कभी सफर में स्तनपान कराते हुए संकोच नहीं हुआ। बल्कि कई बार तो सहयात्रियों की सदाशयता के कारण अपने आपको और सहज महसूस किया। ऐसे भी अवसर आये जब सार्वजनिक स्थान पर लोगों को ऐसी माताओं के लिए विशेष व्यवस्था करते देखा। भारत में माता जब अपने शिशु को स्तनपान कराती है तो उसे अपने आंचल, पल्लू या दुपट्टे से ढंक लेती है। इसमें भी भाव श्लील अश्लील का नहीं होता बल्कि ये होता है कि दूध पीते बच्चे को दूसरों की नज़र न लग जाये। लेकिन ये भाव समझने के लिए भी आपको भारतीय संस्कृति के मर्म को समझना जरूरी है।


एक और बात ये कि माता जब अपने शिशु को दूध पिला रही होती है तो ये उसके जीवन का सबसे आनंददायी और गर्व का क्षण होता है। उस समय उसके चेहरे का तेज और संतोष देखकर उसके बारे में ममता के अलावा और कोई भाव नहीं उमड़ता। राजकपूर जैसे निर्देशक को भी आलोचना का सामना करना पड़ा था जब उन्होंने मंदाकिनी को फ़िल्म "राम तेरी गंगा मैली" में इस रूप में लेकिन गलत भाव से प्रस्तुत किया था।

स्तनपान कराती माता की एक मूर्ति बहुत प्रसिद्ध है और उसे देख कर प्रेम और श्रद्धा ही उपजती है। प्रश्न है कि आप क्या दिखाना चाहते हैं, क्यों दिखाना चाहते हैं, और किस मक़सद से दिखाना चाहते है।

(ये लेखक के अपने विचार हैं।)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (05-03-2018) को ) "बैंगन होते खास" (चर्चा अंक-2900) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    राधा तिवारी

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…