advt

बीजेपी 34% — कांग्रेस 49% — एमपी चुनाव, जानिए जनता का मूड — ब्रजेश राजपूत @brajeshabpnews

मई 27, 2018


जनता का मूड नापें तो करीब 15% की बढ़ोतरी कांग्रेस के पक्ष में

बनता बिगड़ता है जनता का मूड, मूड से बच कर रहियो.... 

तब एबीपी के चुनाव-पूर्व सर्वे में 160 सीट बीजेपी को मिलने का ऐलान किया था, तो सीएम शिवराज सिंह और बीजेपी के लोग भी भरोसा नहीं करते थे। कहते थे आप बहुत ज्यादा सीटें दिखा रहे हैं। 

:: सुबह सवेरे में ब्रजेश राजपूत: ग्राउंड रिपोर्ट

दृश्य एक : भोपाल में वल्लभ भवन की पाँचवीं मंजिल, मुख्यमंत्री दफतर का चैंबर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह कैबिनेट की बैठक खत्म होने के बाद अपने मंत्रियों के साथ अनौपचारिक चर्चा करने के लिये बैठे हैं। खुशनुमा माहौल में चल रही चर्चा में सीएम मंत्रियों से कहते हैं कि इतने सालों में आप हम सब अब परिवार के लोग हो गये हो और हमारा ये परिवार इसी तरह चले इसके लिये आपको जरूरी है कि आप सब दोबारा जीत कर आयें। अब आप सब जमकर मेहनत करिये। गांवों में जाइये जनता से बात करिये और हो सके तो गांवों में रात रुकिये क्योंकि जनता का मूड इन दिनों ठीक नहीं है। 


दृश्य दो : भोपाल में कांग्रेस दफतर इंदिरा भवन के राजीव गांधी सभागार में कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की पत्रकार वार्ता हो रही है। सवाल पूछा जाता है कि आपको आये अब काफी दिन हो गये कांग्रेस कब सड़कों पर उतर कर शिवराज सरकार को घेरेगी, क्योंकि कांग्रेस का विधानसभा घेराव दो तीन बार तारीख बढ़ाने के बाद स्थगित ही हो गया है। इस पर कमलनाथ कहते हैं, सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस सब कुछ करेगी, मगर ये तो सोचिये मुझे पद संभाले आज इक्कीस दिन ही हुए हैं।“ इस पर एक चपल पत्रकार ने फिर कमलनाथ को घेरा, “अरे आप तो एक—एक दिन गिन रहे हैं...”  मुस्कुराकर कमलनाथ ने कहा, “दिन नहीं घंटे। मेरे पास वक्त बहुत कम है।“



चुनाव के लिये वक्त बहुत कम है
सच है पार्टियों के लिहाज से विधानसभा चुनाव के लिये वक्त बहुत कम है। ठीक पांच महीने बाद छटवें महीने में चुनाव हो जाने हैं। और इस साल के आखिरी महीने के शुरुआती हफ्ते में कौन सी पार्टी सत्ता में रहेगी ये तय हो जायेगा। और ये सब कुछ तय करता है जनता के मूड पर कि जनता सरकार के कामकाज को लेकर क्या सोचती है।

देश का मूड
जनता का मूड जानने के लिये जब एबीपी न्यूज ने पिछले दिनों सबसे विश्वसनीय सीएसडीएस(CSDS) के साथ मिलकर ‘देश का मूड’ नाम से जनमत सर्वेक्षण किया तो परिणाम चौंकाने वाले रहे। मध्य प्रदेश में किये गये सर्वे में सामने आया —
बीजेपी के पक्ष में 34% तो कांग्रेस के पक्ष में 49% लोग खड़े दिखे। 
पिछले चुनाव यानी 2013 में पार्टियों के पास ये परसेंटेज एकदम उलटा था: तब बीजेपी के पास 45% तो कांग्रेस के पास 36% वोट था। यानी जनता का मूड नापें तो करीब 15% की बढ़ोतरी कांग्रेस के पक्ष में दिखी। 

सरकार के नेताओं और अफसरों का मूड बिगाड़ दिया
निश्चित ही जनता के इस मूड ने सत्ताधारी सरकार के नेताओं और अफसरों का मूड बिगाड़ दिया। आमतौर पर सर्वे में 3% से 5% की ऊंच-नीच की गुंजाइश रहती है...मगर फिर भी 10% का अंतर यदि कांग्रेस के पक्ष में है तो है न हैरानी की बात।

बेहद मेहनती मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की अगुआई में पिछले 13 साल से चलने वाली सरकार का जनता में ये प्रदर्शन निराश करने वाला है। हालाँकि इसे चुनाव प्रतिशत का अंतर मानें तो प्रदेश के पहले विधानसभा चुनाव जो 1957 में हुये थे — तब जनसंघ को दस और कांग्रेस को पचास फीसदी वोट मिले थे — मगर उसके बाद से ये अंतर लगातार घटता रहा ओर 1993 और 1998 के चुनावों में ये अंतर घटकर क्रमशः 1.5%  और 1.3%  तक आ गया था। दोनों बार कांग्रेस के दिग्विजय सिंह बेहद कम अंतर से चुनाव जीतकर सीएम बने थे। मगर 2003 में उमा भारती के आते ही ये अंतर 1% से उछलकर 11% तक जा पहुंचा...  और शिवराज सिंह की अगुआई में लड़े चुनाव 2008 में 5 फीसदी और 2013 में 8 फीसदी तक जा पहुंचा।


वैसे 15% के इस अंतर पर सभी ने असहमति जतायी...  मगर यदि पिछले विधानसभा चुनाव के पांच साल पहले के इन्हीं दिनों को देखे तो समझ आता है कि 2013 के मई-जून महीने में भी तकरीबन ऐसा ही माहौल और सरकार के प्रति नाराजगी बढ़ गयी थी। भीषण गर्मी से जलाशय और नदियां सूख गयीं थी। किसानों में बेहद हताशा और जल-संकट गहराया हुआ था। लोग सरकार के खिलाफ खुलकर बोलते थे, मगर अगस्त में हुयी अच्छी बारिश और शिवराज सिंह के रात-दिन के दौरों ने माहौल बदला...  रही सही कसर 2014 में चलने वाली मोदी मोदी की सुनामी के पहले आयी आंधियों ने पूरी कर दी। 165 सीटों के साथ बीजेपी ने शानदार वापसी की।

तब एबीपी के चुनाव-पूर्व सर्वे में 160 सीट बीजेपी को मिलने का ऐलान किया था, तो सीएम शिवराज सिंह और बीजेपी के लोग भी भरोसा नहीं करते थे। कहते थे आप बहुत ज्यादा सीटें दिखा रहे हैं। कांग्रेसी नेता तो ऐसे सर्वे को कचरे की टोकरी में डालने को कहते थे मगर सीटें आयीं 165 !

इसलिये सर्वे और जनता के मूड को नकारने के पहले थोड़ा सोचिये जरूर... ... 

जाते जाते हमें मशहूर खेल कमेंटेटर जसदेव सिंह याद आ गये, उनकी भाषा में बोले तो: भई हमारी भारतीय हॉकी टीम को बड़ी पुरानी बीमारी है कि पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदल नहीं पाती।

एमपी के राजनीतिक कमेंटरी करने वाले पत्रकार दीपक तिवारी भी यही कहते हैं, “एमपी में कांग्रेस को भी बड़ी पुरानी बीमारी है कि — वो जनता के मूड को वोट में बदल नहीं पाती।"

आप इससे सहमत हैं ?

ब्रजेश राजपूत,
एबीपी न्यूज
भोपाल


(ये लेखक के अपने विचार हैं।)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…