advt

हिंदी की लंबी कविता — 'इंसान भी कपड़ों सरीखा है / समझे क्या? ' — राजिन्दर अरोड़ा

फ़र॰ 29, 2020

हिंदी की लंबी कविता

'इंसान भी कपड़ों सरीखा है / समझे क्या? '

— राजिन्दर अरोड़ा




इंसान भी कपड़ों सरीखा है
समझे क्या? 


हम कपड़ों जैसे ही हैं
हम में से कुछ सिले हैं, कुछ उधड़े
कुछ बुने, कुछ कोरे चादर से,
कुछ कफन जैसे शांत
कुछ मशीनी, कुछ हथकरघा
कुछ पहनावा हैं तो कुछ दिखावा।
सबकी औकात तागे की ही है, पर अकड़
कलफ़ चढ़े सूत की।


कुछ रंगरेज़ की कड़ाही से निकल
रंगीन मिज़ाज़ हो जाते हैं,
कुछ सवांर दिए जाते हैं 
दर्ज़ी की मशीन से।
कुछ मिलों में छपे रंगदार धारियों से,
कुछ सुईओं से गुदे और कढ़े फूलदार।


इंसान भी
पहने और ओढ़े जाते हैं
खिड़कियों पे लटकाए जाते हैं
गठरी या पुलंदे से बांधे जाते हैं
काट-फाड़  मरोड़ दिए जाते हैं
चीथड़े से फेंक दिए जाते हैं।
कुछ किस्मत वाले तिरंगा बन
मम्टी पर लटकाए जाते हैं ।


इंसान भी
कपड़ों जैसे फट कर
तार तार हो जाते हैं, और फिर
कभी जोड़े नहीं जा सकते
ऐसे इंसान पैबंद से परहेज करते हैं
रफूगर से कतराते हैं
दरजी के दुश्मन होते हैं।


कपड़ों सरीखे इंसान भी
मैले, बिखरे से पड़े रहते हैं
कुछ धोबन के इश्क़ में धुले जाते हैं,
सूख कर सिकुड़ जाते हैं
पर इस्त्री के पास नहीं जाते।


इंसान भी कपड़ों सरीखे
सख्त, लचीले या लहेरिया होते हैं
कुछ में लचक होती है तो कुछ में
खिंचाव और तनाव 
कुछ मलमल से महीन
कुछ रेशम या मखमल से चिकने
कुछ कोरे, महीन, कच्चे सूत से     
तो कुछ मोटे, खुरदरे, दानेदार और बेअदब
कुछ जालीदार,अश्लील, पारदर्शी
होते है तो कुछ बन जाते हैं
शामियाने, कुछ कतरने, कुछ झालर।
   

हम भी कपड़ों सरीखा ही हैं
हम मैं से कुछ में सिलवटें होंती हैं
कुछ धुंधले और फीके, बेरंग रहते है
कुछ पर लग जाते हैं ज़िन्दगी के धब्बे 
गम की सियाही के, दर्द के लहू के 
कुछ चिरे, छिदे, कटे रहते हैं, जिन्हे आखिर में
बर्तन वाली भी नहीं ले जाती।


इंसान भी कपड़ों सरीखे हैं
कुछ किस्मत वाले पहुँच जाते हैं
डिज़ाइनर सलून में
कुछ सेठ की बेटी पे रेशमी दुप्पटे से
कुछ राजू वेटर के हाथ में झाड़न से
कुछ मज़दूर की घिसी धोती से
कुछ ज़ख़्मी शरीर पे पट्टियों से
और कुछ पैदाइशी बदकिस्मत
गूदे में घुल कागज़ बन जाते हैं ।


इंसान भी कपड़ों सरीखा हैं
कुछ दिल के पास रहते है
बंडी या बनियान से
कुछ सर पे चढ़े रहते हैं
पगड़ी या साफ़े से
कुछ लिपट रहते हैं
साड़ी या शाल से
कुछ गले में फंदे सा
गुलबंद या मफलर बन जाते हैं।


राजिंदर अरोड़ा
संपर्क:
'इश्तिहार',
511, सूर्य किरण भवन, 19 कस्तूरबा गांधी मार्ग,
नई दिल्ली 110 001
ईमेल: ishtihaar@gmail.com
मोबाईल: 9810018857

००००००००००००००००




टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…