मनोज कचंगल की कला : कुमार अनुपम

विदग्ध रंगमय आकाश में एक सलेटी चन्द्रमा


मनोज कचंगल की कला में उपस्थित जिस तत्त्व ने मुझे शुरू से आकर्षित किया, वह है - विनम्र सादगी। मनोज के चित्रों में रंगों की आत्मीय आभा भावक की दृष्टि को अपने 'सहज' सौन्दर्य से आकर्षित करती रही है। यह 'सहज' उतना सरल नहीं है। यह कबीर का 'सहज' है, जो निर्भय है और जटिल भी। मनोज कचंगल के चित्रों को प्राथमिक रूप से सुन्दर कहने का मन इसलिए ही नहीं होता कि यहाँ निर्दोष रंगों का व्यवहार है, बल्कि इसलिए कि इनका भाष्य मनुष्य के समकाल के अनेक अन्तर्द्वन्दों और विद्रोह की ऊर्जा से समृद्ध है। मनोज कचंगल तटस्थ और उदासीन रचनाकार नहीं हैं, यह उनके चित्रों के साथ तनिक देर बिताने वाला कोई भी दर्शक महसूस कर सकता है।

       किसी भी रचनाकार का जीवन-दर्शन उसकी रचना में उपस्थित होता है। मनोज कचंगल के चित्रों में भी उसे पहचाना और प्राप्त किया जा सकता है। अपने समय और सरोकारों के द्वन्द्वों और संघर्षों को कोई रचनाकार किस सलीके से व्यक्त करता है कि रचना की त्वचा पर कोई खरोंच तक न दिखे, यही कला-कौशल है। मनोज इसमें निपुण हैं। मनोज की कृतियों में एक भीषण पीड़ा और मनुष्यता की पुकार अनुराग की तरह व्यक्त होती रही है। ऐन्द्रिक आकर्षण और मानवीय मूल्यों का सन्तुलन मनोज कचंगल की कृतियों में प्रकृति के बहुवर्णी व्यवहार में घटित होता है। इसीलिए मनोज के भीतर का मनुष्य मूलतः नैसर्गिक परिवर्तन को महत्त्व प्रदान करता है। इस कथन का यह आशय कतई नहीं है कि रचनाकार इस आवश्यक परिवर्तन को अपनी निजी जैविक ज़िम्मेदारी नहीं मानता। मनोज कचंगल की कृतियों में हिंसा, उन्माद, अराजकता का स्पष्ट बहिष्कार मानवीय नैतिकता की पक्षधरता का प्रमाण है। रचनात्मकता की शक्ति में यह भरोसा ही है कि मनोज कचंगल सभी प्रश्नों, चिन्ताओं और समस्याओं का हल रचना के भीतर ही प्राप्त करना चाहते हैं।

       मनोज कचंगल सौन्दर्यवादी चित्रकार नहीं हैं, जैसा कुछ समीक्षक मानते रहे हैं। अतः दोबारा अर्ज़ कर रहा हूँ कि ऐसा मानना एक सतर्क और समर्थ रचनाकार की प्रतिभा और उसके प्रसार के साथ छल ही है।

       वैश्विक देशकाल और उसके भीतर तथा साथ ही भारतीय देशकाल में व्याप्त षड्यंत्रकारी शक्तियों की निरंकुश अराजकता किसी से भी छुपी नहीं है। मनुष्य की उदार सह्जातीयता, स्मृति, संवेदनशीलता तथा स्वप्नों के नष्टप्राय होते जाने का संकट इसी अराजकता का परिणाम है। यह स्थिति असहनीय होती गई है। मनोज के इन चित्रों में अपने पूर्व प्रदर्शित चित्रों की तुलना में अधिक स्पष्ट आक्रोश देखकर ख़ुशी हुई है। लाल और काले रंगों का ही व्यवहार नहीं बदला है बल्कि अन्य रंग भी अपनी नई भूमिका में आक्रामक रूप से उपस्थित हैं। ब्रश के अनियमित 'स्ट्रोक्स' में उस 'सतर्क लापरवाही' को आसानी से पहचाना जा सकता है, जो बाधाएँ पार करते समय दूर-दूर स्थित आधारों पर पाँव जमाने की कोशिश में होता है। आज के मनुष्य की स्थितियाँ क्या इस दशा से भिन्न हैं ?

       मनोज कचंगल के इन चित्रों में भारतीयता की छाप है। यहाँ छाया और प्रकाश का विवर्त गूढ़ रहस्यों की ओर हमें बरबस ही आमंत्रित करता है, यह रहस्य अलौकिक नहीं हैं, इनका सम्बन्ध हमारे जीवन के पर्यावरण से जुड़ा है। यह 'विस्थापन' का दंश है, जो प्रतिदिन हमारी एक-एक मामूली ख्वाहिश की जगह हमें अनचाहे ही मिलता है : "हज़ारों ख़्वाहिशें ऐसी कि हर ख़्वाहिश पे दम निकले" (ग़ालिब)। यह विस्थापन भौगोलिक विस्थापन भर नहीं है, आत्म-विस्थापन भी है। इस विचलन और व्याकुलता को मनोज कचंगल के चित्रों में पहचाना जा सकता है। यह सही राह खोजने का भटकाव है। इसीलिए मनोज को अपनी जड़ों, अपनी परम्परा, इतिहास और अनुभवजन्य अतीत में शरण मिलती है। और विदग्ध रंगमय आसमान में एक सलेटी चन्द्रमा आश्वस्ति की तरह झलकता है।

       कोई भी रचनाकार किसी समस्या का हल नहीं देता, (दे भी नहीं सकता है) बस वो यह करता है कि समस्या को बहुविधि बरत कर घिस देता है. कुछ सहनीय बना देता है. यह एक चर्चित उक्ति मुझे सटीक लगती रही है. मनोज कचंगल विरह की बेचैनी और दूरियों का सघन अंतराल भी रचते है तो यह भी अनुराग का ही एक समर्पण है. मनोज की कला में रंगों का शुद्ध प्रयोग एक प्रकाश की सृष्टि करता है जो हमारे अन्तरंग को उज्ज्वल आभा और मासूमियत से भर देता है. यह मासूमियत आज के चतुर, चपल समय में एक विलुप्त होता संस्कार है. प्रतियोगिताओं का मायाजाल हमें अपनों का ही प्रतिद्वन्द्वी बना देने पर आमादा है. मनोज कचंगल की कृतियों में इस तथाकथित आधुनिक व्यव्हार का बहिष्कार दर्ज है.
       

       एक कोई शोकगीत उनकी रचनात्मक चेष्टाओं में गहरे बजता रहता है, जिसकी धुन मधुर तो है किन्तु उसकी भाषा करुणा का महाख्यान समेटे है. मनोज के एक-एक तूलिकाघात में उनका पूरा आत्मविश्वास दीखता है, इसीलिए उनके चित्रों में एक 'सावधान बेचैनी' है. वे अपने आस पास से ही अपनी रचनाओं का विषय चुनते हैं. जिसका कारक मौसम हो सकता है, कोई विशेष स्थिति-परिस्थिति हो सकती है अथवा मन की ही कोई विशेष भाव-दशा. यह कहना अधिक ठीक होगा कि मनोज अनुभूति की संवेदना को चित्रित करते हैं न कि स्थितियों के तात्कालिक दृश्य को. भावक इन चित्रों को देखते हुए अपने जीवन-जगत से चित्रकार द्वारा सम्पादित कर दिए गए दृश्यों को प्राप्त कर सकता है.

       मनोज कचंगल की कला जगत में उपस्थिति निश्चित रूप से एक प्रतिबद्ध युवा चित्रकार की बनी है. उन्होंने अपनी कला-भाषा और 'स्टाइल' प्राप्त कर ली है. यह देखना सुखद है कि उनके भीतर एक रचनात्मक साहसिकता अब भी सुरक्षित है. अपनी बहुप्रशंसित 'स्टाइल' के दायरे में बँध नहीं गए हैं, इसीलिए मनोज कचंगल नए प्रयोग करते हुए दीखते हैं. मनोज कचंगल के चित्रों की प्रदर्शनी "फ़िउरी ऑफ़ कलर्स " इस अर्थ में प्रशंसनीय है कि यहाँ मनोज की चित्र-भाषा और अनुभूति का दायरा विस्तृत हुआ है. वे उन स्थितियों से साक्षात् कर रहे हैं जो पहले या तो उनकी कला में अनुपस्थित थे या थे तो अल्प थे. प्रदर्शित चित्रों में मनोज का कथन अधिक भाव-प्रवण हुआ है. ऐसा बहुजन जीवन से उनके आत्मिक जुड़ाव और समानानुभूति के कारण संभव हुआ है. तभी उनके इन चित्रों में 'विस्थापन' की पीड़ा है तो साथ ही हिंसक समय में प्रतिवाद की तरह 'प्रेम' और 'प्रकृति'.

       मनोज की कला में प्रकृति-प्रेम पहले भी महत्त्व पाता रहा है किन्तु इन चित्रों में अभिव्यक्ति की भाषा बदली हुई है. हर भाषा के सहारे मनोज कचंगल का चित्रकार प्रकृति की बहुवर्णीयता को प्रदर्शित कर सभी के मन में प्रकृति के प्रति अनुराग उत्पन्न करने की मंगल कामना लिए है. प्रकृति, जो सृष्टि की जननी ही नहीं नियामक भी है. प्रकृति पर बढ़ते हुए ख़तरे और प्राकृतिक संसाधनों की जबरन लूट के बरक्स चित्रकार की इस मंशा को रेखांकित किया जाना आवश्यक है.

       हर चित्रकार एक कवि का ह्रदय रखता है और हर कवि में एक चित्रकार की आत्मा निवास करती है, ऐसा कहा जाता है.शब्द-भाषा निश्चित तौर पर चित्र-भाषा से मुखर होती है. इसका एक कारण यह भी है कि शब्द-भाषा को पढ़ने की विधियाँ ईजाद कर ली गई हैं, जबकि चित्र-भाषा के लिए ऐसी कोई तार्किक सुविधा उपलब्ध नहीं है. मनोज को अपनी चित्र-भाषा की वाग्मिता पर विश्वास है, और उसके प्रभावी अनुनाद पर भी. फिर भी, मनोज कचंगल ने कुछ मार्मिक कविताएँ लिखी हैं जिन्हें पहली बार उनके चित्रों के साथ कैटलाग में प्रकाशित किया गया है. पहली बार दर्शकों को मनोज कचंगल के इस गुण के बारे में जान कर अच्छा लगेगा। उन्हें यह भी पता है कि "ख़ामोशी भी भाषा है", इसीलिए मनोज कचंगल की कविताओं को उनके चित्रकार का पूरक नहीं, बल्कि उनके रचनात्मक व्यक्तित्व में अभिवृद्धि ही कहा जाना उचित होगा।

कुमार अनुपम 

मनोज कचंगल की कुछ कविताएँ यहाँ पढ़ें ! 

       
Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366