ताज़ा ख़बर

कहानी

कविता

धर्मयुग

शेर ओ शायरी

शनिवार, 22 नवंबर 2014

ओम नाम आलोक | Namvar Singh, Om Puri & Aalok Shrivastav


21 नवंबर 2014 को दिल्ली में हिन्दी अकादमी द्वारा 'त्रिवेणी सभागार' में आयोजित एकल-ग़ज़ल पाठ की सफलता भरी मुस्कान से महकते आलोक श्रीवास्तव,साथ  में ओम पुरी (बांये) व प्रो० नामवर सिंह (दांये). 
 
Copyright © 2013 शब्दांकन - साहित्यिक, सामाजिक, साफ़ ई-पत्रिका Shabdankan
Powered byBlogger

© 2013 शब्दांकन में प्रयोग करी गयी तस्वीरें google से ली गयी हैं , यदि वो किसी भी तरह के copyright का उल्लंघन कर रही हैं तो हमें सूचित करें ताकि शब्दांकन से उनको हटाया जा सके