May 2013 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


प्रतिवाद का जवाब - आशुतोष कुमार/ ओम थानवी

Tuesday, May 28, 2013 0
जनसत्ता संपादक श्री ओम थानवी के स्तम्भ ' अनंतर ' में अपने आंशिक जिक्र के प्रतिवाद में श्री आशुतोष कुमार ने एक लम्बा आलेख '...
और आगे...

सौवीं गली का प्रवेश : दिलीप तेतरवे - कहानी (व्यंग्य)

Monday, May 27, 2013 1
साहब, मैं असत्यानंद किस्सागो हूं. अभी जो स्टोरी मैं आपको सुनाने जा रहा हूं, वह सौ प्रतिशत सच है. आप मुझ में विश्वास रखें और इस स्टोरी से...
और आगे...

लघु कवितायें - शैलेन्द्र कुमार सिंह

Monday, May 27, 2013 0
शैलेन्द्र कुमार सिंह एम्.ए.पी-एच .डी(हिंदी ) हिंदी ,प्राध्यापक ,राजकीय वरिष्ठ माद्यमिक विद्यालय , बहोड़ा-कलां गुडगाँव (हरियाणा ...
और आगे...

कवितायेँ: ट्रैफिक रेड सिग्नल - सुमन कुमारी

Monday, May 27, 2013 2
सुमन कुमारी बीएड, एम.ए, हिंदी जर्नलिज्म (डिप्लोमा ) विभिन्न कविता 'लोकसत्य अखबार' 'युध्दरत आम आदमी पत्रिका' 'सं...
और आगे...

आप बहुत याद आए प्रसन्न दा - मज़कूर आलम

Friday, May 24, 2013 0
    आज मैं अपनी बात छह अंधे और एक हाथी की कहानी से शुरू करूंगा। तो कहानी यूं है- किसी गांव में 6 अंधे आदमी रहते थे। एक दिन उन्हें पता चला...
और आगे...

मजरुह सुल्तानपुरी को याद करते - सुनील दत्ता

Friday, May 24, 2013 0
मजरुह सुल्तानपुरी 1 अक्टूबर 1919 − 24 मई 2000 चाक-ए-जिगर मुहताज-ए-रफ़ू है आज तो दामन सिर्फ़ लहू है एक मौसम था हम को रहा है शौक़-ए-...
और आगे...

क्या हमारे मगध की मौलिकता में कुछ कमी है? - अभय कुमार दूबे

Wednesday, May 22, 2013 0
अभय कुमार दूबे के सम्पादन मे " विकासशील समाज अध्ययन पीठ (सीएसडीएस) / वाणी प्रकाशन " से साल मे दो बार प्रकाशित होने वाली पत्रिक...
और आगे...

लिखने से मुझे वह मिलता है जो आपको कभी नहीं मिला – कृष्ण बिहारी

Sunday, May 19, 2013 0
मित्र ! आपके इस लेख पर आने और इसे पढ़ना शुरू करने के कुछ कारण जो मुझे लगते हैं वो... कि आप को - १) हिंदी साहित्य से  लगाव है , २) कृष्ण बि...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator