June 2014 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


प्रोफेसर भी प्रायः अपनी सत्ता का प्रशासन में लोप कर देते हैं - अपूर्वानंद | Design and Study - Apoorvanand

Monday, June 30, 2014 1
डिजाईन और शिक्षा - अपूर्वानंद दिल्ली विश्वविद्यालय के नए कार्यक्रम के साथ गड़बड़ यह हुई कि उसने बाज़ार की फौरी ज़रूरत को पूरा करने वाले कर्...
और आगे...

Forward Press July 2014 फॉरवर्ड प्रेस जुलाई

Saturday, June 28, 2014 0
फारवर्ड प्रेस जुलाई 2014 1. लोकसभा चुनावों का प्रेमकुमार मणि द्वारा बहुजन दृष्टिकोण से मूल्‍यांकन 2. मुस्लिम राजनीति पर अतिफ रब्‍बा...
और आगे...

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

Thursday, June 26, 2014 6
गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतकार गुलज़ार ने कई फ़िल्मों के लिये गीत तो लिखे ही हैं साथ ही उन्ह...
और आगे...

दो अद्भुत कवितायेँ, प्रियदर्शन की | Two Amazing Poems of Priyadarshan

Tuesday, June 24, 2014 0
बांयें से प्रो० पुरुषोत्तम अग्रवाल, प्रियदर्शन, सुश्री सुमन केशरी व भरत तिवारी ए क जन्मदिन पर डॉक्टर इवा हजारी की याद मुझे नहीं माल...
और आगे...

छह साल से चेन्नई ज़िन्दाबाद!- क़मर वहीद नक़वी Chennai has been doing 'This' since 6 years - Qamar Waheed Naqvi

Monday, June 23, 2014 0
राग देश जी हाँ, पिछले छह सालों से, जब भी वहाँ किसी मरीज़ को ऐसी ज़रूरत पड़ी, तो वहाँ ट्रैफ़िक को थाम कर 'ग्रीन चैनल' बनाया गय...
और आगे...

जब प्रो० केदारनाथ सिंह ने 'बनारस' सुनाई.... #knsingh

Saturday, June 21, 2014 0
बनारस केदारनाथ सिंह इस शहर में वसंत अचानक आता है और जब आता है तो मैंने देखा है लहरतारा या मडुवाडीह की तरफ़ से उठता है ...
और आगे...

नज़्में - सचिन राय | Nazm - Sachin Rai

Friday, June 20, 2014 0
वो भूली दास्तां ... एक रात हुआ कुछ ऐसा - कि मेरे बिस्तर पर लेटते ही और नींद के आने से पहले, एक नज़्म उतर आई, मेरी इन बंद आँखों में। ...
और आगे...

नासिरा शर्मा - कहानी: बेगाना ताजिर Hindi Kahani Tajir by Nasera Sharma

Thursday, June 19, 2014 0
बेगाना ताजिर* नासिरा शर्मा * ताजिर = Trader सब कुछ माल की खपत पर होता है । जब ख़रीदार नहीं मिलता तो माल पड़ा रहता है । सारे दरवाज़े...
और आगे...

2014 का सबसे बड़ा सवाल, मुसलमान! - क़मर वहीद नक़वी The Biggest Question of 2014, Musalman! - Qamar Waheed Naqvi

Wednesday, June 18, 2014 0
रागदेश 2014 का सबसे बड़ा सवाल, मुसलमान! - क़मर वहीद नक़वी  बीजेपी को लगता है कि 'हिन्दुत्व' अब बैसाखी के बजाय बाधा ही है. द...
और आगे...

पाँच कवितायेँ - दीप्ति श्री ‘पाठक’ 5 Poems: Deepti Shree 'Pathak' [Hindi-Kavita]

Tuesday, June 17, 2014 1
दीप्ति श्री 'पाठक' वर्तमान में 'हिंदी विभाग काशी हिन्दू विश्वविद्यालय', वाराणसी में हिंदी पत्रकारिता 'स्नातकोत्तर...
और आगे...

ओम थानवी को 'माधवराव सप्रे राष्ट्रीय पत्रकारिता सम्मान' Madhav Rao Sapre National Journalism Award' to Om Thanvi

Monday, June 16, 2014 0
दैनिक समाचार पत्रों की मुख्यधारा की पत्रकारिता में          साहित्य और संस्कृति पर विमर्श और बहस की परंपरा को                           ...
और आगे...

हृषीकेश सुलभ - कहानी: स्वप्न जैसे पाँव | Hindi Kahani: Hrishikesh Sulabh - Swapn Jaise Paanv

Sunday, June 15, 2014 3
सुबह हुई। उसे चाय की तलब लगी। पर उसके पास समय नहीं था।  उसने सोचा, इतने असुरक्षित जीवन में किसी इच्छा का क्या महत्त्व, चाहे वह चाय पीने ...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator